कोविड-19 ,आपदा की स्थिति में 500 संक्रमित को एक साथ क्वारंटाईन की व्यवस्था- जिलाधिकारी


        अयोध्या 08 अप्रैल, जिलाधिकारी अनुज कुमार झा की अध्यक्षता में जनपद के होटल व गेस्ट हाउस के स्वामी से हुई वार्ता के अनुसार सभी होटल एवं गेस्ट हाउस के मालिको ने कोरोना वायरस संक्रमण के इस संकट की घड़ी में हर प्रकार से शासन व प्रशासन को पूर्ण रूप से सहयोग का दिया आश्वासन। अपर जिला मजिस्ट्रेट नगर ने बताया कि सभी होटल एवं गेस्ट हाउस के स्वामी से वार्ता हो गई है। सभी ने अपने-अपने होटल व गेस्ट हाउस के कमरे, हाउसिंग किट्स किचने खाने की व्यवस्था, जनरेटर एवं हर उपकरण के साथ हर प्रकार का सहयोग करने की अपील। जनपद में यदि संक्रमण फैलता है तो उसको सीमित करने हेतु लोगो को क्वारंटाइन करने के साथ संक्रमित व्यक्तियो के इलाज व सुरक्षा में लगाये गये नर्स,मेडिकल स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ, डाक्टर्स तथा सुरक्षा कर्मी को 07 दिन के बाद 14 दिन के लिए क्वारंटाइन की व्यवसथा किया जा रहा है।बैठक में जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी नगर की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया जिसमें जिलाधिकारी की तरफ से नामित दो डाक्टर, अधिशाषी अभियन्ता पीडब्लूडी, मुख्य कोषाधिकारी तथा होटल एवं गेस्ट हाउस की तरफ से शाने अवध के स्वामी शरद कपूर सदस्य होंगे तथा नगर मजिस्ट्रेट समिति के संयोजक होंगे जो समय-समय पर की जाने वाली व्यवस्था तथा शासन की तरफ से भुगतान की जाने वाली दरो को आपस में बैठक कर विचार-विमर्स कर तय करेंगे।बैठक में होटल कृष्णा पैलेस से प्रबंधक अजय श्रीवास्तव, शाने अवध से शरद कपूर, तिरूपति गोपाल जी, पंचशील धनंजय वर्मा, तारा जी रिसार्ट आलोक सोनी, आभा होटल अनिल अग्रवाल, अवन्तिका मनीष सिंह, विन्धवासिनी पैलेश से सुशील कुमार शुक्ला, गौरव मैरिज लान शैलेन्द्र कुमार वर्मा,  कलावती पैलेस/मैरेज लान के सुशील कुमार, जेबीआई रिसार्ट केपी सिंह सहित नौरेग पैलेस व सत्यम् गेस्ट हाउस के प्रतिनिधि उपस्थित थे।



           किसी भी आपदा एवं महामारी को सीमित समय में प्रभावी ढंग से सीमित एवं नियंत्रित करने के उद्देश्य से जनपद के 12 होटल व गेस्ट हाउस को जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा ने आदेश जारी कर समस्त मानव संसाधन, प्रबंधन, व्यवस्थापन, फर्नीचर, उपकरणों, जनरेटर व अन्य सामग्रियों सहित तत्कालीन आवश्यकता के दृष्टिगत उत्तर प्रदेश शासन के राज्य संपत्ति अनुभाग-3 के द्वारा निर्धारित किराया दरों के अनुसार शासकीय कार्य हेतु उपयोग की तिथि से अधिग्रहित कर लिया गया है। उक्त जानकारी देते हुए जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा ने बताया कि किसी भी आपदा की स्थिति में 500 संक्रमित लोगों को एक साथ क्वारंटाईन किया जा सके इसकी व्यवस्था की जानी है। जिला मजिस्ट्रेट ने आगे बताया कि ऐसे संक्रमित व्यक्तियों का इलाज कर रहे डाक्टरों एवं चिकित्सीय स्टाफ को भी 7 दिन बाद 14 दिन के लिए क्वारंटाईन किया जाएगा। उन्होंने आगे बताया कि हर संक्रमित व्यक्ति के लिए एक अलग कमरा एवं अलग शौचालय की आवश्यकता को देखते हुए यह व्यवस्था कराई जा रही है। संभावित संक्रमित व्यक्ति को 14 दिन के लिए क्वारंटाईन किया जाएगा।
     जिला मजिस्ट्रेट ने आगे बताया कि देश व प्रदेश में कोविड-19 महामारी के केस बढ़ रहे हैं ऐसे में इसके रोकथाम हेतु अपनाए जा रहे अंतरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय मानकों में यह भी सम्मिलित है कि मरीजों के साथ-साथ उनकी देखरेख कर रहे डॉक्टरों तथा मेडिकल एवं पैरामेडिकल स्टाफ को भी 14 दिन के लिए क्वारंटाईन किया जाए। जिला मजिस्ट्रेट ने आगे बताया कि प्राचार्य राजर्षि दशरथ स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय तथा सीएमओ को अधिग्रहित होटलों व गेस्ट हाउस के कमरों व पूरे परिसर को पूर्ण रूप से सैनिटाइजर करने के साथ समस्त व्यवस्था कराने के निर्देश दे दिए गए हैं। नगर आयुक्त नगर निगम अयोध्या को इन परिसरों की सफाई व जलापूर्ति आदि हेतु अलग से आदेश भेजे जा रहे हैं।

    जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा ने बताया कि होटल कृष्णा पैलेस, शाने अवध, तिरूपति, पंचशील, तारा जी रिसार्ट, आभा होटल, अवन्तिका, विन्धवासिनी पैलेश नाका सहित नौरंग पैलेस सुल्तानपुर रोड, गौरव मैरिज लान निकट शंकरगढ़, सत्यम् गेस्ट हाउस बाईपास दर्शननगर, कलावती पैलेस डाभासेमर, जेबीआई रिसार्ट सुल्तानपुर रोड के साथ डा0 राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के विशेष अतिथि गृह गेदालाल दीक्षित को पूर्ण रूप से अधिग्रहित किया गया है।