लगभग 02 करोड़ 18 लाख लाभार्थियों  को खाद्यान्न उपलब्ध - मुख्यमंत्री

           मुख्यमंत्री के निर्देशों के क्रम में राज्य के जरूरतमन्दों को खाद्यान्न वितरण का अभियान आज प्रारम्भ, 43,63,678 राशन कार्ड के माध्यम से 1,21,025 मीट्रिक टन से अधिक खाद्यान्न का वितरण किया गया।इसके अन्तर्गत 24,72,692 राशन कार्ड के माध्यम से 78,947 मीट्रिक टन से अधिक खाद्यान्न का निःशुल्क वितरण।कुल वितरित खाद्यान्न में से 65.23 प्रतिशत लाभार्थियों को निःशुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया।निःशुल्क खाद्यान्न वितरण से लगभग 1.17 करोड़ गरीब और मजदूर लाभान्वित हुए।

       लखनऊ 01 अप्रैल,  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के क्रम में राज्य के जरूरतमन्दों को खाद्यान्न वितरण का अभियान आज प्रारम्भ हुआ। पहले दिन शाम 06 बजे तक लगभग 02 करोड़ 18 लाख लाभार्थियों को खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया। कुल वितरित खाद्यान्न में से 65.23 प्रतिशत लाभार्थियों को निःशुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया। निःशुल्क खाद्यान्न वितरण से लगभग 1.17 करोड़ गरीब और मजदूर लाभान्वित हुए। खाद्यान्न वितरण आज रात 09 बजे तक जारी रहेगा। 

      मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के परिप्रेक्ष्य में बन्द व्यावसायिक व आर्थिक गतिविधियों से प्रभावित गरीबों को राहत पहुंचाने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। खाद्यान्न वितरण का यह कार्यक्रम इसी सन्दर्भ में संचालित किया जा रहा है।

     यह जानकारी आज यहां देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि 43,63,678 राशन कार्ड के माध्यम से 1,21,025 मीट्रिक टन से अधिक खाद्यान्न का वितरण किया गया। इसके अन्तर्गत 24,72,692 राशन कार्ड के माध्यम से 78,947 मीट्रिक टन से अधिक खाद्यान्न का निःशुल्क वितरण किया गया। 

     प्रवक्ता ने बताया कि खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा 01 अप्रैल, 2020 से खाद्यान्न का वितरण प्रारम्भ किया गया है। इसके अन्तर्गत अन्त्योदय कार्डधारकों, मनरेगा श्रमिकों, श्रम विभाग में पंजीकृत निर्माण श्रमिकों तथा नगर विकास विभाग के अन्तर्गत दिहाड़ी मजदूरों को निःशुल्क राशन वितरित हो रहा है। अप्रैल माह के द्वितीय चरण में 15 अप्रैल, 2020 से समस्त कार्डधारकों को 05 किलो प्रति यूनिट की दर से निःशुल्क राशन (चावल) दिया जाएगा।

     कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत ई-पाॅस से वितरण के समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य किया गया है। प्रत्येक उचित दर दुकान पर सैनिटाइजर/साबुन एवं पानी की व्यवस्था की गई है, ताकि हाथ धुलने के उपरांत ही ई-पाॅस का इस्तेमाल हो सके। राशन की दुकानों पर भीड़ न हो और सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे, इसके लिए प्रत्येक दुकानदार को रोस्टर के हिसाब से राशन वितरित करने के निर्देश दिए गए हैं। 

     प्रवक्ता ने बताया कि यदि किसी व्यक्ति, परिवार, समुदाय, कस्बा या कॉलोनी को होम क्वॉरण्टीन किया जाता है, तो ऐसी स्थिति में लाभार्थी तक होम डिलीवरी के माध्यम से राशन पहुंचाने की सुविधा प्रदान की जाएगी। शासन द्वारा जिलाधिकारियों को राशन वितरण हेतु प्रत्येक उचित दर दुकान हेतु नोडल अधिकारी की नियुक्ति के निर्देश दिए गए हैं। उचित दर विक्रेता नोडल अधिकारी तथा ग्राम प्रधान की उपस्थिति में राशन का समुचित वितरण सुनिश्चित कराएंगे।