मुख्यमंत्री आरोग्य मेले एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान का शुभारम्भ

 



     मुख्यमंत्री ने उ0प्र0-बिहार सीमा पर जनपद कुशीनगर में मुख्यमंत्री आरोग्य मेले एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान का शुभारम्भ किया,समाज के प्रत्येक तबके को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का संचालन।प्रदेश में अब तक मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से 01 लाख पुत्रियां तथा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना से 02 लाख 60 हजार कन्याएं लाभान्वितजनपद में शीघ्र ही मेडिकल काॅलेज की स्थापना की जाएगी, जिससे जनपदवासियों को इलाज हेतु दूर नहीं जाना पड़ेगा: मुख्यमंत्री

 

महिला सशक्तिकरण एवं सुरक्षा के क्षेत्र में हम सभी के मिलकर कार्य करने से सार्थक परिणाम मिलेंगे

         लखनऊ 08 मार्च,  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज उ0प्र0-बिहार सीमा पर जनपद कुशीनगर में मुख्यमंत्री आरोग्य मेले एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान का शुभारम्भ किया। उन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की बधाई देते हुए कहा कि 02 फरवरी से मुख्यमंत्री आरोग्य मेला प्रारम्भ किया गया है, जो अनवरत चलता रहेगा। उन्होंने कहा कि इस मेले का उद्देश्य समाज के प्रत्येक तबके को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराना है। इसके माध्यम से एक ही स्थान पर पोषण सुविधा, निःशुल्क जांच, दवा वितरण तथा गोल्डेन कार्ड बनाए जा रहे हैं, ताकि पात्र लाभार्थियों को विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित किया जा सके।
मुख्यमंत्री ने जनपद के विकासखण्ड हाटा के अहिरौली राय में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणा एवं सहयोग से देश में बेटे और बेटियों में भेद खत्म किए जाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना लागू की गई है। इसके तहत बेटियों के जन्म से लेकर पूरी शिक्षा प्राप्त करने तक विभिन्न चरणों में सरकार द्वारा 15 हजार रुपए दिए जाने का प्राविधान किया गया है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत पुत्रियों के विवाह हेतु 51 हजार रुपए प्रदान किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा प्रदेश में अब तक मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना से 01 लाख पुत्रियांे तथा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना से 02 लाख 60 हजार कन्याओं को लाभान्वित किया गया है। उन्होंने पोषण मिशन के प्रचार-प्रसार पर जोर देते हुए कहा कि इसके लिए अलग से कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है। यह कार्यक्रम 15 दिन बाद अमल में लाया जाएगा, जिसमें आशा बहुओं, आंगनबाड़ी कार्यकत्र्रियों को केन्द्र पर पहुंचकर अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी।


 



     मुख्यमंत्री ने कहा कि कभी जनपद कुशीनगर इंसेफ्लाइटिस से पूरी तरह प्रभावित था तथा मुसहरों की दुर्दशा देखने को मिलती थी, लेकिन आज कुशीनगर  का क्षेत्र पर्यटन, इण्टरनेशनल एयरपोर्ट सहित मेडिकल कॉलेज से शीघ्र परिपूर्ण होकर अपनी अलग पहचान बनने की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि 03 वर्षों में केन्द्र सरकार के सहयोग से इंसेफ्लाइटिस जैसी भयावह बीमारी से 70 प्रतिशत काबू पाया जा चुका है तथा इससे प्रभावित बच्चों की मृत्यु दर में 90 प्रतिशत कमी हुई है।
    मुख्यमंत्री ने प्लास्टिक के उपयोग पर सभी का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कहा कि इसके प्रयोग से पर्यावरण दूषित होने के साथ ही स्वास्थ्य पर गहरा दुष्प्रभाव पड़ता है। उन्होंने आमजन से प्लास्टिक के प्रयोग को पूर्णतया बन्द करने का आह्वान किया। उन्होंने स्वच्छता के सम्बन्ध में आम जनमानस से अपील की कि कहीं भी जल-जमाव न होने दें, छिड़काव कराते रहें।
    मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस के प्रति सभी को आगाह करते हुए कहा कि इससे डरने की जरूरत नहीं है। सभी जनपदों में इसके लिए अलग जांच व उपचार हेतु निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा यह बीमारी छूने से हो सकती है। इसके लिए बार-बार साबुन से हाथ धोते रहें। उन्होंने आगामी होली के त्योहार को शांतिपूर्ण ढंग से एवं उत्साह के साथ मनाने को कहा। उन्होंने हुड़दंग व कीचड़ आदि से बचने सहित स्वच्छता के प्रति जागरूक रहने पर जोर दिया।
      मुख्यमंत्री ने कहा कि कुशीनगर इण्टरनेशनल एयरपोर्ट का कार्य प्रगति पर है, जिसे शीघ्रता से पूर्ण कराने हेतु जिला प्रशासन को निर्देशित किया गया है। यहां से सर्वप्रथम डोमेस्टिक उड़ाने की जाएंगी, तत्पश्चात इण्टरनेशनल उड़ाने भी होंगी। उन्होंने कहा कि जनपद में शीघ्र ही मेडिकल काॅलेज की स्थापना की जाएगी, जिससे जनपदवासियों को इलाज हेतु दूर नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण एवं सुरक्षा के क्षेत्र में हम सभी केे मिलकर कार्य करने से सार्थक परिणाम मिलेंगे।इस अवसर पर कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।