सीमावर्ती राज्यों में उत्तर प्रदेश के निवासियों से यथा स्थान पर ठहरने हेतु इलेक्ट्राॅनिक मीडिया प्रिण्ट,  मीडिया, सोशल मीडिया तथा अन्य माध्यमों से अपील की जाये: मुख्य सचिव

  लोगों को जागरूक किया जाये कि उनके आवागमन से भारत सरकार द्वारा घोषित किये गये लाॅकडाउन का उल्लंघन होगा तथा कोविड-19 के संक्रमण फैलने की संभावना और अधिक हो जायेगी.
प्रदेश में श्रमिकों तथा अन्य कर्मियों के एक जनपद से दूसरे जनपद में आवागमन को रोका जाये, उनके ठहरने, भोजन एवं पेयजल की व्यवस्था शेल्टर होम्स, यूनिवर्सिटी के हाॅस्टल इत्यादि में करायी जाये.


लखनऊ 27 मार्च, मुख्य सचिव ने कहा कि सीमावर्ती राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर उनके राज्य में उत्तर प्रदेश के निवासियों के लिये यथा स्थान पर ठहरने तथा भोजन आदि की व्यवस्था कराने का अनुरोध किया गया है। सीमावर्ती राज्यों में उत्तर प्रदेश के निवासियों से यथा स्थान पर ठहरने हेतु इलेक्ट्राॅनिक मीडिया प्रिण्ट, मीडिया, सोशल मीडिया तथा अन्य माध्यमों से अपील की जाये। उन्हें जागरूक किया जाये कि उनके आवागमन से भारत सरकार द्वारा घोषित किये गये लाॅकडाउन का उल्लंघन होगा तथा कोविड-19 के संक्रमण फैलने की संभावना और अधिक हो जायेगी।
मुख्य सचिव ने यह निर्देश आज लोक भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में प्रदेश में लाॅकडाउन की स्थिति की समीक्षा करते हुये दिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में श्रमिकों तथा अन्य कर्मियों के एक जनपद से दूसरे जनपद में आवागमन को रोका जाये, उनके ठहरने, भोजन एवं पेयजल की व्यवस्था शेल्टर होम्स, यूनिवर्सिटी के हाॅस्टल इत्यादि में करायी जाये। प्रदेश में लाॅकडाउन का पालन कड़ाई से सुनिश्चित कराया जाये।