सेवायोजक लाॅक डाउन की अवधि में अपने कर्मचारियों/श्रमिकों के वेतन से कोई कटौती नही करे-जिलाधिकारी


     लखनऊ 06 अप्रैल, सहायक श्रम आयुक्त रवि श्रीवास्तव ने बताया कि अभिषेक प्रकाश, जिलाधिकारी, लखनऊ ने आज श्रम विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर जनपद में स्थित दुकानों/वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों/निजी संस्थानों/ईंट भट्टो/ कारखानों में कार्यरत श्रमिक/कर्मचारियों को उन्हे 07 अप्रैल, 2020 तक माह मार्च, 2020 का वेतन प्रत्येक दशा में भुगतान कराये जाने के निर्देश दिये।
     जिलाधिकारी ने कहा कि कोई भी सेवायोजक लाॅक डाउन की अवधि में अपने कर्मचारियों/श्रमिकों के वेतन से कोई कटौती नही करेगें। जो भी संस्थान/दुकान/वाणिज्यिक प्रतिष्ठान/कारखानें कोविड-19 महामारी के चलते अस्थायी रूप से बंद किये गये है उनमें नियोजित समस्त श्रमिकों को उक्त अस्थायी बंदी के लिये सेवायोजको द्वारा वेतन सहित अवकाश प्रदान किया जायेगा।यदि किसी सेवायोजक द्वारा वेतन का भुगतान नहीं किया जाता है, महामारी अधिनियम, 1879 के अन्तर्गत आवश्यक वैधानिक कार्यवाही श्रम विभाग द्वारा की जायेगी। जिसमे 1 वर्ष की सजा व जुर्माना व दोनों हो सकते है। बी0के0राय, अपर श्रम आयुक्त द्वारा लखनऊ मण्डल के सभी सहायक श्रम आयुक्त, श्रम प्रवर्तन अधिकारियों को सतर्क किया गया है कि वह अपने-अपने सेक्टर के सेवायोजको से दूरभाष पर सम्पर्क कर वेतन भुगतान की सूचना लें। यदि कोई सेवायोजक जान बूझकर वेतन नही देता है तो उसके विरूद्ध एफ0आई0आर0 भी दर्ज की जायेगी।
        सहायक श्रम आयुक्त, लखनऊ ने सेवायोजको से अपील की है कि संयुक्त आयुक्त उद्योग के कार्यालय में स्थापित कोविड-19 के कन्ट्रोल रूम के फोन नं0 0522-2202893 या ई-मेल आई0डी0 upepblko@gmail.com पर प्रतिष्ठान का नाम, नियोजित श्रमिकों की संख्या, कितने श्रमिकों को भुगतान किया गया, भुगतान की गयी धनराशि, भुगतान न करने का कारण की सूचना अनिवार्य रूप से उपलब्ध करायें ताकि समय से शासन को अवगत कराया जा सके।