14 अप्रैल के बाद लाकड़ाउन खुलेगा की नही यह जरूरी नहीं:अवनीश अवस्थी


     अपर मुख्य सचिव ग्रह व सूचना अवनीश कुमार अवस्थी मुख्यमंत्री सचिवालय लोक भवन के मीडिया सेंटर में पत्रकारों को संबोधित करते हुए इस अवसर पर उनके साथ हैं सूचना निदेशक  शिशिर जी भी मौजूद.


      अपर मुख्य सचिव ग्रह अवनीश अवस्थी की प्रेस,प्रेस कांफ्रेंस में सूचना डायरेक्टर शिशिर भी मौजूद.यूपी में 305 लोग कोरोना से ग्रसित है आज यूपी में सिर्फ 27 केस आये है 27 में 21 केश तब्लीगी जमात के है यूपी में 159 केश तब्लीगी जमात के लोग है.अवनीश अवस्थी ने कहा कि धर्म स्थलों से कोरोना के प्रति जागरूकता अभियान चलाया जाएगा. 


    अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने कहा कि 14 अप्रैल के बाद लाकड़ाउन खुलेगा की नही यह जरूरी नहीं अभी यह कहना जल्दबाजी की कब खुलेगा.टेस्टिंग फैसिलिटी को और मजबूत की जाएगी 10 मेडिकल कालेज में ये शुरू हो गया है.कोई भी ऐसा पेशेंट छुपे न बाहर जाकर अपनी जांच कराए,उत्तर प्रदेश की कोविड-19 से प्रदेश के कई मेडिकल कॉलेज अपग्रेड किए जाएंगे.


    प्रदेश में अपनी टेस्टिंग फैसिलिटी इन 10 मेडिकल कॉलेज को मजबूत करने के लिए कहा गया चीफ सेक्रेटरी और प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ठोस कार्ययोजना बनाकर जल्दी मंजूरी लेने के निर्देश दिए गए हैं.जिन जनपदों में मेडिकल कॉलेज नहीं है उन जनपदों में सैंपल कलेक्शन सेंटर जरूर बनेगा सभी 75 जनपदों में यह कलेक्शन सेंटर बनाए जाएंगे.


     14 मेडिकल कॉलेजों को तत्काल नई लैब बनाकर अपग्रेड किया जाए और जहां कोविड-19 के टेस्ट कराए जा सकें.अब उन लोगो को ढूढ रहे है जो इन लोगो के सम्पर्क में आये है.लॉक डाउन 14 अप्रैल के बाद खुलेगा की नही ये अभी कुछ सम्भव नही है.अभी लॉक डाउन खुलने में समय लग सकता है,कल सीएम में धर्म गुरुओं के साथ मीटिंग की थी.सभी की तरफ में सकारात्मक सुझाव आये है,सबने ये आस्वासन दिया की हम लोग सहयोग करेंगे,लॉक डाउन एकदम खोलना उचित नही होगा.प्रदेश में तब्लीगी जमात के लोगो की कोरोना के ग्रसित लोग बढ़ रहे है.


    सीएम ने स्वास्थ्य विभाग और स्वास्थ्य चिकित्सा विभाग में कोरोना की जांच की छमता बढ़ाने के निर्देश दिए है,14 अन्य मेडिकल कॉलेज में टेस्टिंग नही हो पा रही है वहां जल्द व्यवस्था की जाए.जिन जिलों में मेडिकल कॉलेज नही है वहां जिला अस्पतालों में सैम्पल कलेक्शन की सुविधा होनी चाहिए.


    मुख्यमंत्री ने आज समीक्षा की है उद्योग विभागों में जो अच्छा कार्य हुआ है 3089 उद्योगी को चालू कर दिया गया है लेबर डिपार्टमेंट से जिन लोगों को नोटिस भेजी गई थी उन्हें निरस्त कर दिया गया अब तक 11 लाख 4 हजार श्रमिकों को 1000 की धन राशि  बाट दी गई.