लॉकडाउन के दौरान गरीबों को न्यूनतम बेरोजगारी भत्ता दे  सरकार: शिवपाल यादव


      लखनऊ, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने सूबे की योगी सरकार से लॉकडाउन के दौरान गरीब परिवारों को न्यूनतम बेरोजगारी भत्ता दिए जाने की मांग की है। शिवपाल यादव ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि जब तक प्रदेश का गरीब लॉकडाउन के दौरान खुद को असुरक्षित और वंचित समझेगा तब तक लॉकडाउन को सफल नहीं बनाया जा सकता। उन्होंने कहा कि गरीब तबका लॉकडाउन की वजह से काफी परेशान है।
मुंबई और सूरत की सड़कों पर मजदूरों के निकलने पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के नेता शिवपाल सिंह यादव ने सवाल खड़े किए हैं। शिवपाल यादव ने ट्वीट कर कहा है कि मुंबई और सूरत की सड़कों पर उमड़ी मजदूरों की भारी भीड़ को देखकर ऐसा लगता है कि गरीब और वंचित तबका कोरोना की वंचना (ठगी) का शिकार हो गया है। लॉकडाउन की सफलता निश्चय ही समाज के वंचित तबके की न्यूनतम जरूरतों की आपूर्ति की सुनिश्चितता व उनके सहयोग से ही संभव है।
 ऐसे में प्रदेश सरकार को पंजीकृत व गैर पंजीकृत श्रमिक व दिहाड़ी मजदूरों और अंत्योदय परिवारों को न्यूनतम मासिक बेरोजगारी भत्ता देने की व्यवस्था करनी चाहिए। साथ ही सरकार द्वारा संचालित कम्युनिटी किचन को और भी अधिक सुदृढ़ व पारदर्शी बनाए जाने की जरूरत है।


इससे पहले शिवपाल यादव ने अपने कार्यकर्ताओं से आह्वान किया था कि आज इस संकट की घड़ी में हमें राष्ट्र के प्रति कर्तव्यों का निर्वहन करना चाहिए और जाति, सम्प्रदाय, भाषा व भौगोलिक सीमाओं से ऊपर उठकर कोरोना के विरुद्ध निर्णायक लड़ाई का संकल्प लेना चाहिए।अगर हम साम्प्रदायिक आधार पर बटेंगे तो न सिर्फ कोरोना के खिलाफ लड़ाई कमजोर होगी अपितु यह देश भी कमजोर होगा।