यादव वंश वृक्ष ........

राम अवतार यादव ( साभार )




                                  यादव वंश वृक्ष

 



 संसार के महानतम वंशों में से एक यादव वंश बहुत  विशाल है।  कागज के पन्नो पर  अथवा  ब्लॉग के पन्नों पर इसका  उल्लेख कर पाना असंभव नहीं तो कठिन अवश्य   है। तथापि विभिन्न धार्मिक  और  ऐतिहासिक ग्रंथों के अध्ययन के बाद यहाँ संक्षिप वंश-वृक्ष प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है जिससे आगामी पृष्ठों पर वर्णित  यदुकुल से सम्बंधित विस्तृत लेख समझने में आसानी रहे।  परमपिता स्वयम्भू नारायण को सृष्टि का  रचयिता माना गया  है। अतः विशाल  यादव वंशावली को दर्शाने का यह  कार्य भी  उनसे  आरम्भ किया गया है, जो निम्नलिखित है:-

                            परमपिता स्वयम्भू नारायण 
                                                           से
                                                         ब्रह्मा
                                 ब्रह्मा के सात मानस पुत्र हुए  
       1. मारीचि,       2. अत्रि             3.पुलस्त्य       4. पुलह    5. क्रतु      6.वशिष्ठ     7.कौशिक
                                          |  
                                       चंद्रमा
                                           |
                                         बुध
                                           |
                                        पुरुरवा
                                            |
                                          आयु
                                             |
                                         नहुष
                                             |
                                           य़यति
                         महाराजा ययाति के दो रानियाँ थीं
                              1.देवयानी                    2.शर्मिष्ठा
                देवयानी से दो पुत्र हुए              शर्मिष्ठा से तीन पुत्र हुए
        1. यदु              2.तुर्वशु                   1.दुह्यु    2.अनु       3.पुरु


महाराज यदु से यादव वंश चला। उनके कितने पुत्र थे इस विषय में विभिन्न धर्म ग्रन्थ एकमत नहीं हैं। कई ग्रंथों में उनकी संख्या पाँच बताई गई है तो कई में चार। श्रीमदभागवत महापुराण के अनुसार यदु के  सहस्त्रजित, क्रोष्टा, नल और रिपु नामक चार पुत्र हुए। उनका वंश वृक्ष नीचे दिया गया है:-

