संत गाडगे जी की जयन्ती कांग्रेस मुख्यालय में


     लखनऊ 23 फरवरी, उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी अनुसूचित जाति विभाग द्वारा संत गाडगे जी की जयन्ती कांग्रेस मुख्यालय में मनायी गयी। इस मौके पर संत गाडगे जी के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया गया। जिसमें अनु0जाति विभाग के लोगों द्वारा बढ़चढ़कर हिस्सा लिया गया।
     इस अवसर पर अनु0जाति विभाग के राष्ट्रीय प्रभारी श्री प्रदीप नरवाल ने कहा कि संत गाडगे एक महान समाज सुधारक, कर्मयोगी और निरन्तर दीन, हीन, दुखियों की सेवा में लगे रहे और सामाजिक उत्थान के लिए प्रयत्नरत रहे। साथ ही सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ भी लड़ते रहे। उन्होने कहा कि गाडगे जी का मानना था कि ईश्वर हर मानव के अन्दर निहित है। इसलिए मानव समाज की सेवा परमोधर्म है। ईश्वर मंदिर, मस्जिद, तीर्थ स्थानों में नहीं मिलता बल्कि हर मानव के अन्दर विद्यमान है। इस कारण से उन्होने चिकित्सालय, गोशालय, विद्यालय, छात्रावास और धर्मशालाएं बनाकर गरीबों की मदद करते रहे। वह स्वयं भी स्वच्छता केा बहुत महत्व देते थे और सफाई के जनक कहे जाते थे। यह उनका परम उद्देश्य था कि सभी शिक्षित हों और रोजगारपरक हों। आज देश की आत्मा संविधान का क्षरण किया जा रहा है। देश की मूल भावना पर बार-बार प्रहार किया जा रहा है। नौजवान बेरोजगार घूम रहे हैं। आज संत गाडगे जी की विचारधारा एवं उनके द्वारा दिये गये उपदेशों केा आत्मसात करने की आवश्यकता है।कार्यक्रम में प्रमुख रूप से पूर्व विधायक राम सजीवन निर्मल, के0के0 आनन्द, श्रीमती सिद्धि , विषम सिंह, अशोक कुमार, गोपाल दास कटेरिया, प्रदीप कनौजिया, प्रदीप सिंह, अनीस अंसारी, नरेन्द्र गौतम, मुकेश सिंह, मनीश कश्यप, श्रीनाथ, श्री हीरालाल शास्त्री, चन्दन आदि तमाम कांगे्रसजन मौजूद रहे।