तारुन के बालापुर निवासी गन्ना डायरेक्टर सहित पत्नी,बहु,बेटे के नाम फर्जी खतौनी पर बने सट्टे का मामला पहुँचा गन्ना आयुक्त के पास 


    -राम जनम यादव
तथ्य छुपाकर फर्जी खतौनी के सहारे समिति कर्मियों की साठगांठ से परिजनों के नाम सट्टा बनवाने में आरोपित तारुन के बालापुर निवसी गन्ना डायरेक्टर बुरे फसते नजर आ रहे हैं। दोषी लोगो पर बिभागीय कार्यवाही की तलवार लटकने लगी है।प्रकरण की शिकायत गन्ना आयुक्त के पास होते ही बिभाग में हड़कंप मच गया है। अपने को कार्यवाही की जद में घिरता देख आरोपित लोगो के नाम बने सट्टे को आनन फानन में समिति ने ब्लाक कर दिया हैं।समिति सचिव मुकेश पाण्डेय ने बताया कि शिकायत मिलते ही गन्ना डायरेक्टर राम प्रसाद वर्मा ,उनके बेटे जैनेन्द्र ,पत्नी श्यामा देवी,बहू चांदनी के नाम बने सट्टे की खतौनी मांगी गई थी जिसे इन लोगो ने उपलब्ध नही कराया ।इस लिए सभी के नाम बने सटटो को ब्लाक कर दिया गया है। सचिव श्री पाण्डेय ने बताया कि गन्ना डायरेक्टर के नाम 62 पर्ची,बेटे के नाम 21पर्ची,बहू के नाम 8 पर्ची,तथा पत्नी के नाम 6 पर्ची का सट्टा समिति द्वारा बना था।
यह शिकायत राघवराम, संदीप , राम बुझारत, सुशील,अखण्ड निवासीगण बालापुर व जयसिंहमऊ ने गन्ना आयुक्त को ऑनलाइन शिकायत की थी। शिकायतकर्ताओं का आरोप है कि उपरोक्त लोग गन्ना किसानों से औने पौने दाम पर गन्ना खरीद का कारोबार करते हैं।
उधर गन्ना डायरेक्टर के बेटे जैनेन्द्र वर्मा ने कहा कि सभी शिकायत झूठी व मनगढंत है आरोपित लोग खतौनी धारक है ।बेशी कोटा के आधार पर उपज बढ़ोत्तरी के तहत सभी लोगो का सट्टा बना है। मुझसे खतौनी मांगी गई थी जिसे हमने जिला गन्ना अधिकारी को उपलब्ध करा दिया है। प्रकरण को लेकर हलचल तेज हो गई हैं।