पारिवारिक न्यायालय में 05 परामर्शदातों की होगी नियुक्ति

         लखनऊ 12 फरवरी,अपर प्रधान न्यायाधीश, पारिवारिक न्यायालय लखनऊ जितेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि माननीय उच्च न्यायालय के इलाहाबाद के अनुपालन में पारिवारिक न्यायालय में कुल 05 परामर्शदातों की नियुक्ति की जानी है।उन्होंने बताया कि आवेदक समाज शास्त्र या मनोवैज्ञानिक में से किसी एक विषय में से स्नातक की डिग्री रखता हो और समाज सेवा का अनुभवी हो, जो आवेदक सामाजिक कार्य में मास्टर डिग्री धारक हो और पारिवारिक काउन्सिलिंग में दो वर्ष  का अनुभव रखता हो उसे वरीयता दी जायेगी, आवेदक की आयु आवेदन पत्र प्रस्तुत करने की दिनांक को 35 वर्ष से 65 वर्ष के मध्य हो, परामर्शदाता का कार्यकाल तीन वर्ष का होगा। परामर्शदाता के पद पर नियुक्ति शासकीय सेवा में नियुक्ति नहीं मानी जायेगी, न्यायालय से संविदा के आधार पर सम्बद्ध रहेगें, नियुक्ति परामर्शदाता को शासनादेश के अनुसार नियत मानदेय देय होगा।उन्होंने बताया कि जो पुरूष अथवा महिला इस पद पर नियुक्त होने के इच्छुक हो वे अपना आवेदन पत्र अपने शैक्षिक एवं अनुभव प्रमाण पत्रों की छाया प्रति सहित दिनांक 28.02.2020 तक प्रशासनिक कार्यालय जिला जज लखनऊ में पंजीकृत डाक अथवा व्यक्तिगत रूप  से प्रेषित कर सकते है।


त्रुटियों के संशोधन-
     जिला समाज कल्याण अधिकारी लखनऊ डाॅ0 अमर नाथ यति ने बताया कि प्रमुख सचिव समाज कल्याण उ0प्र0 दिनांक 29.01.2020 के द्वारा अनुसूचित जाति/अनुसूचित जन जाति एवं सामान्य वर्ग के उच्च कक्षाओं में अध्ययनरत छात्र/छात्राओं को त्रुटियों के संशोधन करने हेतु दिनांक 11.02.2020 से 17.02.2020 तक निर्धारत की गयी है।उन्होंने बताया कि निर्धारित समय सारिणी निम्नवत् है प्रक्रियात्मक कार्यवाही- सन्देहास्पद डाटा को कारणों सहित छात्र संस्था एवं कल्याण अधिकारियों के लागिन पर प्रदर्शित किया जाना स्वीकृत कराना एवं छात्र/छात्रा द्वारा आनलाइन आवेदन में की गयी त्रुटियों को छात्र/छात्रा ठीक करके पुनः आवेदन आनलाइन सबमिट किया जाना, प्रस्तावित समयावधि- 11 फरवरी से 16 फरवरी 2020 तक,
उन्होंने बताया कि प्रक्रियात्मक कार्यवाही- आनलाइन आवेदन की त्रुटियों को ठीक करके छात्र/छात्राओं द्वारा समस्त वांछित संलग्नकों सहित शिक्षण संस्थान में किया जाना, प्रस्तावित समयावधि- आवेदनपत्र भरने के तुरन्त बाद विलम्बतम 17 फरवरी 2020 तक।उन्होंने बताया कि अतः छात्र/छात्राओं को सूचित किया जाता है कि तत्काल आनलाइन छात्रवृत्ति आवेदनपत्र में की गयी त्रुटियों का संशोधन कर आवश्यक संलग्नकों सहित निर्धारित समय सीमा में अपने शिक्षण संस्थान में जमा करें।