कोरोना का ग्रहण वैवाहिक कार्यक्रमों पर,हज़ारो की संख्या में शादी-ब्याह हुए रद्द

  वैवाहिक कार्यक्रम से जुड़े कारोबारी हुए बर्बाद.हुआ करोड़ो का नुकसान.लाखों लोगों की छिनी रोज़ी रोटी.


वैवाहिक कार्यक्रम में टेंट,कैटरिंग,लाइट,फ्लोरल डेकोरेशन,डीजे के साथ कई सारे व्यवसाय जुड़े हैं जिसमे लाखों लोगों के घर का खर्च चल रहा है.लॉक डाउन के चलते उत्तर प्रदेश में लगभग 1,50,000 शादियों पर लगा ग्रहण.
लगभग 50,000 शादियां आने वाले नवंबर-दिसंबर की मुहूर्त पर समायोजित की गई हैं और इससे भी ज़्यादा की संख्या में शादियां हो चुकी है रद्द.सिर्फ लखनऊ को लेकर चलें तो लगभग इस साल अप्रैल और मई में 2200 के करीब सहालग थी,जिसमे सभी कार्यकम रद्द हो चुके हैं.


इसी व्यवसाय में जुड़े छोटे बड़े होटलों का भी पूरा कारोबार पड़ गया है ठप्प.


इस लॉक डाउन के चलते कारोबारियों को अपने कर्मचारियों को तनख्वाह देना, आफिस/गोदाम का किराया,बिजली का बिल,जीएसटी आदि के लिए काफी आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.


साथ ही साथ अप्रैल मई के वैवाहिक कार्यक्रम का एडवांस लिए कारोबारियों पर अलग से परेशानियां है... ऐसे समय जहां रोजगार ठप्प पड़ा है वहीं कारोबारियों पर एडवांस वापस करने का दबाव भी बना हुआ है.


   ऐसी महामारी के चलते अभी आगे के कुछ महीनों में किस तरीके की सरकार द्वारा नीति तय होगी.कारोबारियों को इसके चलते लंबे समय तक दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.


     योगी सरकार से इन वैवाहिक कार्यक्रमो से जुड़े व्यवसाय में लाखो की संख्या में लोगो को काफी उम्मीद है कि सरकार उनको भी राहत प्रदान करेगी.