                                                      यदु के चार पुत्र  
1. सहस्त्रजित                                     2. क्रोष्टा                            3.नल                       4. रिपु
(सहस्त्रजित के तीन पुत्र)                           |                                      
1. हैहय2.वेणुहय, 3. महाहय               वृजिनवान
     |                                                           |
  धर्म                                                     श्वाही
     |                                                           |
  नेत्र                                                       रुशेकु
     |                                                           |
  कुन्ति                                                 चित्ररथ
      |                                                         |    
सोह्जी                                                   शशविंदु            
      |                                                          |
महिष्मान                                              पृथुश्रवा
        |                                                       |
भद्रसेन                                                   धर्म
       |                                                        |
धनक                                                    उशना
     |                                                         |
कृतवीर्य                                                रुचक
      |                                                         |
अर्जुन                                                     ज्यामघ
      |                                                          |   
जयध्वज                                            विदर्भ
       |                                           (विदर्भ के तीन पुत्र )
तालजंघ                           1 कश,      2. क्रुथ                  3. रोमपाद
       |                                                       |                            |
बीतिहोत्र                                               कुन्ति                   बभ्रु
        |                                                        |                        |
    मधु                                                    धृष्टि                   कृति
                                                                |                         |
                                                           निर्वृति                 उशिक
                                                               |                         |
                                                            दर्शाह                   चेदि
                                                              |
                                                            व्योम
                                                                 |
                                                           जीमूत
                                                                |
                                                           विकृत
                                                                |
                                                           भीमरथ  
                                                               |
                                                            नवरथ
                                                                |
                                                            दशरथ
                                                                  |
                                                             शकुनि
                                                                  |
                                                               करम्भि
                                                                   |
                                                               देवरात
                                                                    |
                                                               देवक्षत्र
                                                                   |
                                                                 मधु
                                                                   |
                                                               कुरूवश
                                                                     |
                                                                  अनु
                                                                     |
                                                                 पुरुहोत्र
                                                                      |
                                                                  आयु
                                                                      |
                                                                  सात्वत  
                                                         सात्वत के सात पुत्र हुए
        1. भजमान,    2. भजि ,    3. दिव्य,    4.वृष्णि ,    5.  देवावृक्ष,     6. महाभोज ,   7. अन्धक
                                                                               |                                                                           |
                                              वृष्णि के दो रानियाँ थीं                                              |
                                    1. गांधारी                            2. माद्री                                                             |
                              गांधारी के एक पुत्र                  माद्री के चार पुत्र                                                   |
                                       सुमित्र                  1.युधर्जित,  2.देवमीढुष,3.अनमित्र, 4.शिनि         |
                                    (अनमित्र)                    |                             |                                                    |
                                         |                               |                             |                                                    |
                                         |                               |                             |                                                    |
                                   निघ्न                       पृष्णि                           |                                                    |
                             निघ्न के दो पुत्र          पृष्णि के  दो पुत्र             |                                                    |
                        1.प्रसेन  2.सत्राजित           |                  |              |                                                     |
                                                                     |                  |              |                                                     |
                                                       1.श्रफल्लक    2.चित्रक          |                                                     |
                                                                 |                 |                   |                                                     |           
                                                           अक्रूर       पृथु व अन्य         |                                                     |
                                                                                                         |                                                     |
                                                                                                         |                                                     |
                                                                                                         |                                                     |
                                                                         देवमीढुष के दो रानियाँ थीं                      |
                                                                          1. मदिषा                        2. वैश्यवर्णा                          |
                                                                                 |                                     |                                       |
                                                                           शूरसेन                             पर्जन्य                                 |
                                                                                 |                                     |                                       |
                                                                                 |                  धरानंद,ध्रुव, नन्द आदि                    |
                                                                                 |                     आदि दस पुत्र हुए                             |
                                                                                 |                                                                               |
                                     वसुदेव       देवभाग      पृथा      श्रुतश्रवा                                                            |
                                        |                 |               |              |                                                                     |
                                        |              उद्धव        पाण्डव    .शिशुपाल                                                         |                                                |                                                                                                                         |
                                        |                                                                                                  अन्धक वंश    )                            बलराम        श्रीकृष्ण                                      अन्धक के चार पुत्र हुए 
                                                |                                          1.कुकुर,    2.भजमन, 3.शुचि, 4.कम्बल्बहिर्ष   
                                          प्रद्युम्न                                            |
                                               |                                              बह्नी
                                          अनिरुद्ध                                         |
                                                |                                         बिलोम
                                          ब्रजनाभि                                       |
                                                                                            कपोतरोमा
                                                                                                  |
                                                                                               अनु
                                                                                                 |
                                                                                            अन्धक
                                                                                                |
                                                                                            दुन्दुभी
                                                                                                |
                                                                                            अरिद्योत
                                                                                                |
                                                                                             पुनर्वसु
                                                                                                 |
                                                                                              आहुक
                                                                                 आहुक के दो पुत्र हुए                                                                                                                        1.देवक             2.उग्रसेन
                                                                                        |                       |
                                                                               देवकी आदि            कंस  आदि

वंशावली से सम्बंधित कुछ तथ्य:-
1.यदुवंशियों का ऋषि गोत्र   'अत्रि ' है और वे चंद्रवंशी क्षत्रिय हैं।

2 . महाराजा ययाति के पाँच पुत्रो  से जो वंशज चले उनका विवरण निम्नलिखित है:-
    i. यदु से यादव
    ii. तुर्वसु से यवन
    iii. दुह्यु से भोज
     iv. अनु से म्लेक्ष
     v.  पुरु से पौरव


