कोरोना संक्रमित की जांच में रखें सावधानियाँ- जिलाधिकारी


यदि भविष्य में जनपद में कोई व्यक्ति कोरोना से संक्रमित पाया जाता है तो उस हाट-स्पाट स्थल पर सर्वे, स्क्रीनिंग व डिस्इन्फेक्शन टीम द्वारा अपनाई जाने वाली सावधानियाँ


     अयोध्या, जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि भविष्य में यदि कोई कोरोना पेशेन्ट मिलता है तो स्क्रीनिंग, डिस्इन्फेक्शन टीम हेतु ’’हैंड आउट’’ के तहत जो कार्रवाई टीम को करनी होगी उसके बारे में विस्तार से विन्दुवार (बुलेट प्वाइन्ट में) में तैयार हर टीम के हर सदस्य को उपलब्ध कराया जायेगा कि उन्हें क्या-क्या सावधानिया बरतनी है। कोरोना पाॅजिटिव पेशेंट का नाम अंकित करना उसके पिताध्पति का नाम तथा पता अंकित करना, सभी टीमें स्क्रीनिंग, सैनिटाइजेशन हेतु प्रस्थान करने से पूर्व पर्याप्त संख्या में घर-घर सर्वेक्षण फार्म, सुरक्षा के सभी उपकरण यथा मास्क सैनिटाइजर पानी की बोतल आदि प्राप्त करना सुनिश्चित करेंगे, सभी टीमें अपने साथ एक स्वच्छ झोला रखेंगे जिसमें यह सभी सामग्रियां सुरक्षित रखेंगे ताकि बार-बार इन्हें हाथ से छूने की आवश्यकता न पड़े, डिसइन्फेक्शन, कांट्रैक्ट ट्रेसिंग टीम व स्क्रीनिंग टीम जब किसी के भी घर पर पहुंचेगी तो मास्क, ग्लब्स सहित सुरक्षा के जो उपाय करने हैं उसे पूरे उपाय करने होंगे। मास्क, ग्लब्स कदापि नहीं छुयेंगे न खोलेंगे और न ही अपने हाथों से अपने चेहरे को छुऐंगे। सभी सदस्य अनिवार्य रूप से जूते पहनेंगे, किसी भी घर पहुॅचने पर टीम का कोई सदस्य कुंडी, दरवाजा अपने हाथ से छू कर नहीं खट-खटायेंगे किसी भी सतह को नहीं छुयेंगे न ही वहाॅ पड़ी कुर्सी, तख्त पर बैठेंगे। घरवालों को बुलाने के लिए आवाज लगाएंगे, यदि अपरिहार्य स्थिति में दरवाजा खटखटाना पड़े तो उसके लिए डंडाध्छड़ी आदि का उपयोग करेंगे। यदि किसी सतह को अपने हाथों से छूते हैं तो तुरंत सैनिटाइजर से अपने हाथों को सैनिटाइज करेंगे। सर्वप्रथम घर के मुखिया को कोरोना पाजिटिव पेशेंट के निकट आने, मिलने-जुलने, गले लगान, हाथ मिलाने, साथ में खाना खाने, 1 मीटर से कम दूरी तक निकट आने के संबंध में पूछताछ करेंगे, तथा इंफ्रा रेड थर्मामीटर से 6 से 9 इंच की दूरी बनाए रखते हुए उनका टम्प्रेचर चेक करेंगे तत्पश्चात परिवार के सभी सदस्यों का टम्प्रेचर चेक किया जाएगा एवं सभी सदस्यों से कोरोना पाजिटिव पेशेंट के संपर्क में अथवा निकट आने के संबंध में पूछताछ की जाएगी। परिवार के सभी सदस्यों से सर्दी, खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ आदि जैसे लक्षणों के संबंध में पूछताछ की जाएगी। इनमें से कोई भी लक्षण पाए जाने पर ऐसे सदस्य का विवरण पृथक से नोट कर लिया जाएगा तथा टीम के सुपरवाइजर को सूचित किया जाएगा। परिवार के किसी सदस्य का टम्प्रेचर 97 फार्नहाइट से अधिक होने पर उसका विवरण तुरंत अंकित कर लिया जाएगा एवं टीम के सुपरवाइजर को सूचित किया जाएगा। परिवार के सभी सदस्यों का नाम मोबाइल नंबर दिए गए संलग्न प्रोफार्मा में अंकित करना सुनिश्चित करेंगे।



      जिलाधिकारी ने आगे बताया कि हाट-स्पाट क्षेत्र में गई टीम किसी भी दशा में किसी भी परिवार के द्वारा दिया गया कोई भोजन पानी आदि स्वीकार नहीं करेंगे न ही उनके हैंडपंप कुए आदि से पानी निकाल कर पिएंगे। टीम के द्वारा अपने साथ ले जाया गया पानी ही पीया जाएगा जिसके लिए पहले हाथों को सैनिटाइज कर बोतल का ढक्कन खोला जाएगा फिर अपने मास्क की डोरियो के सहारे मास्क को आवश्यकतानुसार नीचे किया जाएगा तत्पश्चात बोतल को नीचे से पकड़कर जल पिऐंगे। पुनः ढक्कन को बंद करते हुए अपने मास्क डोरी को पकड़कर ही दोबारा मास्क ऊपर करेंगे। डिसइन्फेक्शन व सैनिटाइजेशन टीम के द्वारा घर के दरवाजे, कुंढ़ी, घर के बाहर स्थित कोई चबूतरा, ऐसा कोई भी तख्त, कुर्सी बेंच जिस पर बाहर से व्यक्ति आ करके बैठते हो आदि जगहों को स्प्रे मशीन के माध्यम से उन्हें डिसइनफेक्ट किया जाऐगा सभी घरवालों को सोशल डिस्टेंसिंग मास्क का प्रयोग करने, हाथो को बार-बार धोने, अनावश्यक बाहर न निकलने के संबंध में जानकारी देंगे। यह ध्यान देने योग्य है कि यह कार्य अत्यंत गंभीरता से किया जाना है क्योंकि जहां एक ओर जरा सी लापरवाही स्वयं कार्मिक को संक्रमित कर सकती है वहीं ठीक से कार्य न किए जाने पर संक्रमण के अनियंत्रित रूप से फैलने का खतरा रहेगा।


     कार्य के बीच में यथासंभव भोजन, पानी न ग्रहण किया जाए। पूरा कार्य समाप्त करने के बाद टीम के सभी सदस्य सुरक्षा के उपकरणों को बहुत ही सावधानी पूर्वक निस्तारित किए जाने व अच्छे से स्नान करने के पश्चात ही भोजन करना उपयुक्त होगा। पहने गए कपड़े को भी स्नान से पूर्व अपने ही हाथों से साबुन, डिटर्जेंट से साफ करना सुनिश्चित करें। उपयोग किए गए सभी मास्क ग्लब्स हेड-कवर शू-कवर आदि का निस्तारण उपयुक्त रीति से बनाए गए कंट्रोल रूम के कैंपस में ही किया जाना अनिवार्य होगा। प्रयोग किए गए जूतों को घर के बाहर ही उतारेंगे तथा यथाशीघ्र उसे भी धुल कर कड़ी धूप में सुखाकर ही पुनः प्रयोग करेंगे। नहाने एवं कपड़ों आदि को धोने के पूर्व परिवार के किसी सदस्य का संपर्क न तो स्वयं से होने देंगे न ही इन वस्तुओं को ही छूने देंगे। बिना हाथों को साबुन से धोएं अपने चेहरे, आंख, मुंह को कदापि नहीं छुयेंगे।