11378 प्रवासी कामगारों को मिला रोजगार-मुख्य विकास अधिकारी


      जनपद की 1047 ग्राम पंचायतों में चल रहे मनरेगा कार्यो में 11378 प्रवासी कामगारों को मिला रोजगार-मुख्य विकास अधिकारी,मनरेगा योजना के क्रियान्वयन एवं अनुश्रवण हेतु विकास भवन में कन्ट्रोल रूम किया गया स्थापित।

    प्रतापगढ़, मुख्य विकास अधिकारी डा0 अमित पाल शर्मा ने अवगत कराया है कि कोविड-19 महामारी के कारण देश में सभी उद्योग धन्धे बन्द होने के फलस्वरूप जनपद में निरन्तर प्रवासी कामगारों का आगमन हो रहा है, प्रवासी कामगारों को ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार की समस्या से निपटने के लिये मनरेगा योजना एक मात्र सहारा बनी हुई है। जनपद में आये हुये प्रवासी श्रमिकों को रोजगार के लिये किसी समस्या का सामना न करने पड़े इस हेतु जनपद स्तर पर कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है जिसका नम्बर 9450188622 है। इस नम्बर पर मनरेग योजना के अन्तर्गत कार्य करने का इच्छुक कोई भी व्यक्ति जॉब कार्ड बनवाने एवं कार्य की मांग करने हेतु शिकायत दर्ज करा सकता है। दर्ज करायी गयी शिकायत पर तत्काल प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। उन्होने बताया है कि जनपद के 17 विकास खण्डों में 51000 श्रमिकों को मनरेगा योजना अन्तर्गत रोजगार दिलाया गया है। इस समय जनपद के 3858 परियोजनाओं पर कार्य चल रहा है।


     इस समय जनपद की 1047 ग्राम पंचायतों में मनरेगा का कार्य चल रहा है जिसमें बाहर से आने वाले 11378 प्रवासी कामगारों को उनकी ग्राम पंचायत में ही रोजगार उपलब्ध कराया गया है तथा 12054 प्रवासी कामगारों को नये जॉब कार्ड निर्गत किये गये है। इसी तरह से अब तक 3337 कामगारों के जॉब कार्ड का नवीनीकरण किया गया है ताकि उन्हें रोजगार मिल सके तथा 1923 प्रवासी कामगार जो गांव छोड़कर अन्यत्र रोजगार की तलाश में चले गये थे ऐसे श्रमिकों को उनके परिवार के पूर्व में निर्गत जॉब कार्ड में जोड़ दिया गया है। मुख्य विकास अधिकारी ने सभी खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देशित किया है कि उनकी ग्राम पंचायतों मनरेगा योजनान्तर्गत किये जा रहे कार्यो का प्रभावी अनुश्रवण करें तथा सोशल डिस्टेसिंग बनाये रखते हुये परियोजना का कार्य निर्धारित समय अवधि में पूर्ण करायें। विकास खण्ड स्तर पर मनरेगा योजना के सम्बन्ध में प्राप्त होने वाली शिकायत का प्रतिदिन अनुश्रवण कर निस्तारण कराये।