मिल गेट के किसानो का पेड़ी गन्ना न ख़रीदे जाने से नाराज किसानों ने लिया उग्र प्रदर्शन का निर्णय

       अनिल कुमार मिश्रा 


भेलसर(अयोध्या)तहसील रूदौली क्षेत्र के मिल गेट के किसानो का पेड़ी गन्ना न ख़रीदे जाने से नाराज किसानों के उग्र प्रदर्शन के निर्णय के बाद सोमवार को गन्ना समिति गनौली में किसानों की बैठक संपन्न हुई।बैठक में जिला गन्ना अधिकारी ऐके सिंह,जनरल महाप्रबंधक गन्ना राम इकबाल सिंह,सचिव गन्ना समिति संजय कुमार,गन्ना निरीक्षक भूपेंद्र पाठक,भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश सचिव दिनेश दुबे और किसानो की साथ में  मिल गेट के गन्ना किसानों का पेड़ी गन्ना खेत में खड़े रहते पौधा गन्ना खरीदे जाने का मामला उठा।
भाकियू के प्रदेश सचिव ने कहा कि मिल की छमता 80 हजार कुंतल प्रतिदिन पेराई करने की है।जबकि रोजा गांव चीनी मिल 65 हजार कुंतल गन्ने की पेराई प्रतिदिन कर रही है।15 हजार कुंतल प्रतिदिन कम पेराई करने से मिल गेट के किसानों का पेड़ी गन्ना खेत में खड़ा है।मिल गेट के किसानों का गन्ना मिल नहीं खरीद रही है बेसिक कोटा समाप्त कर दिया गया है। बैठक में प्रदेश सचिव ने कहा कि किसानों का पेडी गन्ना समाप्त न होने तक पौधा गन्ना न खरीदा जाये। रौजागाव चीनी मिल के महाप्रबंधक गन्ना राम इकबाल सिंह ने बताया कि किसान यूनियन और किसानों के साथ हुई बैठक में मिल गेट के किसानों का पेड़ी गन्ना खेतों में खड़ा होने की बात सामने आई थी।एक सप्ताह तक पेडी गन्ना खरीदे जाने का निर्णय लिया गया है।मिल गेट के 46 प्रतिशत के इंडेंट को बढ़ाकर 49% किए जाने का निर्णय लिया गया है। जिला गन्ना अधिकारी एके सिंह ने बताया बताया कि किसानों की घटतौली,रैन बसेरा,शौचालय जैसी मांगे सामने आई थी।इन सभी मांगों को पूरा कराने के निर्देश मिल प्रशासन को दिए गए हैं।उन्होंने बताया  की मिल एक सप्ताह तक पेड़ी गन्ना की पर्ची पर गन्ना खरीदेगी।उन्होंने यह भी कहा की पौधे गन्ने को लेकर आने वाले गन्ना  किसानों का पौधा गन्ना भी खरीदा जाएगा।इस दौरान पेड़ी गन्ना की पर्ची पर पौधा गन्ना लेकर आने वालों गन्ने को वापस नहीं किया जाएगा।बैठक में राजकरण यादव,मोहम्मद खालिद,मेवालाल,रमेश कुमार मिश्रा,विकास तिवारी आदि मौजूद रहे।