प्रसपा ने जनेश्वर को  किया याद


छोटे लोहिया को भूले तथाकथित समाजवादी - दीपक
जनेश्वर की आत्मा दुखी - शारदा प्रताप


   लखनऊ, 22 जनवरी, बुधवार, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ( लोहिया ) ने छोटे लोहिया जनेश्वर मिश्र की पुण्य-तिथि के उपलक्ष्य में परिचर्चा का आयोजन किया जिसकी अध्यक्षता प्रसपा प्रदेश अध्यक्ष पूर्व विधायक सुंदर लाल लोधी व संचालन छात्र सभा अध्यक्ष दिनेश यादव ने किया । इस अवसर पर प्रसपा राष्ट्रीय महासचिव पूर्व शिक्षा मंत्री शारदा प्रताप शुक्ल ने कहा कि समाजवादी आंदोलन व विचारधारा को सबसे ज़्यादा ख़तरा अपने को समाजवादी कहने वाले ग़ैर-समाजवादियों से है । आज बिखराव के लिए वो दोषी हैं जिन्होंने तात्कालिक लाभ के लिए समाजवाद की अवहेलना की । जनेश्वर के लोगों  की असली पार्टी प्रसपा है । 
जनेश्वर जी के शिष्य व बौद्धिक सभा के अध्यक्ष दीपक मिश्र ने कहा कि राजनीति में अब सार्थक व सारगर्भित बहसों का स्थान व्यक्ति को महिमामंडित करने वाले निरर्थक नारों ने ले लिया । लोकजीवन में शुचिता, सादगी व सैद्धांतिक प्रतिबद्धता जैसे शब्द बेमानी होते जा रहे हैं । पूरी राजनीति चुनाव व वोट केंद्रित हो गई, यही हाल रहा तो राजनीति से लोगों का विश्वास उठ जायेगा । जनेश्वर के लोगों को असली बनाम नक़ली समाजवादी बहस चलानी चाहिए । तथाकथित समाजवादी जनेश्वर जी शिक्षाओं को भूल चुके हैं । उनका रहन-सहन ऐसा हो गया है कि पूँजीवादी व सामंत तक शर्मा जायें । संगोष्ठी को प्रसपा महासचिव रघुनन्दन सिंह काका, परमानंद तिवारी,अलका सिंह, ब्लॉक प्रमुख रंजीत यादव, प्रदेश महासचिव अजय त्रिपाठी, बीनू शुक्ला , सुरेश उपाध्याय , गणेश रावत समेत कई वक्ताओं ने विचार व्यक्त किए ।