कोरोना के पाॅजिटिव 55 मामलों में से 14 पूर्णतया स्वस्थ होकर डिस्चार्ज :अमित मोहन प्रसाद

‘‘कोरोना वारियर्स‘‘ का हर तरह से सहयोग करने का आह्वान,राजधानी कोविड हास्पिटल में अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप समस्त आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध,527 धार्मिक एवं स्वैच्छिक संस्थाओं द्वारा कुल 1,37,058 लोगों को उपलब्ध कराये गये फूड पैकेट्स 3,23,59,501 राशन कार्ड धारकों के सापेक्ष 1,94,44,201 को खाद्यान्न वितरित, निःशुल्क श्रेणी के कुल 70,96,415 राशन कार्ड धारकों के सापेक्ष 

35,843 को खाद्यान्न वितरित,8552 लोगों के माध्यम से 10,44,080 लीटर दूध वितरित ,4642 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज, कुल 14115 अभियुक्तों के सापेक्ष 9864 अभियुक्त गिरफ्तार ,10,097 वाहनों पर लाउडस्पीकर एवं 2118 वाहनों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से लोगों को किया जा रहा जागरूक,सीएम हेल्प-लाइन के माध्यम से 58752 ग्राम प्रधानों एवं 12000 से अधिक पार्षदों से किया गया सम्पर्क,श्रमिकों की समस्याओं के निराकरण हेतु केरल, तमिलनाडु एवं नार्थ-ईस्ट के भी प्रभारी नामित,निजी चिकित्सालयों, विभिन्न संस्थानों एवं स्कूलों का आइसोलेशन व क्वारेंटाइन बेड्स हेतु किया जाएगा उपयोग- अपर मुख्य सचिव, सूचना

 

          लखनऊ 28 मार्च, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा यह निर्देश दिये गये हैं कि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने आज एस0जी0पी0जी0आई0 लखनऊ में स्थापित राजधानी कोविड अस्पताल नाम से बने एवं अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस वहां के आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया तथा चिकित्सालय में विभिन्न संसाधनों की उपलब्धता की जानकारी प्राप्त की। अपर मुख्य सचिव सूचना, श्री अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने अपने भ्रमण के दौरान चिकित्सा कर्मियों से मरीजों के क्वारेंटाइन के बारे में जानकारी लेते हुए इस बात का विशेष बल दिया है कि कोरोना उपचार से जुड़े सभी चिकित्सा कर्मियों के लिए जीरो प्रतिशत इंफेक्शन सुनिश्चित किया जाए। इसके लिए मुख्यमंत्री जी ने संक्रमण से बचाव संबंधी सभी आवश्यक उपकरण एवं वस्त्र उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिये गये। श्री अवस्थी ने बताया कि राजधानी कोविड हास्पिटल में अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप समस्त आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध हैं। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश मूल के अन्य प्रदेशों में कार्यरत श्रमिकों की समस्याओं के निराकरण हेतु पूर्व में 12 प्रदेशों के प्रभारी बनाये गये वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों के क्रम में केरल, तमिलनाडु एवं नार्थ-ईस्ट के भी प्रभारी नामित कर दिये गये हैं।

