जिलाधिकारी ने महिला चिकित्सालय का किया स्थलीय निरीक्षण


   अयोध्या , देर शाम जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने जिला महिला चिकित्सालय का किया स्थलीय निरीक्षण। निरीक्षण के दौरान उन्होंने सीएमएस डॉ  एसके शुक्ला से अस्पताल में आने वाली गर्भवती महिलाओं को कोरोना वायरस से बचाव संबंधी की जाने वाले उपाय की जानकारी प्राप्त करने के साथ उपलब्ध दवाओं, ऑपरेशन में प्रयोग होने वाले  किटस आदि की  भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने सीएमएस को निर्देशित किया कि थोड़ी थोड़ी देर पर चिकित्सालय को सेनीटाइज कराते रहें। चिकित्सालय के दरवाजों की  हैंडल, रेलिंग, सीढ़ी व फर्श को विसंक्रमित करने के लिए ब्लीचिंग पाउडर आदि से साफ कराते रहें। उन्होंने अस्पताल के अंदर कुर्सी, मेज, बेंच ,अलमारी को भी समय-समय पर विसंक्रमित करने के निर्देश दिए।


     निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने आगे बताया कि गर्भवती महिलाओं के चिकित्सालय में आने पर सबसे पहले रिसेप्शन काउंटर पर उनकी थर्मल स्क्रीन से जांच करने के निर्देश दिए गए है। जांच के दौरान यह भीदेखा जाए कि महिला में कोरोना वायरस के कोई लक्षण तो नहीं है ,साथ ही  कोरोना वायरस के जांच हेतु सैंपल लेकर उस जांच के लिए तत्काल  भेजा जाएगा ।यदि जांच रिपोर्ट प्राप्त होने के पूर्व गर्भवती महिला में लेबर पेन शुरू होता  है तो  जांच रिपोर्ट के प्रतीक्षा के विना उस महिला की नॉर्मल डिलीवरी या ऑपरेशन जिसकी भी आवश्यकता हो अलग से कराई गई व्यवस्था के अनुसार कराया जाएगा।ऐसे गर्भवती महिलाओं की नार्मल डिलीवरी व ऑपरेशन की अलग से व्यवस्था कराई गई है। इस स्थिति में कोरोना वायरस से बचाव हेतु वे सभी उपाय अपनाए जायेगे जो कोरोना वायरस से संक्रमित महिला के प्रसव के समय अपनाए जायेगे और जब तक उक्त गर्भवती महिला की कोरोना वायरस की रिपोर्ट नहीं आ जाती है  तब तक उसके नवजात शिशु को यस एन सी यू यूनिट में रखा जाएगा।


       


    रिपोर्ट नेगेटिव आने पर नवजात शिशु को मां के सुपुर्द किया जाएगा । जिला मजिस्ट्रेट ने आगे बताया कि यदि गर्भवती महिला के डिलीवरी के पूर्व कोरोना वायरस की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त होती है तो उसकी डिलीवरी या ऑपरेशन पूर्व व्यवस्था के अनुसार कराई जाएगी। उन्होंने आगे बताया कि यदि गर्भवती महिला की कोरोना वायरस की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई जाएगी तो उसकी डिलीवरी या ऑपरेशन में विशेष सतर्कता बरतनी होगी और इसके लिए अलग से व्यापक व्यवस्था कराई जाएगी। इस तरह के डिलीवरी ध्ऑपरेशन हेतु संबंधित डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ ,सभी को अलग से विशेष रूप से प्रशिक्षित करने के साथ कोरोना संक्रमण से डॉक्टर ,मेडिकल स्टाफ व नवजात शिशु के बचाव सभी उपाय के बारे में विस्तार से बता दिया गया है।


   निरीक्षण के दौरान वार्ड में भर्ती  मरीज के एक से अधिक रिश्तेदार  मिलने पर नाराजगी ब्यक्त करते हुए  जिला मजिस्ट्रेट ने अपने सामने गार्ड से सभी को बाहर निकलवाने के साथ सख्त हिदायत दी कि वार्ड में अनावश्यक भीड़ नही होनी चाहिये। महिला चिकित्सालय के स्थलीय निरीक्षण के पश्चात जिला मजिस्ट्रेट द्वारा देर रात तक डॉक्टरों के साथ बैठक कर भविष्य की रणनीति बनाने पर विस्तार से विचार किया गया।



    मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल व जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने आज कोविड-19 से बचाव एवं इलाज के दृष्टिगत बनाए गए कोविड-19 एल-1 हॉस्पिटल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मसौधा, एल-1 कोविड-19 समकक्ष हॉस्पिटल झुनझुनवाला हॉस्पिटल मसौधा, कोरेनटाइन केंद्र ब्लॉक कार्यालय मसौधा व राजर्षि दशरथ मेडिकल कॉलेज दर्शन नगर अयोध्या  में की गई व्यवस्थाओं का स्थलीय अवलोकन किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी अनुज कुमार झा द्वारा मंडलायुक्त  एम पी अग्रवाल को कोविड-19 के दृष्टिगत जनपद में की गई व्यवस्थाओं व उक्त हॉस्पिटलों एवं कोरनटाइन केंद्रों में की गई व्यवस्थाओं की विस्तृत जानकारी दी गई।