बीजेपी सरकार के 3 साल पूरे होने के जश्न में उत्तर प्रदेश का आम नागरिक ठगा महसूस कर रहा-अंशू अवस्थी

         उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार तो सत्ता पाने के 3 साल पूरे करने का जश्न मना रही है लेकिन जिन बातों और वादों पर विश्वास करके UP की जनता-जनार्दन ने विशाल जनादेश दिया था वह वादे और संकल्प सब अधूरे हैं
    सरकार बनने पर पूरे प्रदेश को उम्मीदें थी लेकिन 3 साल पूरे होने लोगों को अब यह विश्वास हो गया है कि इस सरकार से कुछ होने वाला नही,नौजवानों को 5 साल में 70 लाख नौकरी/रोजगार देने का वादा था लेकिन *उत्तर प्रदेश की बेरोजगारी दर देश की बेरोजगारी की दर से ज्यादा है.
         मुख्यमंत्री के बिगड़े बोल *ठोंक दो* कीवजह से बेगुनाहों और मासूमों को फर्जी एनकाउंटर में अपनी जान गवानी पड़ी
            महिलाओं के प्रति जिस तरह अत्याचार बढ़े हैं उस पर सुप्रीम कोर्ट तक ने सरकार को फटकार लगायी, *उन्नाव शाहजहांपुर की घटनाओं में सरकार बलात्कारियों के साथ खड़ी हुई और आगे महिलाओं पर अत्याचार रोकने के बजाय उन अपराधों पर पर्दा डालती रही.
      किसान को कर्जमाफी की बात की गई लेकिन 2 रुपये,3 रुपये और 80 रुपये की ऋण माफी कर उनके साथ भद्दा मजाक किया गया, *आवारा पशुओं से फसलों की बर्बादी पर कई किसानों ने आत्महत्या की लेकिन सरकार ने कोई ठोस कदम नही उठाये, गौशालाएं प्रतीकात्मक बनाकर सरकार ने इति श्री कर ली.नौकरी की परीक्षाओं में पेपर लीक के साथ पैसे लेकर नौकरी दी गयी,
    गड्ढा मुक्त सड़क अभियान, DHFL घोटाला, होमगार्ड ड्यूटी घोटाला, बेसिक शिक्षा में घोटाला में हुए भ्रष्टायचार को सरकार ने कार्यवाही करने के बजाय छिपाने का काम किया और तो और हमारे पत्रकार साथियों द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ लिखने पर उन पर मुकदमे तक लिखे गए उन्हें जेल में डाला गया
भाजपा सरकार ने 3 साल के कार्यकाल में उत्तर प्रदेश में जंगलराज और उल्टा प्रदेश बनाकर छोड़ दिया है.