     श्री अवस्थी आज लोक भवन स्थित मीडिया सेन्टर में मीडिया प्रतिनिधियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के यह निर्देश कि प्रदेश में कोई भूखा न रहे के क्रम में आधुनिक सुविधाओं से युक्त कम्युनिटी किचन संचालित हैं जिनके द्वारा प्रतिदिन हजारों की संख्या में फूड पैकेट्स तैयार कराकर वांछित लोगों को निर्बाध रूप से उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इस क्रम में प्रदेश में 527 धार्मिक एवं स्वैच्छिक संस्थाओं द्वारा कुल 1,37,058 लोगों को फूड पैकेट्स उपलब्ध कराये गये। उन्होंने बताया कि माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा डोर-टू-डोर व्यवस्था को सुदृढ़ बनाये जाने पर बल दिया गया है ताकि लोगों को आवश्यक सामग्री की आपूर्ति सुगमता से होती रहे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में डोर-स्टेप-डिलीवरी व्यवस्था के अन्तर्गत 8833 स्टोर क्रियाशील हैं जिनके माध्यम से 16,905 डिलीवरी ब्वाॅय आवश्यक सामग्री निरंतर पहुंचा रहे हैं।
मीडिया प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए अपर मुख्य सचिव, सूचना श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेशवासियों को आवश्यक वस्तुओं की किसी भी प्रकार की कमी न हो, फल एवं सब्जी उपलब्ध कराये जाने के लिए कुल 26,298 वाहनों की व्यवस्था की गयी है जिनमें 8285 मोबाइल वैन, ई-रिक्शा व टैªक्टर एवं 18,013 ठेला-हस्तचलित गाड़ी शामिल हैं। इसी क्रम में कुल 15,89,086 लीटर दूध उपार्जन के सापेक्ष 10,44,080 लीटर दूध का वितरण 8552 लोगों के माध्यम से किया गया है। मुख्यमंत्री जी के निर्देशों के क्रम में खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा प्रदेश में कुल 3,23,59,501 राशन कार्ड धारकों के सापेक्ष 1,94,44,201 को खाद्यान्न वितरण किया गया। अंत्योदय कार्ड धारक सहित निःशुल्क श्रेणी के कुल 70,96,415 राशन कार्ड धारकों के सापेक्ष 35,843 को खाद्यान्न वितरण किया गया।
श्री अवस्थी ने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में 4642 लोगों के विरूद्ध धारा 188 के तहत एफआईआर दर्ज की गई। कुल 14115 अभियुक्तों के सापेक्ष 9864 अभियुक्त गिरफ्तार किये गये। इसके अतिरिक्त कुल 466582 वाहनों की सघन चेकिंग की गई जिनमें से 115650 वाहनों का चालान किया गया और 9293 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 23597674 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। साथ ही 31350 वाहनों को आकस्मिक सेवाओं के लिए परमिट जारी किए गए। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश के समस्त जनपदों में 10,097 वाहनों पर लाउडस्पीकर एवं 2118 वाहनों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से लोगों को इस महामारी से बचाव हेतु जागरूक किया जा रहा है।
अपर मुख्य सचिव गृह ने यह भी बताया कि विगत दो सप्ताह में देश के बाहर अथवा अन्य प्रदेशों से आये व्यक्तियों की पहचान कर उन्हें 14 दिनों तक घर में रहने की सख्त हिदायत के दृष्टिगत सीएम हेल्पलाइन के माध्यम से 58752 ग्राम प्रधानों से सम्पर्क किया गया है, साथ ही शहरी क्षेत्र में 12000 से अधिक पार्षदों से भी सम्पर्क किया गया। उन्होंने बताया कि अब तक लाॅक डाउन के कारण से आ रही कुल 11912 समस्याएं मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर नोट कराई गई हैं जिनका प्राथमिकता के आधार पर समाधान सुनिश्चित किया गया है।
     प्रेसवार्ता के दौरान प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अभी तक प्रदेश में कोरोना के 55 मामले पाॅजिटिव पाये गये हैं, जिसमें से 14 मरीज पूर्णतया स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किये जा चुके हैं अवशेष 41 मरीज विभिन्न चिकित्सालयों में उपचाराधीन हैं एवं किसी भी मरीज की हालत गंभीर नहीं है। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश में 08 टेस्टिंग लैब क्रियाशील हैं और शीघ्र ही झांसी में भी 01 लैब क्रियाशील हो जायेगी। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश में अब तक मात्र 13 जनपदों में ही कोरोना पाॅजिटिव मरीज मिले हैं।
प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि प्रदेश में सरकारी चिकित्सालयों में 5000 से अधिक आइसोलेशन बेड तैयार हैं जिन्हें बढ़ाकर 15000 किये जाने का लक्ष्य है जबकि 6000 बेड कोरेनटाइन के लिए तैयार किये गये हैं। उन्होंने बताया कि आवश्यकता पड़ने पर निजी चिकित्सालयों, विभिन्न संस्थानों एवं स्कूलों का आइसोलेशन व क्वारेंटाइन बेड्स की स्थापना हेतु उपयोग किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अन्य देश व प्रदेश से आये लोगों के सर्विलांस पर फोकस है।