घरवालों के साथ मनाएं ईद, गले मिलने से करें परहेज- फरंगी महली

      लखनऊ,  ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि एक ओर जहां पूरी दुनियां में कोरोना सक्रमण फैला हुआ है वहीं दूसरी ओर रमजान के पाक महीने में घरों में रोजेदार इबादत कर प्रशासन के बताए नियमों का पालन कर शारीरिक दूरी बनाकर अल्लाह की इबादत कर रहे हैं। कोरोना से बचने के लिए हुकूमत के बनाए नियमों का पालन करते हुए ईद की खुशियां भी घर वालों के साथ मनाएं।


     ईद पर या उसके बाद आपको अवाई वतन आने का मौका मिले तो आप ऐसी सूरत में भीड़ से दूर रहेंगे और 21 दिनों तक खुद को घर के सदस्यों से दूर रखेंगे। मौलाना ने कहाकि ईद पर गले मिलने और मुसाफासे खुद को अलग रखें। 25 मई को होने वाली ईद से पहले मौलाना ने ईद पर नए कपड़े खरीदने से परहेज करने और पुराने अच्छे साफ कपड़े को पहन कर ईद मनाने की गुजारिश की है। मोलाना में गैर जरूरी सामानों को न खरीदने अाैर बाजार में भीड़ न बढ़ाने की भी अपील रोजेदारों और मुस्लिम समाज के लोगों से की है। मौलाना ने कहा कि रमजान का महीना कुरान पाक का महीना है। दिन में रोजा रखे और रात को पूरे माह बीस रकआत तरावीह पढ़े। तहज्जुद, अशराक़, चाश्त, अव्वाबीन और अन्य नफलें पढ़ें। मौलाना ने कहा कि इस मुकद्दस माह में जकात, सदक़ा और खैरात अदा करने का विशेष एहतिमाम किया जाए। गरीबों, जरूरतमंदों, मोहताजों और परेशान लोगों की खूब मदद की जाए। अपने आप को, अपने बच्चों और घरों को गुनाहों से बचाएं। शब-ए-कद्र और आखिर की दूसरी ताक रातों और जुमअतुलविदा और ईद-उल-फित्र की नमाज भी घरों में ही अदा करें।