संत गाडगे जी मोदी के प्रेरणा श्रोत थे - स्वतंत्र देव सिंह



      लखनऊ 23 फरवरी, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने आज वाराणसी के राजा चेतसिंह किला में आयोजित संत गाडगे के 144 वीं जयन्ती समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोलते  हुए कहा कि महाराष्ट्र के इस संत ने स्वच्छता का संदेश दिया। पीएम मोदी ने इस संत से प्रेरणा ली और  देशभर में स्वच्छता का मुहिम चलाया। संत गाडगे जी समाज सुधारक थे। वे 20वीं शताब्दी के समाज सुधारकों में अग्रगण्य हैं।
     प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि संत गाडगे जी ने देश को एक सूत्र में बांधने का काम किया है। ऐसे संत सामाजिक समरसता के प्रतीक थे। वे निष्काम कर्म योगी थे। सामाजिक कल्याण का काम भिक्षा मांग कर किया। धर्मशालाएं बनवाईं। कम आयु में आधी रात को गृह त्याग कर समाज सेवा की ओर अग्रसर हो गए थे। उन्होंने गांव-गांव में स्वच्छता की अलख जगाई। सफाई से लोगों की सामाजिक सोच बदल जाती है। स्वच्छता अभियान चलाया। शाम को कीर्तन के माध्यम से सामाजिक सुधार की प्रेरणा देते थे।

स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि नरेंद्र मोदी  जी देवतुल्य व्यक्ति हैं। गाडगे बाबा ने सामाजिक असमानता की जमकर खिलाफत की थी। संत गाडगे जी ने जातिवाद, छुआछुत, ऊंचनीच, अन्याय एवं भेदभाव के विरुद्ध सामाजिक क्रांति की शुरुआत की थी। वे यातनाएं सहने के बाबजूद भी अपने सुधारवादी रास्ते से पीछे नहीं हटे।उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के साथ सम्पूर्ण देश में स्वच्छता को लेकर जनजागरण करके भिक्षा मांग-मांग कर धर्मशालाएं, विद्यालय और अस्पताल बनवाने वाले समाज और राष्ट्र के लिए अद्भुद त्यागी पूज्य शिरोमणी संत श्री गाडगे जी महाराज की जयन्ती पर उनको मैं करबद्ध नमन करता हूँ ।इस अवसर पर क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश श्रीवास्तव, जिला अध्यक्ष वाराणसी विद्यासागर राय, प्रदेश मंत्री शंकर गिरी, रजनीश कन्नौजिया एवं रमेश चैधरी प्रमुख रूप से उपस्थित थे।