सी-प्लान एप, थाना स्तर पर बने डिजिटल वालेंटियर ग्रुप

         सी-प्लान एप, थाना स्तर पर बने डिजिटल वालेंटियर ग्रुप व 18 हजार सार्वजनिक स्थानो पर वाले पेन्टिंग कर लिखे गये पुलिस अधिकारियों के नम्बरों के माध्यमों से नोवेल कोरोना वायरस पर निगरानी रखने में मिल रही है मदद।


1. सी-प्लान ऐप के माध्यम से बीट आरक्षी अपनी बीट में पड़ने वाले प्रत्येक गाँव के 10 सम्भ्रान्त व्यक्तियों के मोबाइल नम्बर ऐप में सेव करके रखते हैं जो अपराध एवं कानून व्यवस्था सम्बन्धी सूचना से पुलिस की मदद करते हैं।
2. बीट आरक्षी प्रत्येक गाँव से सम्भ्रान्त व्यक्तियों को फोन करके क्षेत्र की जानकारी लेता है। जैसे आपके गाँव में अनजान संदिग्ध लगने वाले व्यक्ति के बारे में, कोई झगड़ा या विवाद, क्षेत्र में किसी गैर कानून कार्य के बारे में तथा किसी पर अपराधी से सम्बन्धित क्रियाकलाप के बारे में। अब इस जानकारी में कोई विदेश से आये नागरिकों के बारे में भी जानकारी की जा रहा है।
3.  झूठी भ्रामक बातों का खण्डन करना, छोटे-मोटे विवादो का समाधान, साम्प्रदायिक सौहार्द बढाना, जनपद व पुलिस के बीच की दूरी कम करना , घटना की तत्काल जानकारी पुलिस को प्रदान करना यही सी-प्लान के उद्देश्य हैं।
4.  सी-प्लान पर प्रत्येक बीट आरक्षी प्रतिदिन 1 से 5 व्यक्ति से बात करता है, तथा लोगो से जानकारी साझा करता है व जागरूक करता है। सी-प्लान एप के माध्यम से अधिक से अधिक जानकारी ली जा रही है।


इसके अतिरिक्त थाने स्तर पर बने डिजीटल वालेंटियर वाट्सअप ग्रुप के माध्यम से आम लोगो के बीच संक्रमण के बारे में जानकारी शेयर किया जा रहा है जिससे आम जन द्वारा पुलिस से सीधे संवाद किया जा रहा है तथा अन्य विभिन्न सूचना, सुझाव तथा शिकायत साझा किया जा रहा है । जनपद के 18 हजार सार्वजनिक स्थानो पर वाले पेन्टिंग कर लिखे गये पुलिस अधिकारियों के नम्बरों से आम जन द्वारा दी गयी सभी प्रकार की सूचनाओं पर भी लगातार सतर्क दृष्टि रखी जा रही है।