होम क्वारेन्टाइन व्यक्ति कहीं घूमते हुये पाये जायेगें तो होगी कार्यवाही-जिलाधिकारी


      जिलाधिकारी ने फैसेल्टी क्वारेन्टाइन सेन्टर आचार्य सदाशिव संस्थान खरहर, डा0 जयमंगल सिंह प्रशिक्षण शिक्षण संस्थान एवं माँ ऊषा सिंह महाविद्यालय का किया निरीक्षण।

       प्रतापगढ़ , जिलाधिकारी डा0 रूपेश कुमार ने कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम, बचाव एवं आमजनमानस को आवश्यक सुविधाओं के दृष्टिगत आज फैसेल्टी क्वारेन्टाइन सेन्टर आचार्य सदाशिव संस्थान खरहर, माँ ऊषा सिंह महाविद्यालय खरहर एवं डा0 जयमंगल सिंह प्रशिक्षण शिक्षण संस्थान का निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने आचार्य सदाशिव संस्थान खरहर फैसेल्टी क्वारेन्टाइन सेन्टर के निरीक्षण में वहां पर रह रहे प्रवासी श्रमिकों एवं व्यक्तियों से उनके स्वास्थ्य एवं भोजन के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। उन्होने स्वास्थ्य टीम को निर्देशित किया कि पूरे परिसर को सेनेटाइज कराया जाये तथा वहां पर रह रहे व्यक्तियों का सावधानी पूर्वक स्वास्थ्य परीक्षण किया, यदि किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस से संक्रमण का लक्षण पाया जाता है तो उसका सैम्पल लेकर जांच हेतु मेडिकल कालेज भेजवाना सुनिश्चित करें। निरीक्षण के दौरान परिसर एवं कमरों की साफ-सफाई सन्तोषजनक न पाये जाने पर नोडल अधिकारी एडीओ कोआपरेटिव दिलीप को फटकार लगाते हुये सचेत किया और निर्देशित किया कि सफाई कर्मियों द्वारा सभी कक्षों की पुनः सफाई कराये तथा कक्षों में रह रहे प्रवासी श्रमिकों में सोशल डिस्टेसिंग का अनुपालन सुनिश्चित कराये।


      जिलाधिकारी ने वहां पर प्रवासी श्रमिक वीरेन्द्र से भोजन की व्यवस्था के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की तथा सभी श्रमिकों को 21 दिनों के लिये होम क्वारेन्टाइन की अवधि में कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु अपनायी जाने वाली सावधानियों के अनुपालन के विषय में बताया। जिलाधिकारी ने इस दौरान कम्युनिटी किचेन का भी निरीक्षण किया, निरीक्षण के दौरान नायब तहसीलदार रानीगंज को निर्देशित किया कि कम्युनिटी किचेन साफ-सुथरा हो तथा भोजन गुणवत्तापूर्ण हो। नायब तहसीलदार द्वारा बताया कि 81 प्रवासी श्रमिक यहां पर रह रहे है, जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि होम क्वारेन्टाइन में प्रवासी श्रमिकों को भेजते समय खाद्यान्न किट अवश्य उपलब्ध करायी जाये।



      फैसेल्टी क्वारेन्टाइन सेन्टर में डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक प्रशिक्षण संस्थान भुपियामऊ के निरीक्षण में जिलाधिकारी ने प्रवासी श्रमिकों निर्देशित किया कि वह 21 दिनों के लिये होम क्वारेन्टाइन की अवधि में अपने घरों से बाहर नही निकलेगें तथा सोशल डिस्टेसिंग का शत प्रतिशत अनुपालन करेगें। जिलाधिकारी ने वहां पर चल रहे कम्युनिटी किचेन का भी निरीक्षण किया, कम्युनिटी किचेन में तन्दुरी रोटी बन रही थी, रोटी की गुणवत्ता को स्वयं जिलाधिकारी परखा तथा किचेन में ही बरतन धुले जाने व गन्दगी पाये जाने पर रसोइयों को फटकार लगायी तथा निर्देशित किया कि भोजन बनाते समय ग्लब्स, मास्क व सिर पर टोपी अवश्य लगाये।



      परिसर में खाना खाने के बाद डस्टबीन में डिब्बे भरे रहने पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की तथा नोडल अधिकारी को निर्देशित किया कि तत्काल सफाई कर्मी से डस्टबीन को साफ करायें और कहा कि दुबारा इस प्रकार की लापरवाही संज्ञान में आने पर कार्यवाही की जायेगी। परिसर में किये जा रहे स्वास्थ्य परीक्षण के लिये लम्बी लाइन लगी देखकर जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य टीम को महिलाओं की अलग लाइन बनाने तथा सोशल डिस्टेसिंग का अनुपालन कराने का निर्देश स्वास्थ्य टीम को दिया।


      स्वास्थ्य टीम द्वारा बताया गया कि होम क्वारेन्टाइन में भेजे गये लोग पुनः अपने परिचित रिश्तेदारों को लेने के लिये आ रहे है जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की तथा सचेत किया कि यहां पर आने वाले प्रवासी श्रमिकों को बस अथवा अन्य वाहन से उनके घर भेजवाया जा रहा है, होम क्वारेन्टाइन किये गये व्यक्ति कदापि घरों से न निकले अन्यथा उनके विरूद्ध एपिडेमिक डिजीज एक्ट के तहत कार्यवाही की जायेगी। इसी प्रकार जिलाधिकारी ने माँ ऊषा सिंह महाविद्यालय खरहर फैसेल्टी क्वारेन्टाइन सेन्टर का निरीक्षण किया एवं अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) शत्रोहन वैश्य, जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।