26 मई तक 50009-739 मैट्रिक टन गेहूं की हुई खरीद-डॉ0  उज्जवल कुमार


      महराजगंज, 27 मई,  जिलाधिकारी डॉ0 उज्जवल कुमार ने बताया कि रबी खरीद वर्ष 2020-21 के अंतर्गत महराजगंज जिले का गेहूं क्रय लक्ष्य 128500 मैट्रिक टन शासन द्वारा निर्धारित किया गया है। जिसके सापेक्ष विभिन्न गेहूं क्रय एजेंसियों द्वारा  8939 किसानों से जनपद में क्रियाशील 196 गेहूं क्रय केंद्रों के माध्यम से 26 मई तक 50009-739 मैट्रिक टन गेहूं की खरीद की जा चुकी हैं। 


      डॉ0 उज्जवल कुमार ने बताया कि खाद्य विभाग द्वारा 12500 लक्ष्य के सापेक्ष 7014-55, मीट्रिक टन गेहूं  की खरीद की गई है। इसी प्रकार पीसीएफ द्वारा 58500 लक्ष्य के सापेक्ष 16134-119, यूपी एग्रो द्वारा 1500 लक्ष्य के सापेक्ष 963-05, कर्मचारी कल्याण निगम द्वारा 5000 लक्ष्य के साथ 2245-45, यूपी एस एस के द्वारा 7500 लक्ष्य के सापेक्ष 5367-28, पी सी यू के द्वारा 30000 लक्ष्य के सापेक्ष 12241-79, नेफेड के द्वारा 6000 लक्ष्य के सापेक्ष 3660-30, एन सी सी एस के द्वारा 5500 लक्ष्य के सापेक्ष 2071-70 तथा भारतीय खाद्य निगम द्वारा 2000मीट्रिक टन लक्ष्य के सापेक्ष 311-50 मैट्रिक टन गेहूं क्रय किया गया।


      सभी खरीद केंद्रों को निर्देशित किया गया है कि ₹1925/ कुंतल से कम मूल्य देने पर विधिक कार्यवाही की जायेगी l प्रत्येक केंद्र पर सैनिटाइजर, मास्क, साबुन आदि की व्यवस्था के साथ ही सामाजिक दूरी  का अनुपालन  किए जाने  के  निर्देश दिए गए हैं l  इसके साथ ही नोडल अधिकारियों को भी गेहूं क्रय केंद्रों की लगातार निगरानी किए जाने तथा आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित किए जाने के  निर्देश दिए गए हैं l


      डा0 उज्ज्वल  कुमार ने बताया कि नोडल अधिकारियों द्वारा निगरानी समितियों की बैठकों का आयोजन कर उन्हें और अधिक सक्रिय किया जा रहा है। वहीं निगरानी समितियों द्वारा भी अपने दायित्वों का बेहतर ढंग से निर्वहन किया जा रहा है। इस संबंध में जहां भी कोई शिकायत प्राप्त होती है उसको संज्ञान में लेते हुए तत्काल  निराकरण सुनिश्चित कराया जा रहा है।


      जिलाधिकारी डा0 उज्ज्वल  कुमार ने बताया कि कोरोना वैश्विक महामारी के दृष्टिगत जनपद में संचालित किए जा रहे आश्रय स्थलों एवं सामुदायिक रसोई का  उनके व उनके अधीनस्थों द्वारा नियमित निरीक्षण किया जा रहा है, ताकि व्यवस्थाओं में किसी भी प्रकार की कोई कमी ना हो पाए। इस संबंध में प्राप्त होने वाली शिकायतों को गंभीरता से लिया जा रहा है।