दो अप्रैल तक बाहरी श्रद्धालुओं का अयोध्या में आगमन प्रतिबंधित, मंदिरों भीड़ के इकठ्ठा होने पर रोक 


 2 अप्रैल तक सरयू में सामूहिक स्नान पर भी लगी रोक, होटलों की एडवांस बुकिंग रद्द, 25 मार्च से 2 अप्रैल तक अयोध्या में चलता है रामनवमी मेला, लाखों श्रद्धालुओं की होती है आमद.
   अयोध्या, 21 मार्च, रामनवमी मेले में लाखों श्रद्धालुओं की आमद के मद्देनजर कोरोना वायरस के संक्रमण को रोने के लिए डीएम ने अपनी विशेष शक्तियों का प्रयोग करते कुछ प्रतिबंध लगाये है। दो अप्रैल तक बाहरी श्रद्धालुओं का अयोध्या में आगमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। सरयू में सामूहिक स्नान पर रोक साथ मंदिरों में भीड़ का जमा होना प्रतिबंधित रहेगा। जिलाधिकारी अनुज कुमार झा का कहना है कि मंदिरों में होने वाले किसी भी अनुष्ठान, पूजा या आरती में प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। कहीं ताला भी नहीं लगाया जायेगा। पुजारी व संत पहले की भांति पूजन करेंगे। केवल भीड़ जुटने को प्रतिबंधित किया गया है। 
 उन्होने बताया कि अयोध्या के अगल बगल के जनपदों से रामनवमी के अवसर पर भारी भीड़ उमड़ती है। जिसमें लखनऊ, बाराबंकी, सुल्तानपुर, अम्बेडकरनगर, अमेठी, बस्ती, गोण्डा, बलरामपुर, बहराइच, श्रावस्ती, प्रतापगढ़, रायबरेली, संतकबीरनगर, गोरखपुर, कुशीनगर, सिद्धार्थनगर, महाराजगंज, आजमगढ़ व मऊ के जिलाधिकारी व एसएसपी तथा एसपी को पत्र लिखकर इसके सम्बंध जागरुक करने के लिए कहा गया है। जिससे वह स्वतः अयोध्या का रुख न करें। श्रद्धालुओं को जनपद के बार्डर पर रोककर उनके स्थलों पर वापस भेजा जायेगा। सभी होटलों की एडवांस बुकिंग को रद्द कर दिया गया है। अब कोई एडवांस बुकिंग भी नहीं होगी। उन्होने बताया कि 100 टीमें सेनेटाईज्ड करने के लिए लगायी गयी है। अयोध्या के मंदिरां को भी सेनेटाईज्ड किया जा रहा है। रामनवमी मेले को देखते हुए संतों व धर्मगुरुओं से बातचीत किया गया। जिसमें संतो के द्वारा अपील भी जारी की गयी।