पुरुषों में 40 की उम्र के बाद बदलाव

 



   40 की उम्र के बाद पुरूषों के शरीर में भी कई तरह के परिवर्तन होते हैं। इस दौरान शरीर कुछ इस तरह से बदलने लगता है, जिसकी आपको उम्मीद भी नहीं होती। यहां हम आपको उन सभी चीजों के बारे में बताएंगे, जिनसे आपका शरीर 40 साल के बाद बदलना शुरू हो जाता है। देखा जाए, तो उम्र बढ़ने का सबसे ज्यादा असर आपकी त्वचा, सेहत और क्षमता पर पड़ता है। शरीर की सेहत से जुड़ी जरूरतों में बदलाव आता है और इस उम्र को पार करने के बाद स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी घेर लेती हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, 40 वर्ष की उम्र के बाद शरीर का डी जनरेशन शुरू हो जाता है। इसलिए इस उम्र में चेहरे की रौनक को बरकरार रखने और स्वस्थ रहने के लिए अपनी लाइफस्टाइल में छोटे-मोटे बदलाव करना बहुत जरूरी है।


इसके अलावा हेल्दी डाइट की मदद से भी खुद को 40 वर्ष की उम्र में हेल्दी और यंग रखा जा सकता है। तो चलिए, आज हम आपको इस आर्टिकल में 40 के बाद पुरूषों के शरीर में होने वाले बदलावों के बारे में तो बताएंगे ही, साथ ही यह भी बताएगें कि इनसे कैसे निपटा जा सकता है। लेकिन इससे पहले जानिए पुरूषों के लिए 40 की उम्र क्यों महत्वपूर्ण होती है।



मर्दों के लिए 40 की उम्र बहुत महत्व रखती है। एक तरह से इस उम्र में उनका नया जीवन शुरू होता है। इस उम्र में पुरूष मिड लाइफ क्राइसेस यानि मध्य जीवन के संकट के लक्षणों को झेलते हैं, जिसमें डबल चिन की चिंता, बाल पतले होना और खराब दांत, हड्डियाँ कमजोर होना, टेस्टोस्टेरोन लेवल कम होना, कामेच्छा में कमी जैसी समस्याएं शामिल हैं। इस उम्र में पुरूष की कमाई चरम पर होती है और कम से कम उसे एक स्वास्थ्य समस्या (जैसे उच्च रक्तचाप या बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल) रहती ही है।


विशेषज्ञ कहते हैं, कि महिलाओं की तरह पुरूषों को भी इस उम्र में अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना चाहिए। पुरूषों को ध्यान रखना चाहिए, कि 40 के बाद मेटाबॉलिज्म स्लो हो जाता है और शरीर उनके द्वारा की जाने वाली किसी भी चीज से बहुत प्रभावित होता है, इसलिए 40 की उम्र में पुरूषों को कार्डियो फिटनेस के साथ स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज भी करनी चाहिए।



40-65 वर्ष की उम्र में महिलाओं की ही तरह पुरूषों के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं, जो उनके जीवन में नए दृष्टिकोण और नए रास्तों का अवसर प्रदान करते हैं। नीचे जानते हैं, 40 वर्ष की आयु में पुरूषों के शरीर में आने वाले परिवर्तनों के बारे में।


मोटापा बढ़ सकता है


40 की उम्र के बाद आपकी कमर बढ़ सकती है। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे शरीर में कैलोरी की मात्रा कम होने लगती है, जिस वजह से पेट का मोटापे में वृद्धि होती है। इसलिए इस उम्र में अपनी एक्टिविटीज पर ध्यान दें और हिसाब से खाना खाएं।


दिल संबंधी समस्याएं


40 के दौरान आपके दिल के काम करने की क्षमता पर भी असर पड़ता है। इस उम्र में ब्लड की पंपिंग कम हो जाती है, जिस कारण धमनियों में कोलेस्ट्रॉल एकत्रित हो जाता है और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होने लगती है। दिल को स्वस्थ रखने के लिए हमेशा स्वास्थवर्धक भोजन करने की सलाह दी जाती है।मसल्स होते हैं कमजोर


