महाराष्ट्र के पालघर में दो संतों की हत्या पर आक्रोशित हिन्दू महासभा

महाराष्ट्र के पालघर में दो संतों की हत्या पर आक्रोशित हिन्दू महासभा ने श्रद्धांजलि अर्पित कर हत्यारों को फांसी देने की मांग की।


     अखिल भारत हिन्दू महासभा ने नासिक के पास पालघर में महंत कल्पवृक्ष गिरी जी महाराज और महंत सुशील गिरी जी महाराज की भीड़ द्वारा हत्या किए जाने की कड़ी निंदा की है और दोनों संतों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए हत्यारों को फांसी की सजा देने की मांग की गई । 
    अखिल भारत हिन्दू महासभा अयोध्या जिलाध्यक्ष राकेश दत्त मिश्र ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि दोनों संतों कि हत्या महापाप है । महाराष्ट्र सरकार का मौन विस्मयकारी है । उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के शासन में संतों की हत्या सरकार की विफलता को दर्शाता है । उद्धव ठाकरे सामने आकर हत्यारों को फांसी की सजा दिलवाने की घोषणा करें , अन्यथा साधु संतों का आक्रोश उनकी सरकार के पतन का कारण बनेगा ।
     राकेश दत्त मिश्र ने कहा कि पुलिस संतों की हत्या के आरोप में ११० आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा कर रही है , किन्तु असली हत्यारी स्वयं पुलिस है । उन्होंने कहा कि घटना स्थल से प्राप्त वीडियो में स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि पुलिस ने दोनों संतों को जबरन गाड़ी से उतारा वहां एकत्र भीड़ के हवाले किया । भीड़ ने लाठी डंडों और हथियार से पीट पीट कर उनकी हत्या कर दी। भीड़ से पिटते संत पुलिस से रक्षा की गुहार लगाते रहे , लेकिन पुलिस मूक दर्शक बनी दोनों संतों कि हत्या होते देखते रही । 
     राकेश दत्त मिश्र ने उद्धव सरकार से घटनास्थल पर तैनात सभी पुलिस कर्मियों को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर उन्हें हत्या के आरोप में गिरफ्तार करवाने और फांसी की सजा दिलवाने की मांग की है ।
      हिन्दू महासभा उत्तर भारत के प्रभारी महंत परशुराम दास जी महराज ने अयोध्या से संतों की हत्या की कड़ी निन्दा करते हुए इसे मानवता को शर्मशार करने वाली घटना बताया । उन्होंने घटनाक्रम का विवरण देते हुए बताया कि श्री पंच दशनाम अखाड़ा गुजरात वेरावल सोमनाथ के पास महंत रामनाथ जी महाराज ब्रम्हलीन हो गए थे । उनकी समाधि संस्कार में महंत कल्पवृक्ष गिरी जी महाराज और महंत सुशील गिरी जी महाराज को बुलाया गया था । शोकमग्न दोनों संत नासिक से अपनी गाड़ी से रवाना हुए थे ।
     महंत परशुराम दास जी महराज ने बताया कि पालघर जिला में दहानू तहसील के गढ़ चिल्ले ग्राम में पालघर थाना पुलिस ने लॉक डॉउन का उल्लघंन करने के आरोप में रोक लिया और दोनों संतो को गाड़ी से उतारकर एकत्र हुई भीड़ के हवाले कर दिया । उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों संतों कि हत्या पुलिस ने जानबूझ कर करवाई है । पुलिस के इस कृत्य ने सम्पूर्ण महाराष्ट्र पुलिस का मस्तक नीचा किया है ।
     हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय धर्माचार्य प्रमुख महामंडलेश्वर स्वामी सुरेशानंद पूरी जी महाराज ने दिल्ली से  इस हत्याकांड की आलोचना करते हुए कहा कि एक तरफ तो लॉक डॉउन का उल्लघंन करने पर पुलिस उनकी आरती उतारकर उन्हें लज्जित करते हुए वापस उनके घर भेज रही है , दूसरी तरफ पालघर पुलिस लॉक डॉउन के उल्लंघन पर हत्या करवा रही है । यह बर्दाश्त से बाहर है । यदि पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर दण्डित नहीं किया गया तो हिन्दू महासभा साधु संतों के साथ मिलकर प्रचंड आंदोलन शुरू करेगी । 
    हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय मंत्री ( पश्चिमी भारत संभाग )  आचार्य विजय प्रकाश मानव ने मुंबई से कहा कि उद्धव ठाकरे कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने के बाद से हिंदुत्व से विमुख हो गए है और हिन्दू हृदय सम्राट बाला साहब बाल ठाकरे की विचारधारा को समाप्त करने का प्रयास कर रहे है । उन्होंने मुख्यमंत्री से मिलकर हत्या प्रकरण पर ज्ञापन देने की घोषणा की है ।
    हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पंडित आत्माराम तिवारी ने भी चेतावनी देते हुए कहा कि संतों कि हत्या पर हिन्दू महासभा चुप नहीं बैठेगी और लॉक डॉउन समाप्त होने के बाद राष्ट्रव्यापी आंदोलन आरंभ करेगी ।