लॉक डाउन- सरकार के अपील के साथ कंधे से कन्धा मिलकर साथ खड़े अक़ील सिद्दिक़ी 100 जरूरतमंद परिवारों को लिया गोद

 

    लखनऊ, कोरोना वायरस के चलते रोज़ मर्रा की जिंदगी जीने वाले परिवारों पर मुसीबत का कहर टूट पड़ा है जिस के लिए सरकार के साथ अक़ील फाउंडेशन एक नई उम्मीद  बन कर उन परिवारों के साथ खड़ा हो गया है इस महामारी लॉक डाउन के चलते सरकार चाहती है कोई भूखा न सोए इस लिए सरकार के साथ अक़ील फाउंडशन ले अध्यक्ष अक़ील सिद्दीक़ी एक तरफ जहा राजधानी लखनऊ में तो बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेही रहा है और अब अक़ील सिद्दीक़ी  ने 100 जरूररतमंद परिवारों को लॉक डाउन खुलने तक गोद ले लिया है श्री सिद्दीक़ी इंसानियत के नाते अपनी जिम्मेदारियों को देखते हुए  लॉक डाउन खुलने तक लखनऊ के साथ साथ व अपने निजी गाँव गोंडा जिले में सभी धर्म के जरूरतमंद गरीब बेसहारा 100 ( सौ ) परिवारों के घरों के राशन की जिम्मेदारी उठाते हुवे सरकार  कंधे से खंधा मिला कर खड़े रहने की मिशाल कायम की है इस महामारी में आप को बताते चले  श्री सिद्दीक़ी ये नेक कार्य भी अपने पत्रकारिता ले पेशे से मिलने वाली तनखा (सैलरी) से ज़िमेदारी उठाएंगे लोगो को इनसे सिख लेनी चाहिए इस नेक कार्य के लिए अक़ील सिद्दीक़ी और उनकी टीम पर एक सटीक लाइन सही बैठती है तुम्हारे किरदार को किसी मशवरे की जरूरत नही तुम चिराग़ हो , तुम्हें रौशनी की जरूरत नही l 


 


      100 परिवारों के  रोज मर्रा की जरूरत की चीजों की ज़िमेदारी जो उठाई है उसमे आता ,चावल, दाल ,आलू, पियाज, सब्जी,  से लेकर तेल ,नामक माचीस, साबुन,  सब्जी मसाला, बच्चों के लिए चॉकलेट बिस्किट आदि तक शामिल किया है  अक़ील सिद्दिक़ी का कहना है ये सब ब सब उनकी  ज़िमेदार है ये परिवार भूखा न सोए साथ ही कहा है की मै चाहता हूं हर इलाके में यदि अएसे ही 5, 5 लोग आगे अजाएँ तो सरकार जिला प्रशासन को तो आसानी होगी ही और समाज के बेसहारा ,जरूरतमंद लोगो को बड़ा सहारा होगा , और लोग सड़कों पर नही निकलेंगे ,इससे अच्छा सेवा कोई नही हो सकता l 

       दूसरी तरफ अक़ील फाउंडेशन के  सचिव मकसूद खां का कहना अक़ील फाउंडेशन के कार्य भी उद्धस्तर पर भी बराबर जारी रहेगा l  लखनऊ और गोंडा यूनिट में बना भोजन भी वितरण समय समय पर किया जारहा है फॉउण्डेशन्स के सभी लखनऊ और गोंडा के सभी जिम्मेदार सदस्यों को आभार और धन्यवाद जो उद्धस्तर पर इस समय समाज की सेवा करने में जुटे है l हमारा मकसद सिर्फ इतना है कोई भी खूखा न रह जाएँ इंसानियत के नाते सभी जिम्मेदार इंसान को इंसानियत के नाते आगे आकर बढ़ चढ़ कर इसमें साहियो करना चाहिए l