40 की उम्र की पार होते ही पुरूषों की बॉडी की मसल्स बनाने की क्षमता बहुत कम हो जाती है, जिसे लाम कहते हैं। इसके कारण शरीर मसल्स को अधिक ऑक्सीजन नहीं दे पाता, जिससे मसल्स जल्दी रिपेयर नहीं होते।


अल्कोहल के सेवन में कमी


ऐसा हर पुरूष के साथ नहीं होता, लेकिन 40 की उम्र पार करने के बाद कई पुरूषों का शराब पीना कम हो जाता है। उम्र बढ़ने के साथ लीवर कमजोर होने लगता है, जिस वजह से अल्कोहल का चयापचय करना कठिन हो जाता है और हो सकता है कि इस उम्र में आप दवाओं का सेवन भी कर रहे हों। ऐसे में दवाओं से अल्कोहल को चयापचय करने में मुश्किल हो सकती है।



सेक्सुअल परफॉर्मेंस में आती है कमी


जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, सेक्सुअल परफॉर्मेंस में कमी आने लगती है। 40 के बाद पुरूषों के शरीर में टेस्टोस्टेरोन का प्रोडक्शन कम होने लगता है और आपकी इन चीजों के प्रति दिलचस्पी कम होने लगती है।


मेटाबॉलिज्म में बदलाव


40 की उम्र पार कर जाने के बाद वजन कम होने लगता है, जिससे मसल्स लॉस होना तेज हो जाता है, जिससे मेटाबॉलिज्म भी स्लो होने लगता है। कई रिसर्च से पता चला है, कि 16 औंस पानी पीने के 10 मिनट के भीतर मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद मिलती है।


शरीर का लचीलापन होगा कम

40 के बाद पुरूषों की बॉडी में फ्लेक्सेबिलिटी में कमी आना स्वभाविक है। समय के साथ आपके हाथ व पैरों में दर्द की शिकायत बढ़ जाती है, जिससे शरीर में लचीलापन खत्म हो जाता है। इस समस्या से बचने के लिए बहुत ज्यादा देर तक एक ही जगह पर न बैठे रहें और हर दिन स्ट्रेचिंग और योग जरूर करें।


प्रोस्टेट कैंसर का खतरा


40 के होने के बाद कई पुरूषों में प्रोस्टेट कैंसर के लक्षण दिखाई देना शुरू हो जाते हैं। जैसे पेशाब में जलन, रात में ज्यादा पेशाब आना आदि। इस बीमारी को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। सही समय पर लक्षणों का पता चलने पर तुरंत इलाज कराना चाहिए।


याददाश्त होती है कम


ममोरी की शार्पनेस 40 साल की उम्र के बाद कम हो सकती है। इस दौरान चीजों और बातों को याद रखना बहुत मुश्किल हो जाता है। 2012 में हुए एक अध्ययन में पाया गया कि 40 की उम्र के बाद पुरूषों की याददश्त कम होने लगती है।


बालों का झड़ना


कई शोध बताते हैं, कि 40 के बाद आपके बाल पतले होने लगेंगे। लेकिन यहां, ये ध्यान रखना महत्वपूर्ण है, कि यह अनुवांशिकी पर निर्भर करता है। वैसे तो उम्र बढ़ने पर बालों का झड़ना आम समस्या है, लेकिन आप बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए विविस्कल और बायोटीन सप्लीमेंट्स का सेवन कर सकते हैं।


सुनने की क्षमता में आती है कमी


40 के दशक की शुरूआत होते ही लोगों के सुनने की क्षमता कम हो जाती है। यदि आप शुरू से ही संगीत समारोह, गायन से जुड़े हुए हैं, तो ये आपके कानों पर बहुत तनाव डालता है, जिसका असर 40 के बाद देखने को मिलता है।


प्रजनन क्षमता में कमी


महिला हो या पुरूष दोनों में 40 के बाद प्रजनन क्षमता कम हो जाती है। पुरूषों में शुक्राणु की गुणवत्ता उम्र के साथ कम हो जाती है। यदि पुरूष 45 वर्ष से अधिक उम्र का है, तो ऐसे में उस पुरुष से गर्भवती हुयी महिला को गर्भपात की संभावना ज्यादा होती है। विशेषज्ञों के अनुसार, 40 वर्ष की आयु तक प्रजनन क्षमता मात्र 5 प्रतिशत ही रह जाती है।