कोविड-19 से लड़ने के लिए प्रशासन सर्तक


      अयोध्या 09 अप्रैल, जिलाधिकारी के निर्देश पर अपर जिलाधिकारी नगर वैभव शर्मा एवं मुख्य राजस्व अधिकारी पीडी गुप्ता की उपस्थित में नगर के व्यापार मण्डल, उद्योग मण्डल एवं स्वंय सेवी संगठनों की बैठक सम्पन्न हुई। इसमें सभी ने जिला प्रशासन की कोरोना से लड़ने के कार्यक्रम में पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन दिया तथा बताया कि हम सभी फूड पैकेट मुख्य राजस्व अधिकारी को उपलब्ध करायेंगे तथा तहसील स्तरो पर उपजिलाधिकारी को उपलब्ध करायेंगे तथा फूड पैकेट एक स्थान पर एकत्र होने पर ही प्रशासन आवश्यकतानुसार आपने देखरेख में विभिन्न स्थानो पर वितरण करेगा तथा आवश्यक सहयोग करेगा।इसमें संगठन के प्रतिनिधियो सहित अनेक व्यक्तियो ने भाग लिया इसमे प्रमुख रूप से अरूण अग्रवाल, आशीष अग्रवाल आदि उपस्थित रहे।

       जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि प्राप्त शिकायतो के दृष्टिगत जनपद के सभी कोटेदारो को सचेत करते हुए निर्देशित किया जा रहा है कि माह अप्रैल 2020 मं हो रहे नियमित खाद्यान्न वितरण के समय उन कार्डधारको को जिनके पास मनरेगा जाब कार्ड, श्रम विभाग तथा नगर निकाय में पंजीकृत का प्रपत्र है, उन्हे शासन के निर्देश के क्रम में निःशुल्क खाद्यान्न दिया जाना है। किसी कोटेदार के यहाॅ यह शिकायत मिलने पर कि निष्क्रिय जाॅबकार्ड कहकर किसी कार्डधारक को निःशुल्क खाद्यान्न नही दिया जा रहा है, जबकि ई-पास मशीन में उसका जाॅबकार्ड नम्बर डालने पर मशीन ओके कर रही है, तो इसे गम्भीरता से लिया जायेगा।उन्होंने आगे बताया कि खाद्य विभाग जारी शासनादेश के अनुसार सभी पंजीकृत जाॅबकार्ड धारको/श्रमिको को जिनका कि राशनकार्ड जारी है, उन्हें निःशुल्क खाद्यान्न दिया जाना है। मात्र उन्ही पात्र गृहस्थी के कार्डधारको से खाद्यान्न का मूल्य लिया जाना है, जिनके पस मनरेगा जाॅबकार्ड, श्रम व नगर निकाय में पंजीकृत नहीं है।


        जिलाधिकारी,अयोध्या अनुज कुमार झा के निर्देश पर जनपद अयोध्या में पंचायती राज विभाग द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव हेतु जनपद के प्रमुख स्थान क्रमशः कलेक्टेªट परिसर, विकास भवन परिसर, समस्त तहसीलों एवं समस्त विकास खण्डों में 20×10 की होर्डिंग के साथ-साथ ग्राम पंचायतों में भी 08×06  के बैनर एवं 3 लाख से अधिक हैण्ड बिल्स के माध्यम से घर-घर जागरूकता एवं प्रचार-प्रसार किया गया है जिससे ग्रामीण जनता कोरोना जैसी आपदा से निपटने हेतु देश का सहयोग कर सकें। जिलाधिकारी द्वारा ग्राम पंचायत की जनता को लाॅकडाउन में सहयोग करने तथा सोशल डिस्टेसिंग बनाये रखने की अपील की गयी है। इसके साथ ही सत्य प्रकाश सिंह, जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद की ग्राम पंचायतों में जिला स्वच्छता समिति द्वारा 3000 लीटर हाईपोक्लोराइड के छिड़काव कराने के साथ-साथ ग्राम पंचायतों में समस्त सफाई कर्मियों को राज्य वित्त एवं 14वाँ वित्त की धनराशि से मास्क, सेनीटाइजर, हैण्ड गल्फस एवं सफाई व्यवस्था हेतु उपलब्ध कराये गये है। समस्त ग्राम पंचायतों को साफ-सफाई एवं सेनीटाइज्ड करने का कार्य किया जा रहा है। जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि प्रत्येक विकास खण्डों में 20-20 सफाई कर्मियों की टीम आपातकालीन व्यवस्था हेतु बनायी गयी है जो कोरोना से संक्रमित व्यक्ति पाये जाने की स्थिति में पूरी ग्राम पंचायत को सैनाटाईज करने का कार्य करेगी। इसके अतिरिक्त विभाग के समस्त अधिकारियोंध्कर्मचारियों ध्स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के स्टाफ द्वारा अपने 01 दिवस का वेतन मु0-1306297 रू0 मुख्यमंत्री राहत कोष में आपदा से बचाव हेतु सहयोग राशि दी गयी है।



