संयुक्त राष्ट्र वल्र्ड फूड प्रोग्राम


      दिनांक 25.02.2020 को संयुक्त राष्ट्र वल्र्ड फूड प्रोग्राम, भारत के उच्च स्तरीय प्रतिनिधि मण्डल तथा उत्तर प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के मध्य साझेदारी सुदृढ़ किए जाने के सम्बन्ध में बैठक आयोजित हुई। बैठक में राजेन्द्र कुमार तिवारी, मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश शासन, श्रीमती निवेदिता शुक्ला वर्मा, प्रमुख सचिव, खाद्य एवं रसद, उत्तर प्रदेश शासन, मनीष चैहान, आयुक्त, खाद्य एवं रसद विभाग व  सुनील कुमार वर्मा, अपर आयुक्त, खाद्य एवं रसद विभाग उपस्थित रहे तथा वल्र्ड फूड प्रोग्राम की ओर से बिसाउ पराजुली, प्रतिनिधि कंट्री डायरेक्टर,  अंकित सूद,  सुनील देवसी तथा  रंजीत बाबू, डब्लू.एफ.पी. द्वारा बैठक में प्रतिभाग किया गया।
     वल्र्ड फूड प्रोग्राम के प्रतिनिधि द्वारा माननीय मुख्यमंत्री के नेतृत्व में खाद्य एवं रसद विभाग, उ0प्र0 में तकनीकी अनुप्रयोगों के द्वारा वितरण प्रणाली को सुदृढ़ एवं पारदर्शी बनाए जाने की दिशा में उठाए गए कदम की प्रशंसा की। विभाग द्वारा 14.9 करोड़ लाभार्थियों की पहचान सुनिश्चित करने हेतु 91 प्रतिशत आधार सीडिंग का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। आम जनमानस की सूचनाओं हेतु विभागीय पोर्टल, आई.वी.आर.एस. आधारित काॅल-सेंटर संचालित है। कार्डधारकों को प्रदेश की किसी भी उचित दर दुकान से अपना खाद्यान्न प्राप्त करने का अधिकार प्रदेश स्तरीय पोर्टेबिलिटी सुविधा द्वारा प्रदान किया गया है। गोदामों से उठने वाले खाद्यान्न को परिवहन जी.पी.एस. ट्रैकिंग द्वारा माॅनीटर किया जाता है। प्रत्येक उचित दर दुकान पर ई-पाॅस मशीन के माध्यम से वितरण कराया जा रहा है, जिससे गत ढाई वर्षों में रू0 1552 करोड़ की सब्सिडी बचत सम्भव हुई है।बैठक में विभाग को तकनीकी क्षेत्र में प्रदान किए गए सहयोग हेतु वल्र्ड फूड प्रोग्राम को धन्यवाद दिया गया। प्रतिनिधि डब्लू.एफ.पी. द्वारा सरकार को धन्यवाद देते हुए भविष्य में पूर्ण सहयोग प्रदान करते रहने का आश्वासन दिया गया जिससे खाद्य एवं पोषण सुरक्षा के वृहद् सामूहिक लक्ष्य की प्राप्ति सम्भव हो सके।