बैंक अब पूर्वाह्न 10ः00 बजे से शाम 4ः00 बजे तक पूर्व की भांति कार्य कर करेंगे : जिलाधिकारी


    अयोध्या 03 अप्रैल,   कोरोना वायरस के फलस्वरूप लॉक डाउन के दौरान सभी राष्ट्रीय बैंक के अधिकारी एवं कर्मचारी अपनी महती भूमिका निरंतर निभा रहे हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण एवं संपूर्ण लॉक डाउन से उत्पन्न परिस्थिति को देखते हुए भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा जरूरतमंद व समाज के कमजोर वर्ग के लोगों को त्वरित आर्थिक सहायता उपलब्ध कराए जाने के लिए विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की घोषणा की गई है जिसके अंतर्गत जनधन महिला लाभार्थी, किसान सम्मान योजना, मनरेगा श्रमिक, निर्माण श्रमिक, एवं अन्य बैंक खातों में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से धनराशि अंतरित की जा रही है। इसके अतिरिक्त विभिन्न विभागों द्वारा अपने अधिकारियो एवं कर्मचारियो के खाते में माह मार्च का वेतन व पेंशन की राशि भेजी जा रही है। इन सब को ध्यान में रखते हुए बैंक शाखाओं, विशेषकर ग्रामीण एवं अर्धशहरी शाखाओं पर ग्राहकों की भारी भीड़ एकत्रित होने की संभावना है। उक्त जानकारी देते हुए जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा ने बताया कि ऐसे में ग्राहकों को सामाजिक दूरी बनाए रखने हेतु जागरूक करने में बैंक की महत्वपूर्ण भूमिका है। अतः कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत रखते हुए बैंकों को एडवाइजरी जारी कर दी गई है। जनपद के सभी बैंक और पूर्वाह्न 10ः00 बजे से शाम 4ः00 बजे तक पूर्व की भांति कार्य कर करेंगे। सभी बैंक शाखाएं अपने एटीएम एवं ग्राहक सेवा केंद्र पूरी तरह क्रियाशील तथा नकदी की कमी न हो यह सुनिश्चित करेंगे। सभी शाखाओं में सैनिटाइजर एवं एटीएम को सैनिटाइज करने की उचित व्यवस्था भी सुनिश्चित करेंगे शाखा के अंदर तथा एटीएम के बाहर ग्राहक एवं स्टाफ सदस्यों के बीच उचित दूरी बनी रहे इसके ध्यान हमेशा रखेंगे। सभी शाखाओं, एटीएम एवं ग्राहक सेवा केंद्र पर उपस्थित ग्राहकों के बीच 1 मीटर की दूरी पर गोला बनाकर उसी अनुसार खड़ा करेंगे। ये गोला सफेद पेंट से बनवाया जा सकता है। बैंक के सभी स्टाफ सदस्य बैंकों द्वारा जारी पहचान पत्र अपने साथ हमेशा रखेंगे। बैंक मित्र एवं ग्राहक सेवा केंद्रों पर ग्राहकों से कोई अतिरिक्त चार्ज न लिया जाए यह सुनिश्चत करे। शाखा प्रबंधक अपने क्षेत्र के थाने से संपर्क में रहें और आवश्यकता अनुसार अपने कार्य में उनसे मदद ले सकते हैं। उपरोक्त के अतिरिक्त भी कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जारी किए गए विभिन्न दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन किया जाए साथ ही बैंक शाखाएं अपने स्थानीय स्तर पर पूर्ण संक्रमण से बचाव के लिए हरसंभव उचित व्यवस्था भी करें।