कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित


    कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाये।जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न प्रचार-माध्यमों से लोगों से सोशल डिस्टेन्सिंग अपनाने तथा भीड़भाड़ के स्थानों पर जाने से परहेज करने की अपील की जाये।दिशा-निर्देशों को न मानने पर सम्बन्धित के विरुद्ध नियमानुसार विधिक कार्रवाई सुनिश्चित करायी जाये।सोशल मीडिया और बाजारों में कोरोना के कारण शहर की सब्जी मण्डियां और राशन की दुकानें बंद होने वाली हैं, ऐसी अफवाह फैलाने वालों से जिला प्रशासन द्वारा सख्ती से निपटा जाये।आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी तथा कालाबाजारी पर कड़ी कार्रवाई की जाये।प्रदेश में फल-सब्जी एवं अन्य खाद्य सामग्री की कमी नहीं।कोरोना संक्रमण के उपचार एवं रोकथाम से सम्बन्धित दवाओं,कीटाणुनाशक वस्तुओं एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं की नियमित माॅनीटरिंग कर चिकित्सा संस्थानों में इनकी पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये।
हैण्ड सैनेटाइजर, मास्क एवं कीटाणुनाशक वस्तुएं (डिसइन्फेक्टेंट कन्टेंट) के मैन्युफैक्चरर्स से उत्पादन क्षमता बढ़ाने हेतु अनुरोध किया जाये।हैण्ड सैनेटाइजर, मास्क एवं कीटाणुनाशक वस्तुएं बनाने के इच्छुक मैन्युफैक्चरर्स को नियमानुसार शीघ्रातिशीघ्र लाइसेंस निर्गत किया जाये।सचिवालय की विभिन्न भवनों की हर फ्लोर की दिन में कम से कम दो बार साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये।आवश्यक बैठकें वीडियो काॅन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से की जाये: मुख्य सचिव


स्वस्थ व्यक्ति को ट्रिपल लेयर एवं एन-95 मास्क को लगाने की आवश्यकता नहीं,खांसी, जुकाम के मरीज व अन्य व्यक्ति आवश्यकतानुसार कपड़े एवं पेपर का भी मास्क बनाकर प्रयोग कर सकते हैं: डाॅ0 मिथिलेश चतुर्वेदी, निदेशक, संचारी रोग


