होम क्वारण्टीन किए गए व्यक्तियों पर कड़ी निगरानी के निर्देश:जिलाधिकारी


अयोध्या,  जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि ऐसे प्रवासी श्रमिकों या बाहर से आए हुए लोगों की सूची जिनको 21 दिवसों के लिए होम क्वॉरेंटाइन किया जाना है, संबंधित लेखपाल को उपलब्ध कराई जाएगी। समस्त निगरानी समितियां अपने ग्रामों व मोहल्लों में प्रतिदिन क्षेत्रीय भ्रमण करेंगी एवं होम क्वॉरेंटाईन किए गए व्यक्तियों की निगरानी करेंगी। ऐसे व्यक्तियों से अथवा उनके घर वालों से प्रतिदिन संपर्क स्थापित कर उनके स्वास्थ्य संबंधी लक्षणों की जानकारी प्राप्त करेंगी।


      ऐसा प्रतीत होता है कि किसी होम क्वॉरेंटाईन किए गए व्यक्ति में कोरोना संबंधी लक्षण प्रतीत हो रहे हैं तो वह पर्यवेक्षणीय टीम से संपर्क कर उनका सैम्पलिंग एवं टेस्टिंग कराना सुनिश्चित करेगी।


    होम क्वारण्टीन किए गए व्यक्तियों द्वारा यदि होम क्वारण्टीन के नियमों का उल्लंघन किया जाता है तो वह निर्धारित प्रारूप (संलग्न-2) पर पर्यवेक्षणीय समिति व खंड विकास अधिकारी व तहसीलदार को सूचित करेंगे। आवश्यकता होने पर ऐसे व्यक्तियों को आश्रय स्थल व क्वारण्टीन कैंप में भेजा जाएगा। ऐसे होम क्वारण्टीन किए गए व्यक्ति जिनके घरों में पृथक से कक्ष न हो या परिवार में 60 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं, एवं मधुमेह, उच्च रक्तचाप एवं हृदय रोग जैसे रोगों से ग्रसित व्यक्ति हैं, उनको आश्रय स्थल पर स्थानांतरित किया जाएगा होम क्वारण्टीन किए गए सभी व्यक्तियों के घर के बाहर उचित स्थान पर क्वारण्टीन फ्लायर/पंपलेट लगाया जाएगा जिससे उस घर के क्वारण्टीन के अंतर्गत होने का संकेत मिल सके।


    जिलाधिकारी ने आगे बताया कि होम क्वॉरेंटाइन के अतिरिक्त बाहर से आए हुए व्यक्तियों के संबंध में अपेक्षित कार्रवाई गांव/मोहल्ले में यदि किसी व्यक्ति की पैदल अथवा अपने साधन से आने की सूचना प्राप्त होती है तो संबंधित निगरानी समिति संलग्न प्रारूप संलग्न-3 पर सूचना पर्यवेक्षणीय समिति को प्रेषित करेगी। उक्त सूचना में अनिवार्य रूप से व्यक्ति का नाम, पिता का नाम, मोबाइल नंबर, व्यक्ति के आगमन का दिनांक, किस जनपद/प्रदेश से आए हैं एवं उनके स्वास्थ्य संबंधी लक्षण अंकित किए जाएंगे। प्रत्येक पर्यवेक्षणीय समिति प्रभारी चिकित्सा अधिकारी व खंड विकास अधिकारी व तहसीलदार को सूचित करेंगे एवं उनको आवश्यकतानुसार या तो स्वास्थ्य परीक्षण हेतु आश्रय स्थल पर स्थानांतरित करना सुनिश्चित करेंगे अथवा स्वास्थ्य उपकेंद्र पर बनी स्वस्थ टीम के माध्यम से उनके घर पर ही होम विजिट कराकर परीक्षण करायेगी उपरोक्त के अतिरिक्त यदि किसी भी अन्य ग्रामवासी को कोरोना संबंधित लक्षण प्रतीत होते हैं तो उनके संबंध में भी पर्यवेक्षणीय टीम को सूचित किया जाएगा एवं स्वास्थ्य परीक्षण हेतु आवश्यक कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने आगे बताया जहाॅ भी ग्राम निगरानी समितियो को यह प्रतीत होता है कि किसी व्यक्ति अथवा अनावश्यक रूप से होम क्वारण्टीन का उल्लंघन किया जा रहा है, तो वह सम्बन्धित बीट कान्स्टेबिल एवं हल्का इंचार्ज के माध्यम से विधिक कार्यवाही करेंगे।