3 . महाराज यदु के सहस्त्रजित, क्रोष्टा,नल और रिपु नामक  चार पुत्र  थे। उनके ज्येष्ठ पुत्र   का नाम सहस्त्रजित   था। सहस्त्रजित के  वंशज हैहयवंशी यादव क्षत्रिय कहलाये। इस वंश में आगे चलकर सहस्त्र  भुजाओं से युक्त अर्जुन नामक एक राजा हुए, जो बहुत बलशाली थे। उनकी जीवन गाथा इस ब्लाग के पृष्ठ संख्या 9 पर वर्णित है। यदु के दूसरे पुत्र का नाम क्रोष्टा था। क्रोष्टा के वंश में आगे चलकर सात्वत नामक एक  राजा  हुए। सात्वत के भजमान,.भजि , दिव्य,  वृष्णि ,     देवावृक्ष,   महाभोज ,और  अन्धक नामक सात पुत्र थे । भगवान श्रीकृष्ण  का अवतार वृष्णि वंश में  और उनकी माता देवकी  का जन्म अन्धक वंश में हुआ था।  सात्वत के  सात पुत्रों  में से वृष्णि  और अन्धक  के वंशजों  ने बहुत  ख्याति प्राप्त की। 

4. वसुदेव और नन्द दोनों  वृष्णि वंशी  यादव थे  तथा दोनों  चचेरे  भाई थे। अक्रूर भी वृष्णि -वंशी  यादव थे। वे भगवान कृष्ण के चाचा थे।

 

                यादव जाति की उत्पत्ति के विषय में इतिहास के महान राजा "यदु" (यदुवंश) का नाम लिया जाता है। कई इतिहासकारों के अनुसार "यदुवंश" के लोग ही यादव जाति के पूर्वज थे। यादव वंश मुख्यत आभीर (वर्तमान अहीर), अंधक, व्रष्णि तथा सत्वत नामक समुदायों से मिलकर बना है। इतिहास और प्राचीन ग्रंथों में उपलब्ध कहानियों के अनुसार यादव जाति के लोग भगवान कृष्ण के उपासक थे। 

कुछ इतिहासकारों और कट्टर जातकों के अनुसार भगवान कृष्ण को यादव अहीर जाति का वंशज माना जाता है, लेकिन इस बात का प्रमाण किसी के पास उपलब्ध नहीं है। यादव जाति हिंदू एवं सिख धर्म में विभाजित है, इस जाति के लोग मुख्यतः भारत एवं नेपाल में पाए जाते हैं। भारत में इनकी संख्या काफी बड़ी मात्रा में पाई जाती है, जो कि मुख्यत: उत्तर भारत, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, तमिलनाडु आदि राज्यों में पाए जाते हैं।

यादव (अहीर) व्यवहार एवं दिनचर्या


यादव जाति को क्षत्रिय समुदाय में गिना जाता है, इतिहास की दृष्टि से इस जाति के लोगों का दबदबा रहा है। अहीर जाति की बहादुरी और वीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है, कि जब 1962 में भारत और चीन का युद्ध हुआ था, उस युद्ध के दौरान 13 कुमाऊँ रेजीमेंट को अहीर कंपनी के द्वारा रेजंगल का मोर्चा संभालने का दायित्व दिया गया था। 

इस मोर्चे के दौरान अहीर सैनिकों ने जो पराक्रम और वीरता का प्रदर्शन किया, वह अद्भुत और अकल्पनीय था। यादव सैनिकों का पराक्रम और बलिदान लोगों को आज तक याद है, उनके इस बलिदान को देखते हुए युद्ध बिंदु स्मारक को "अहीर धाम" का नाम दिया गया। वर्तमान समय में भी यादव जाति में दबंग प्रवृत्ति के लोग अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। इस जाति का व्यवहार एवं दिनचर्या गुर्जर और जाट समुदाय के लोगों से मिलताजुलता है।

                                 यादव जाति के शौर्य पुरस्कार विजेता सैनिक




  • ग्रेनेडियर योगेंद्र सिंह यादव, परम वीर चक्र                              

  • कमांडर बी. बी. यादव, महावीर चक्र

  • लांस नायक चंद्रकेत प्रसाद यादव, वीर चक्र

  • मेजर जय भगवान सिंह यादव, वीर चक्र

  • विंग कमांडर कृष्ण कुमार यादव, वीर चक्र

  • नायक गणेश प्रसाद यादव, वीर चक्र

  • पायनियर महाबीर यादव, शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • पैराट्रूपर, सूबे सिंह यादव, शौर्य चक्र

