अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी की लापरवाही ,मार्च माह का वेतन अग्रिम आदेशों तक अवरुद्ध


     अयोध्या 01 अप्रैल, कोरोना वायरस महामारी के  इस जंग में सभी प्रशासनिक अधिकारी एवं कर्मचारी, डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ, अपने-अपने कर्तव्यों का भली भांति  निर्वहन कर रहे हैं, परंतु डॉक्टर अंसार अली, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी अयोध्या  द्वारा अपरिहार्य परिस्थितियों में भी अपने पदेन मूल दायित्वों के साथ वेक्टर बांड डिजीज, डिस्ट्रिक सर्विलांस ऑफिसर व कोरोना महामारी के कंट्रोल के नोडल अधिकारी पद के दायित्यों का निर्वहन नहीं किया जा रहा है ,जो उनके शासकीय कार्य के प्रति उदासीनता, लापरवाही एवं इस विषम परिस्थिति असहयोग का घोतक है । अतः एपिडेमिक डिजीज एक्ट व भारत सरकार के आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के साथ सपठित उत्तर प्रदेश आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अंतर्गत प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए डॉक्टर अंसार अली, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अयोध्या का मार्च माह का वेतन अग्रिम आदेशों तक अवरुद्ध किया जाता है। उक्त जानकारी देते हुए जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा ने बताया कि डॉ अंसार अली, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी अयोध्या के निलंबन की कार्रवाई हेतु 2 दिन में पृथक से पत्रावली प्रस्तुत करने हेतु मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया गया है।  उन्होंने यह भी बताया कि डॉक्टर अंसार अली द्वारा नौकरी से यदि त्यागपत्र दिया जाता है तो इस राष्ट्रीय आपदा से संबंधित विभिन्न शासनादेशो एवं सुसंगत प्रावधानों के अंतर्गत पेंशन के भुगतान पर रोक लगाए जाने संबंधित स्पष्ट प्रस्ताव शासन को प्रेषित किए जाएंगे। इस सम्बंध में मुख्य चिकित्साधिकारी अयोध्या समस्त आवश्यक कार्यवाही करेगे।