    कोविड-19 से लड़ने के लिए प्रशासन सर्तक आप लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करे और कोरोना भगाये जिले मेे कोरोना संकट से निपटने के लिए पूरी तैयारी कर ली गई  है साथ ही लाक डाउन हटने के बाद फोकस सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क पहन कर स्वसुरक्षा कायम करवाना रहेगा। डीएम एके झा ने यह जानकारी प्रेस वार्ता मे दी। उन्होंने बताया कि लाक डाउन हटने के बाद प्रशासन पूरी तौर पर सोशन डिस्टेसिंग को कायम करवाने की तैयारी में है। मास्क पहनना अनिवार्य रहेगा। इसके लिए रोजाना 20 हजार मास्क तैयार करवाए जा रहे है। जिसके लिए 18 गारमेंट इंकाइयों को जिम्मेदारी दी गई है। जिनकी डिलिवरी गुरूवार से ही मिलनी शुरू हो गई है। जिले में मास्क की कमी नही होने पाएगी।
      गर्भवती महिलाएं चिंहित-डीएम झा ने बताया कि लाक डाउन के दौरान एडवांस स्टेज की प्रेगिनेंट महिलाओं को चिंहित किया गया है। जिले की ऐसी 804 गर्भवती महिलाओं को एंबूलेंास टीम से टैंग किया गया है जिनको चिकित्सा  टीम  बराबर फालोअप कर रही है। डिलिवरी डेट से एक हफ्ता पहले से इनका कुशल क्षेम पूंछ कर इनकी अस्पताल में सुरक्षित डिलिवरी करवाई जाएगी।
      4707 क्वारंटीन किए गए- उन्हांेने बताया कि अभी तक कोरेाना को कोई भी पाजिटिव केस नही मिला है।  उन्होने बताया कि वाहर से आए  4707 संदिग्ध लोगों को होग क्वारंटीन पर रखा गया है। जिसमें 331 शहरी क्षेत्र के है। डीएम ने बताया कि अब 44 ब्लड सैंपल जांच के लिए भेजे गए जो नेगेटिव पाए गए। तबलीगी जमात के 16 लोग भी क्वारंटीन किए गए जिनके ब्लड सैंपल की जांच भी नेगेअिव आई है। गुरूवार कोभी 25 सैंपल गोरखपुर की लैब में चेक करवाने के लिए भेजे गए है। हालांकि यहां सैंपल लेने व सुविधा सीमित ही है। फिर भी अब रोजाना 25 लोगों के ब्लड सैंपल रोजाना जांच के लिए भेजने की व्यवस्था की जा रही है।
      कोरोना पाजिटिव मिलने पर भी तैयारी - डीएम ने बताया कि अगर जिले कोई केस कोरोना पाजिटिव का मिलता है तो उसके लिए भी पूरी तैयारी कर ली गई । इसके लिए डाक्टरो व पैरामेडिकल स्टाफ के लिए 12 होटल व गेस्ट हाउस रिजर्व किए गए है। एक्टिव व पैसिव क्वारंटीन मेडिकल स्टाफ को ठहरने की व्यवस्था अभी से कर ली गई है। 12 टीमें गठित की गई है। जो कोरेाना पाजिटिव के सम्पर्क मे आ चुके लोगों की तलाश कर उन्हे क्वारंटीन करेगे।लाक डाउन में किसी को तकलीफ न हो इसके लिए 574गाड़ियां सब्जी फल व 218 वाहन दूध के पैकेट की होम डिलिवरी के लिए लगी हं। जो गलियों व मोहल्लों में भी खाद्य सामाग्रियेां को पहुंचा रहीं हैं।