  • नायब सूबेदार राम कुमार यादव, शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • सेप्पर आनंदी यादव, इंजीनियर्स,शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • नायक गिरधारीलाल यादव, शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • हरि मोहन सिंह यादव, शौर्य चक्र

  • नायक कौशल यादव, वीर चक्र

  • जगदीश प्रसाद यादव, अशोक चक्र(मरणोपरांत)

  • सुरेश चंद यादव, अशोक चक्र(मरणोपरांत)

  • स्क्वाड्रन लीडर दीपक यादव, कीर्ति चक्र(मरणोपरांत)

  • सूबेदार महावीर सिंह यादव, अशोक चक्र(मरणोपरांत)

  • नायक कौशल यादव, वीर चक्र

  • जगदीश प्रसाद यादव, अशोक चक्र(मरणोपरांत)

  • सुरेश चंद यादव, अशोक चक्र(मरणोपरांत)

  • स्क्वाड्रन लीडर दीपक यादव, कीर्ति चक्र(मरणोपरांत)

  • सूबेदार महावीर सिंह यादव, अशोक चक्र(मरणोपरांत)

  • पायनियर महाबीर यादव, शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • पैराट्रूपर, सूबे सिंह यादव, शौर्य चक्र[

  • नायब सूबेदार राम कुमार यादव, शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • सेप्पर आनंदी यादव, इंजीनियर्स,शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • नायक गिरधारीलाल यादव, शौर्य चक्र(मरणोपरांत)

  • हरि मोहन सिंह यादव, शौर्य चक्र

  • कैप्टन वीरेंद्र कुमार यादव, शौर्य चक्र[

  • पेटी ऑफिसर महिपाल यादव शौर्य चक्र

  • कैप्टन बब्रू भान यादव, शौर्य चक्र[

  • मेजर प्रमोद कुमार यादव,शौर्य चक्र

  • रमेश चन्द्र यादव, शौर्य चक्र

  • मेजर धर्मेश यादव, शौर्य चक्र[

  • लेफ्टिनेंट मानव यादव,शौर्य चक्र[

  • मेजर उदय कुमार यादव, शौर्य चक्र

  • कैप्टन कृष्ण यादव, शौर्य चक्र

  • कैप्टन सुनील यादव,शौर्य चक्र

  • यादव आर्बेशंकर रजधारी, शौर्य चक्र


यादव जाति की वर्तमान स्थिति


अहीर जाति की वर्तमान स्थिति पहले से बेहतर है, इस जाति के ज्यादातर लोग खेती करते हैं। व्यवसायिक रूप से किसान होने की वजह से इस जाति के लोग गांव एवं देहात इलाकों में रहते हैं। इस जाति के युवा वर्ग का रुझान किसी भी प्रकार की सरकारी नौकरी, भारतीय सैन्य, खेलकूद एवं राजनीति में अधिक है। इस रुझान का प्रतिफल आप भारतीय खेल जगत, भारतीय सैन्य एवं राजनीति में मुलायम सिंह के यादव परिवार के रूप में आसानी से देख सकते हैं।

जातियाँ, उपजातियाँ व कुल गोत्र


यादव' शब्द अनेकों पारंपरिक उपजातियों के समूह से बना है, जैसे कि ' हिन्दी भाषी क्षेत्र' के 'अहीर', महाराष्ट्र के 'गवली', आंध्र प्रदेश व कर्नाटक के 'गोल्ला', तथा तमिलनाडू के 'कोनार' तथा केरल के 'मनियार'। हिन्दी भाषी क्षेत्रों में अहीर,ग्वाला (गवली) तथा यादव शब्द प्रायः एक दूसरे के पर्याय माने जाते हैं । कुछ वर्तमान राजपूत वंश भी स्वयं के यादव होने का दावा करते हैं, तथा वर्तमान यादव भी स्वयं को क्षत्रिय मानते है। यादव मुख्यतः यदुवंशी, नंदवंशी व ग्वालवंशी उपजातीय नामों से जाने जाते है, यादव समुदाय के अंतर्गत 20 से भी अधिक उपजातियाँ सम्मिलित हैं। वे प्रमुखतः ऋषि गोत्र अत्री से है तथा अहीर उपजातियों में अनेकों कुल गोत्र है जिनके आधार पर सगोत्रीय विवाह वर्जित है।