देश की अर्थव्यवस्था को 05 ट्रिलियन डाॅलर बनाने में  उत्तर प्रदेश की होगी अहम भूमिका: रक्षा मंत्री

 

      मुख्यमंत्री ने डिफेन्स एक्स्पो में उत्तर प्रदेश डिफेन्स 

इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर पर आयोजित संगोष्ठी को सम्बोधित किया।मुख्यमंत्री ने निवेशकों एवं उद्यमियों को डिफेन्स काॅरिडोर के माध्यम से प्रदेश के विकास में भागीदार बनने के लिए आमंत्रित किया।राष्ट्रीय राजधानी से सीधा जुड़ा होेने के कारण यहां राष्ट्रीय राजमार्ग, एक्सपे्रसवेज तथा वायु सेवा की बेहतर कनेक्टिविटी उपलब्ध,निवेश आकर्षित करने और नये उद्यमों की स्थापना के लिए राज्य सरकार प्रदेश के परसेप्शन में बदलाव लाने में सफल रही है।प्रदेश के महानगरों को स्मार्ट एवं सेफ सिटी के तौर पर विकसित किया जा रहा है।

    लखनऊ 06 फरवरी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश सम्भावनाओं वाला प्रदेश है। राष्ट्रीय राजधानी से सीधा जुड़ा होेने के कारण यहां राष्ट्रीय राजमार्ग, एक्सपे्रसवेज तथा वायु सेवा की बेहतर कनेक्टिविटी उपलब्ध है। ईस्टर्न एवं वेस्टर्न फ्रेट काॅरिडोर उत्तर प्रदेश से गुजरते हैं। दोनों का जंक्शन भी प्रदेश स्थित बोड़ाकी में होता है।
    आज यहां डिफेन्स एक्सपो-2020 के अवसर पर उत्तर प्रदेश पवेलियन में यूपीडा और फिक्की के संयुक्त तत्वावधान में उत्तर प्रदेश डिफेन्स इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर द्वारा आयोजित संगोष्ठी में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। संगोष्ठी के आयोजन के लिए फिक्की एवं यूपीडा के प्रयासों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि दोनों संस्थाओं ने प्रदेश में विकसित किये जा रहे डिफेन्स इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर को आगे बढ़ाने के लिए डिफेन्स एक्सपो के इस मंच का सार्थक उपयोग किया है।मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में उपलब्ध सम्भावनाओं को गति देने की दृष्टि से हमारे लिए डिफेन्स काॅरिडोर अत्यन्त महत्वपूर्ण है। प्रदेश सरकार ने इस सम्बन्ध में एक नीति बनायी है, जिसमें निवेशकों के लिए बहुत अच्छी सुविधाओं की व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा, उद्यमों की स्थापना के लिए भूमि उपलब्ध कराने के लिए लैण्ड बैंक बनाया गया है।


     फरवरी, 2018 में सम्पन्न उत्तर प्रदेश इन्वेस्टर्स समिट में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने प्रदेश में एक डिफेन्स इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर की स्थापना कराये जाने की घोषणा की थी। निवेशकों एवं उद्यमियों को डिफेन्स काॅरिडोर के माध्यम से प्रदेश के विकास में भागीदार बनने के लिए आमंत्रित करते हुए उन्होंने कहा कि निवेशकों का यह प्रयास उत्तर प्रदेश के विकास तथा रक्षा उत्पादन के क्षेत्र में भारत को आत्म निर्भर बनाने के साथ-साथ उनके कारोबार में वृद्धि का भी माध्यम बनेगा।



