कोरोना वायरस महामारी से बचाव एवं रोकथाम में लापरवाही बर्दाश्त नहीं :जिलाधिकारी


       जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि कोरोना वायरस के महामारी से बचाव एवं रोकथाम के लिए आपातकालीन सेवाओं  में लगाए गए अधिकारियों और कर्मचारियों का उत्तर दायित्व है कि वह अपने- अपने कर्तव्यों का निर्वहन शत-प्रतिशत करें ! कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु 24 मार्च की रात से संपूर्ण देश में पूर्णता लॉक डाउन घोषित किए जाने के उपरांत आम जनमानस को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति एवं उपलब्धता की निगरानी हेतु कलेक्ट्रेट अयोध्या में बने आईजीआरएस सेल व मल्टीपरपज कंट्रोल रूम में इस कार्यालय द्वारा जारी आदेश से गिरजा शंकर पांडे, अखिलेश पांडे, सुनील श्रीवास्तव जिला समन्वयक बेसिक शिक्षा विभाग की ड्यूटी लगाई गई थी। ड्यूटी के संबंध में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को व्हाट्सएप मैसेज किया गया था तथा समस्त जिला समन्वयक बेसिक शिक्षा को दूरभाष से अवगत  कराने के उपरांत भी आपातकालीन स्थिति में उन्होंने अपने कर्तव्यों का निर्वहन नहीं किया आज 3 अप्रैल को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा सूचना दिए जाने के उपरांत भी तीनो जिला समन्वयक बेसिक शिक्षा अपने कार्यो पर उपस्थित नहीं हुऐ । यह कृत शासकीय कार्यों के प्रति उदासीनता एवं लापरवाही का घोतक है। जिला मजिस्ट्रेट ने आदेश जारी कर गिरजा शंकर पांडे,अखिलेश पांडे व सुनील श्रीवास्तव जिला समन्वयक बेसिक शिक्षा विभाग अयोध्या का मार्च माह 2020 का वेतन / मानदेय अग्रिम आदेशों तक आहरण पर रोक लगा दिया है । आदेश की प्रति  वित्त एवं लेखा अधिकारी तथा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को भेज दी गई है।


     जिलाधिकारी ने कुमार झा ने कोरोना वायरस के प्रसार के रोकथाम एवं उसके बचाव के दृष्टिगत जनपद में सरकार द्वारा  मनरेगा योजना अंतर्गत जॉब कार्ड धारकों,  अंत्योदय एवं पात्र गृहस्थी  कार्ड धारको, ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के श्रमिकों को उपलब्ध कराए गए राशन व राहत राशि के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि जनपद में अब तक  कुल 1,06,794 कार्डधारकों को 3187.27 मी0 टन निःशुल्क राशन दिया गया है तथा कुल 1,25,604 कार्डधारकों को 2866.47 मी0 टन राशन उचित मूल्य पर दिया गया। इस प्रकार कुल 2,32,398 कार्डधारकों को कुल 6053.74 मी0 टन राशन दिया गया।उन्होंने आगे बताया कि ग्रामीण क्षेत्र के कुल 1,309 मजदूरों को रू0 1,000/- प्रति मजदूर की दर से राहत राशि का तथा नगरीय क्षेत्र के कुल 510 मजदूरों को रू0 1,000/- प्रति मजदूर की दर से राहत राशि का भुगतान किया गया है और  मनरेगा योजनान्तर्गत कुल 39,695 जाॅबकार्ड धारकों को रू0 12,05,93000.00 मजदूरी का भुगतान किया गया।