    लखनऊ 20 मार्च, उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव श्री राजेन्द्र कुमार तिवारी ने निर्देश दिये हैं कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाये। इसके प्रसार की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन द्वारा विभिन्न प्रचार-माध्यमों से लोगों से सोशल डिस्टेन्सिंग अपनाने तथा भीड़भाड़ के स्थानों पर जाने से परहेज करने की अपील की जाये। उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा यह सुनिश्चित कराया जाये कि माॅल्स, सुपरमार्केट इत्यादि पर लोग अनावश्यक रूप से घूमने न आयें। दिशा-निर्देशों को न मानने पर सम्बन्धित के विरुद्ध नियमानुसार विधिक कार्रवाई सुनिश्चित करायी जाये।
मुख्य सचिव ने यह निर्देश आज लोक भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये सम्बन्धित विभागों के साथ बैठक कर आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया और बाजारों में कोरोना के कारण शहर की सब्जी मण्डियां और राशन की दुकानें बंद होने वाली हैं, ऐसी अफवाह फैलाने वालों से जिला प्रशासन द्वारा सख्ती से निपटा जाये। आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी तथा कालाबाजारी पर कड़ी कार्रवाई की जाये। लोगों से से अपील की जाये कि वह किसी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न दें। प्रदेश में फल-सब्जी एवं अन्य खाद्य सामग्री की कमी नहीं है।
    मुख्य सचिवने कहा कि कोरोना संक्रमण के उपचार एवं रोकथाम से सम्बन्धित दवाओं, कीटाणुनाशक वस्तुओं एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं की नियमित माॅनीटरिंग कर चिकित्सा संस्थानों में इनकी पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये। उन्होंने कहा कि हैण्ड सैनेटाइजर, मास्क एवं कीटाणुनाशक वस्तुएं (डिसइन्फेक्टेंट कन्टेंट) के मैन्युफैक्चरर्स से उत्पादन क्षमता बढ़ाने हेतु अनुरोध किया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि हैण्ड सैनेटाइजर, मास्क एवं कीटाणुनाशक वस्तुएं बनाने के इच्छुक मैन्युफैक्चरर्स को नियमानुसार शीघ्रातिशीघ्र लाइसेंस निर्गत किया जाये।
     मुख्य सचिव ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम विभाग को निर्देश दिये कि पंजीकृत उत्पादकों से हैण्ड सैनेटाइजर, मास्क एवं कीटाणुनाशक वस्तुओं का उत्पादन करने हेतु अनुरोध किया जाये तथा जेलों में अधिक से अधिक मात्रा में मास्क का निर्माण कराया जाये। जेलों में बंद कैदियों को मा0 न्यायालय में सुनवाई हेतु भेजने के स्थान पर वीडियो काॅन्फ्रेन्सिंग के माध्यम सुनवाई करायी जाये तथा जेलों में निरुद्ध बंदियों को परिजनों से मिलने में कमी लायी जाये।
   मुख्य सचिव ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से परहेज करने तथा विवाह आदि सामाजिक कार्यक्रमांे में शामिल होने पर प्रोटोकाॅल के अनुसार लोगों से दूरी बनायी रखने हेतु जागरूक किया जाये। कोरोना संक्रमण से रोकथाम के लिये मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा ने 22 मार्च को जनता कफ्र्यू का आह्वान किया गया है, जिसको सफल बनाने हेतु जिला प्रशासन द्वारा लोगों से अपील की जाये। ग्राम प्रधानों से भी अपील की जाये कि वह ग्रामवासियों को कोरोना वायरस के प्रति जागरूक करें कि वह अगले एक हफ्ते तक अनावश्यक शहर न जायें। उन्होंने चिकित्सा सेवायें एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग को निर्देश दिये कि चिकित्सा संस्थानों में नियमित (रुटीन) ओ0पी0डी0 को बंद कर दिया जाये तथा इमरजेन्सी सेवाओं को चालू रखा जाये। उन्होंने कहा कि ऐसी सर्जरी जो एक माह के लिये टाला जा सकता है, उन्हें पोस्टपोन कर दिया जाये।
   मुख्य सचिव ने समस्त अपर मुख्य सचिवों, प्रमुख सचिवों एवं सचिवों को निर्देश दिये कि सचिवालय में मुलाकात करने हेतु दैनिक पास अपरिहार्य स्थिति में ही निर्गत किये जायें। आवश्यक बैठकें वीडियो काॅन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से की जाये। वीडियो काॅन्फ्रेन्सिंग की व्यवस्था न उपलब्ध होने पर वीडियो काॅलिंग एप का प्रयोग किया जाये। उन्होंने सचिवालय प्रशासन विभाग को निर्देश दिये कि वह सचिवालय की विभिन्न भवनों की हर फ्लोर की दिन में कम से कम दो बार साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाये तथा हर फ्लोर की साफ-सफाई की व्यवस्था के अनुश्रवण हेतु संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी को नोडल अधिकारी नामित किया जाये।
    निदेशक संचारी रोग डाॅ0 मिथिलेश चतुर्वेदी ने बताया गया कि प्रदेश में 23 लोगों में कोरोन संक्रमण की पुष्टि हुई है, जिसमें से 08 लोगों का उपचार कर डिसचार्ज किया जा चुका है। स्वस्थ व्यक्ति को ट्रिपल लेयर एवं एन-95 मास्क को लगाने की आवश्यकता नहीं है। हेल्थ केयर वर्कर जो कोरोना के संदिग्ध मरीजों को देख रहे हैं, उनके लिये ही ट्रिपल लेयर एवं एन-95 मास्क आवश्यक है। खांसी, जुकाम के मरीज व अन्य व्यक्ति आवश्यकतानुसार कपड़े एवं पेपर का भी मास्क बनाकर प्रयोग कर सकते हैं।
   अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सचिवालय प्रशासन  महेश कुमार गुप्ता, प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य  अमित मोहन प्रसाद, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा  रजनीश दुबे, प्रमुख सचिव एम0एस0एम0ई0  नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव चीनी उद्योग  संजय आर0 भूसरेड्डी, मण्डलायुक्त लखनऊ  मुकेश मेश्राम, जिलाधिकारी लखनऊ  अभिषेक प्रकाश सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।