कोरोना से प्रभावित लोगों की मदद हेतु सी.एम.एस. शिक्षकों व मैनेजमेन्ट ने दी 50 लाख रूपयों की आर्थिक मदद

     - ऋषि खन्ना


       लखनऊ, 1 अप्रैल, लाॅकडाउन के दौरान कोरोना से प्रभावित लोगों की मदद हेतु सिटी मोन्टेसरी स्कूल ने जिला प्रशासन को 50 लाख रूपयों का दान दिया है जिससे प्रभावित लोगों राहत पहुचाने में प्रशासन का सहूलियत मिल सके।


 सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता गाँधी किंगडन ने आज सी.एम.एस. के सभी शिक्षकों-कार्यकर्ताओं एवं मैनेेजमेन्ट की ओर से कोरोना राहत कार्यों हेतु नगर आयुक्त डा. इन्द्रमणि त्रिपाठी को उनके कार्यालय में जाकर 50 लाख रूपयों का चेक सौंपा।


 सी.एम.एस. द्वारा इस धनराशि को प्रशासन की ‘जनता रसोईघर’ के उपयोग हेतु दान दिया गया है, जिसमें लाॅकडाउन के दौरान प्रतिदिन लगभग 50,000 गरीब लोगों के लिए भोजन तैयार किया जाता है। विदित हो कि नगर निगम द्वारा शहर भर में 9 जनता रसोईघरों की स्थापना की गई है। 50 लाख रूपयों की इस धनराशि में सी.एम.एस. के लगभग 3000 शिक्षकों व कार्यकर्ताओं ने एक दिन के वेतन स्वरूप 35 लाख रूपयों का योगदान दिया, जिसमें सी.एम.एस. मैनेेजमेन्ट ने 15 लाख रूपये जोड़कर कुल 50 लाख रुपये की धनराशि कोरोना से प्रभावित लोगों की मदद हेतु दान दी।


 इसके अलावा भी सी.एम.एस. सभी संभव तरीकों से लगातार कोरोना प्रभावित लोगों की मदद लगातार प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में, सी.एम.एस. ने जनेश्वर मिश्र पार्क में स्थापित लखनऊ विकास प्राधिकरण की रसोई में 10,000 किलोग्राम राशन सामग्री की आपूर्ति कर चुका है, जिसमें 5000 किलोग्राम गेहूं का आटा, 2500 किलोग्राम चावल, 1500 किलोग्राम दाल, 550 किलोग्राम आलू और 150 किलोग्राम घी शामिल है। एल.डी.ए. की इस सामुदायिक रसोई में बेघर और गरीबों के लिए भोजन तैयार किया जा रहा है, जिसका संचालन एल.डी.ए. की संयुक्त सचिव श्रीमती रितु सुहास कर रही हैं। 


 इसके अलावा, सी.एम.एस. की 60 बसें भी कोरोना प्रभावित लोगों की सेवा में लगी हैं। पुलिस कमिश्नर श्री सुजीत पाण्डेय के अनुरोध पर सी.एम.एस. 60 बसें मय ड्राइवर व कंडक्टर के प्रदेश के बार्डर पर फंसे लोगों को उनके गन्तव्य तक पहुचाने में मदद कर रही हैं।


 इसके साथ ही, सी.एम.एस. ने यूपी प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन (यू.पी.एस.एस.) के माध्यम से जिला प्रशासन को रू. 1,80,000 (एक लाख अस्सी हजार रूपये मात्र) की आर्थिक सहायता कोरोना राहत कार्यों हेतु दान दिया है।


 सामाजिक कार्यों में सी.एम.एस. सदैव ही बढ़चढ़कर अपनी जिम्मेदारी निभाता रहा है और इस कठिन समय में भी अपने सामाजिक दायित्वों से कदापि पीछे नहीं है।