         (उत्तर प्रदेश सम्भावनाओं वाला प्रदेश: मुख्यमंत्री)
       डिफेन्स एक्सपो-2020 के आयोजन के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के प्रति आभार व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि डिफेन्स एक्सपो को एक यूनिक इवेन्ट के रूप में प्रस्तुत किये जाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार भारत सरकार को पूरा सहयोग प्रदान कर रही है।
      निवेश आकर्षित करने और नये उद्यमों की स्थापना के लिए राज्य सरकार प्रदेश के परसेप्शन में बदलाव लाने में सफल रही है। उद्योग स्थापना के लिए अनुकूल माहौल बनाने में प्रदेश की बेहतर कानून व्यवस्था तथा निवेश को प्रोत्साहित करने वाली 21 नीतियों की बड़ी भूमिका है। विगत 02 वर्षाें में उत्तर प्रदेश में 2.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश हुआ है, जिससे 33 लाख से अधिक रोजगार की सम्भावनाएं पैदा हुई हैं।
     मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के महानगरों को स्मार्ट एवं सेफ सिटी के तौर पर विकसित किया जा रहा है। भारत सरकार द्वारा पूरे देश में चयनित 100 स्मार्ट सिटी में से 10 उत्तर प्रदेश में हैं। राज्य के शेष 07 नगर निगम वाले शहरों को प्रदेश सरकार अपने स्रोतों से विकसित कर रही है। उन्होंने कहा कि इस कार्य में निवेशकों के लिए अपार सम्भावनाएं हैं। इसी प्रकार जल जीवन मिशन के माध्यम से पेयजल आपूर्ति का बड़ा कार्यक्रम प्रारम्भ होने जा रहा है। पहले चरण में बुन्देलखण्ड क्षेत्र में 10 हजार करोड़ रुपये की लागत से अगले महीने कार्य प्रारम्भ किया जाएगा।         बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य इसी माह प्रारम्भ हो जाएगा। इस परियोजना के लिए बिड प्रक्रिया पूरी करते हुए भूमि की व्यवस्था कर दी गयी है। मेरठ से प्रयागराज को जोड़ने वाले गंगा एक्सप्रेस-वे का सर्वे कार्य पूरा हो गया है। डी0पी0आर0 तैयार की जा रही है। प्रयास रहेगा कि इस परियोजना का कार्य इस वर्ष के अन्त तक प्रारम्भ हो जाए।  
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्ष 2017 से पहले प्रदेश में 02 हवाई अड्डे क्रियाशील थे। वर्तमान में गोरखपुर सहित 06 हवाई अड्डों से हवाई सेवा उपलब्ध है। उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि पहले गोरखपुर से नियमित वायु सेवा उपलब्ध नहीं थी, जबकि आज वहां से दिल्ली, मुम्बई, प्रयागराज, कोलकाता तथा हैदराबाद के लिए बोइंग विमान से वायु सेवा उपलब्ध है। जेवर में एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा बनाया जा रहा है। वर्तमान में कुशीनगर में एक अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट तथा अयोध्या में एक हवाई अड्डे के लिए कार्य चल रहा है। एच0ए0एल0 के डोर्नियर विमान का देश में पहली बार उत्तर प्रदेश में वायु यात्री सेवा में उपयोग होने जा रहा है। अभी तक इस विमान का भारतीय वायु सेना तथा कोस्टगार्ड द्वारा ही उपयोग किया जाता था।  
   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में प्रयागराज में कुम्भ का सफल आयोजन कराया गया। वर्ष 2013 के महाकुम्भ में 12 करोड़ लोगों ने स्नान किया था, जबकि वर्ष 2019 में आयोजित कुम्भ में 25 करोड़ श्रद्धालु आये। इस आयोजन ने क्राउड मैनेजमेन्ट तथा सेनिटेशन का आदर्श उदाहरण प्रस्तुत किया। प्रयागराज कुम्भ-2019 ने स्वच्छता, सुरक्षा एवं सुव्यवस्था की दृष्टि से दुनिया के सामने मानक स्थापित किया।
    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इण्डस्ट्री कैप्टन्स से प्रदेश में निवेश करने का आह्वान करते हुए कहा कि यहां पर निवेशकों के लिए अनेक सुविधाएं और अवसर उपलब्ध हैं। राज्य के विकास के प्रति मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की प्रतिबद्धता का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि वे हमेशा भेंट के दौरान यहां प्रगति और रोजगार के नवीन अवसरों के बारे में चर्चा अवश्य करते हैं। उन्होंने कहा कि किसी संगठन या संस्था के प्रमुख में जब उत्साह एवं उमंग होती है तो बड़ी से बड़ी चुनौती का सफलतापूर्वक सामना किया जा सकता है।




   रक्षा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने वर्ष 2024 तक भारत की अर्थव्यवस्था को 05 ट्रिलियन डाॅलर बनाने का लक्ष्य रखा है। वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था के धीमा पड़ जाने के बावजूद भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की फास्टेस्ट ग्रोइंग इकोनाॅमी है। उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को 05 ट्रिलियन बनाने में उत्तर प्रदेश की प्रमुख भूमिका है।
औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना ने कहा कि डिफेन्स इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर में निवेश को प्रोत्साहन देनेे के दृष्टिगत राज्य में उत्तर प्रदेश डिफेन्स एण्ड एरोस्पेस यूनिट एण्ड एम्प्लाॅयमेन्ट प्रमोशन पाॅलिसी लागू की गयी है। डिफेन्स मैन्युफैक्चरिंग के क्षेत्र में भारत अब एक उभरता हुआ देश है। राज्य सरकार द्वारा डिफेन्स इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर के लिए लैण्ड बैंक की व्यवस्था की गई है। इस काॅरिडोर में निवेश का यह सुनहरा अवसर है। राज्य सरकार सभी निवेशकों के साथ पूरा सहयोग करेगी। इससे बड़े पैमाने पर रोजगार सृजित होगा।
    यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी प्रदेश में उपलब्ध सम्भावनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रदेश से 02 इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर, 02 फ्रेट काॅरिडोर एवं 01 वाटर-वे गुजरते हैं। देश में एक्सप्रेस-वे का सबसे विशाल नेटवर्क यहां उपलब्ध हैं। रक्षा उत्पादन से जुड़ी सर्वाधिक इकाइयां हमारे राज्य में हैं। इनमें 09 आॅर्डनेन्स फैक्टरी तथा एच0ए0एल0 की 03 इकाइयां शामिल हैं। इण्डस्ट्रियल काॅरिडोर में निवेश आकर्षित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा लागू नीति में निवेशकों को अनेक सुविधाएं उपलब्ध करायी हैं। उन्होंने कहा कि डिफेन्स काॅरिडोर के सम्बन्ध में डिफेन्स एक्सपो-2020 के दौरान हस्ताक्षरित होने वाले एम0ओ0यू0 को इस माह के अन्त तक क्लीयर कर दिया जाएगा।
    फिक्की के ग्रुप प्रेसिडेन्ट एयरोस्पेस एण्ड डिफेन्स श्री एस0पी0 शुक्ला ने अतिथियों का स्वागत किया। प्रमुख सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास श्री आलोक कुमार ने धन्यवाद ज्ञापित किया।इस अवसर पर मुख्यमंत्री एवं रक्षा मंत्री को 10-10 वृक्षों के ग्रीन सर्टिफिकेट भेंट किये गये।इस मौके पर प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एस0पी0 गोयल, आई0आई0डी0सी0 आलोक टण्डन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।