12 फरवरी को आजमगढ़ में हुई पुलिसिया हिंसा के पीड़ितों से मिलेंगी कांग्रेस महासचिव

 सीएए/एनआरसी के खिलाफ आंदोलन में पुलिसिया हिंसा पर कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी जी की शिकायत पर यूपी के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक तलब
 मानवाधिकार आयोग ने कहा गंभीर आरोप, 6 सप्ताह में दें जबाब
 

      लखनऊ, 10 फरवरी, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी व अन्य कांग्रेस नेतागण के शिकायत पर नागरिकता संशोधन अधिनियम/एनआरसी के खिलाफ चल रहे शांतिपूर्ण-लोकतांत्रिक आंदोलन के दौरान पुलिसिया हिंसा और उत्पीड़न पर यूपी के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को मानवाधिकार आयोग ने नोटिस भेजा है।
    राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को तलब करते हुए 6 सप्ताह के भीतर जबाब मांगा है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियांका गांधी को पत्र भेजकर अवगत कराया है कि उनकी शिकायत पर कार्यवाही हो रही है।
गौरतलब है कि सीएए/एनआरसी के खिलाफ चल रहे शांतिपूर्ण आंदोलनों पर उत्तर प्रदेश की पुलिस ने बर्बर तरीके से दमन और उत्पीड़न किया है। कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी जी आंदोलनकारियों से जाकर मिलीं और पुलिसिया आंतक की कहानी सुनीं। इसके बाद महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी जी और श्री राहुल गांधी जी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल 27 जनवरी को मानवाधिकार आयोग से मिलकर शिकायत दर्ज करवाई।
    उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी ने बताया कि पिछले दिनों आजमगढ़ के बिलरियागंज में शांतिपूर्ण तरीके से चल रहे आंदोलन का पुलिस ने बर्बर तरीके से दमन किया। 12 फरवरी को महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी जी आजमगढ़ पहुंचकर पीड़ितों से मुलाकात करेंगी।