मुख्यमंत्री ने सीताराम महायज्ञ कार्यक्रम में भाग लिया

 


    अयोध्या 23 फरवरी,  मुख्यमंत्री फटिक सिला पर ब्रह्मलीन नारायण दास महाराज जी की स्मृति में आयोजित सीताराम महायज्ञ कार्यक्रम में भाग लिया। उक्त अवसर पर मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि अयोध्या एक पावन धरती है इसका सप्तपुरियोें में प्रथम स्थान है। विगत 500 वर्षों में श्री राम जन्मभूमि आंदोलन के लिए अनेकों महापुरुषों ने अपनी आहुति दी जिसमें महंत रामचंद्र परमहंस, योगी अवैध नाथ जी, अशोक सिंघल, आचार्य गिरिराज किशोर सहित ब्रह्मलीन स्वामी नारायण दास जी का बहुत योगदान है। आज इस अवसर पर मैं इस कार्यक्रम में उपस्थित श्री सुरेश दास जी श्री धर्मदास जी एवं इस कार्यक्रम के आयोजक पीठाधीश्वर श्री सुखदेव दास जी आदि का आभार प्रकट करता हूं तथा आवाहन करता हूं कि श्री राम जन्म भूमि के निर्माण क्षेत्र माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के आलोक में हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्रीय सरकार ने जो पहल किया है वह एक सराहनीय कदम है तथा आम जनमानस, आम श्रद्धालु एवं माननीय संतों के आशीर्वाद से भव्य मंदिर बनेगा जो विश्व में अनोखा होगा सभी के सहयोग के लिए आवाहन करते हैं तथा आशीर्वाद चाहते हैं। श्री राम जन्मभूमि आंदोलन के अमर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं माननीय मुख्यमंत्री जी ने मीडिया के सहयोग की सराहना की है।