जनपद प्रतापगढ़ में 05 मई तक धारा-144 लागू

       विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाली बीमारी की गम्भीरता के दृष्टिगत जन सुरक्षा व व्यापक जनहित को ध्यान में रखते हुये इपीडेमिक एक्ट के तहत नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) से जनसमुदाय को बचाव व इसके प्रभावी रोकथाम हेतु लोगों को भीड़-भाड़ वाले जगहों में जाने से रोकने व बहुत ज्यादा भीड़ वाले जगहों में जाने से रोकने व सोशल डिस्टेसिंग बनाये रखने तथा बहुत ज्यादा भीड़ वाले आयोजनों को यथा सम्भव हतोत्साहित किये जाने के उद्देश्य से तथा जनपद में शांति एवं कानून व्यवस्था बनाये रखना अति आवश्यक है। इस अवसर पर शान्ति एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने के उद्देश्य से अपर जिला मजिस्टेªट शत्रोहन वैश्य ने द0प्र0सं0 की धारा-144 के अन्तर्गत तत्काल प्रभाव से निषेधाज्ञा लागू कर दिया है जो सम्पूर्ण जनपद सीमा में 05 मई 2020 तक प्रभावी रहेगी।
     निषेधाज्ञा में निहित प्राविधानों में किसी सार्वजनिक स्थल पर 05 या 05 से अधिक व्यक्तियों का समूह एकत्रित नही होगा अथवा कोई भी व्यक्ति ऐसे व्यक्तियों के समूह के साथ सम्मिलित नही होगा, जिसका उद्देश्य किसी विधि-विरूद्ध गतिविधि में भाग लेना होगा। इस समय भी सोशल डिस्टेसिंग का अनुपालन करना होगा। कोई भी सभा या जुलूस, धार्मिक अनुष्ठान व किसी भी प्रकार का समारोह बिना सक्षम प्राधिकारी की लिखित अनुमति से नही किया जायेगा। कोई भी व्यक्ति किसी सार्वजनिक स्थल, अपने भवन व परिसर अथवा छतों पर कंकड़, पत्थर, ईट, खाली बोतल आदि का संग्रह नही करेगा और न ही किसी प्रकार की गन्दगी करेगा। कोई भी व्यक्ति किसी भी माध्यम से अफवाह नही उत्पन्न करेगा और न ही अफवाहों को फैलायेगा और न ही किसी को अफवाह फैलाने के लिये उकसायेगा अथवा प्रोत्साहित करेगा। संक्रमित व्यक्तियों के छींकने, खांसने से कोरोना के विषाणु सतह पर गिरते है और वहां पर काफी समय तक क्रियाशील रहते है अतः नगर निकाय एवं पंचायत राज संस्थायें सार्वजनिक स्थानों आदि की अच्छी साफ-सफाई करायेगें तथा विसंक्रामक दवाओं का छिड़काव करेगें। इस कार्य में नगर निकाय एवं पंचायत राज विभाग द्वारा किसी प्रकार की शिथिलता नही बरती जायेगी। नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) से जनसमुदाय को बचाव व इसके प्रभावी रोकथाम हेतु चिकित्सा विभाग एवं अन्य समस्त सम्बन्धित विभागों द्वारा की जा रही कार्यवाही में किसी व्यक्ति, संगठन एवं समुदाय का किसी प्रकार का हस्तक्षेप पूर्णतया प्रतिबन्धित किया जाता है। चिकित्सा शिक्षा को छोड़ते हुये शेष सभी प्रकार के शैक्षणिक संस्थान, जिम, म्यूजियम, पर्यटन स्थल, सांस्कृतिक एवं सामाजिक केन्द्र, स्वीमिंग पूल एवं थियेटर अग्रिम आदेशों तक बन्द रहेगें। इसके अतिरिक्त जनपद में कहीं भी किसी भी प्रकार का आयोजन न होने पाये क्योंकि भीड़ इकट्ठी होने पर कोविड-19 से बचाव सम्बन्धी किये गये अभी तक के सारे प्रयासों पर पानी फिर जायेगा। ऐसी दशा में इस अवधि में किसी भी प्रकार का आयोजन प्रतिबन्धित किया जाता है। रेस्टोरेन्टों द्वारा हैण्ड वाशिंग प्रोटोकाॅल सुनिश्चित किया जाये तथा जिन स्थानों को बार-बार छुआ जाता है उनकी समुचित साफ-सफाई सुनिश्चित की जायेगी। मेजों के बीच की भौतिक दूरी न्यूनतम एक मीटर रखी जायेगी। जहां पर सम्भव हो, खुले में बैठने की व्यवस्था की जायेगी तथा पर्याप्त दूरी रखी जायेगी। उत्तर प्रदेश सरकार के अन्तर्गत आने वाले सभी विश्वविद्यालयों/बोर्डो/संस्थानों की परीक्षायें एवं समस्त प्रतियोगी परीक्षायें अग्रिम आदेशों तक स्थगित रहंेंगी। संक्रमण से बचने हेतु पूरी सावधानी बरती जायेगी। अपरिहार्य कार्यक्रमों में लोगों के बीच कम से कम एक मीटर की दूरी होगी। उचित दर विक्रेताओं की दुकानों पर भी सोशल डिस्टेन्सिग का पूर्णतः अनुपालन सुनिश्चित किया जाये। यह आदेश ड्यूटी पर तैनात सरकारी अधिकारियों/कर्मचारियों तथा चिकित्सा सेवा एवं सफाई कार्य में लगे अधिकारियों/कर्मचारियों पर लागू नही होगा।