जिलाधिकारी के सख्त निर्देश,जिम्मेदारी से निभाएं दायित्व


 जिलाधिकारी ने टीम-11 के अधिकारियों के साथ की बैठक दिये आवश्यक दिशा निर्देश।

     निगरानी समिति द्वारा होम क्वारेन्टाइन किये गये लोगों के पर्यवेक्षण में शिथिलता बरतने पर होगी कार्यवाही।जिलाधिकारी ने फैसेल्टी क्वारेन्टाइन सेन्टर डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक प्रशिक्षण संस्थान एवं शहर के विभिन्न चौराहों का किया निरीक्षण।

    प्रतापगढ़, जिलाधिकारी डा0 रूपेश कुमार की अध्यक्षता में आज कैम्प कार्यालय में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव, रोकथाम एवं आमजनमानस को आवश्यक सुविधाये सुनिश्चित करने हेतु गठित टीम-11 के साथ बैठक की गयी। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा बताया गया कि गुलहसन पुत्र मकबूल अली जो सरायमकई थाना जेठवारा का निवासी है जो बीमार होने पर एस0आर0एन0 हास्पिटल में स्वयं भर्ती होने गया था, जांच में उसकी रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव प्राप्त हुई है तथा उसके मृत्यु की सूचना प्राप्त हुई है।


          जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी डेथ प्रोटोकाल के अनुसार समस्त आवश्यक कार्यवाही सावधानीपूर्वक सुनिश्चित कराने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया। मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा बताया कि मृतक के निकट सम्पर्क में रहे लोगों की सूची बनायी जा रही है और सभी को क्वारेन्टाइन कराने की कार्यवाही की जा रही है। गायघाट ट्रामा सेन्टर में 30 तथा लालगंज ट्रामा सेन्टर में 10 कोरोना पाजिटिव भर्ती है जिनका ईलाज डाक्टरों द्वारा किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने ट्रामा सेन्टर में भर्ती मरीजों को दिये जा रहे भोजन की गुणवत्ता की जांच करने एवं नियमित साफ-सफाई किये जाने का मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 अमित पाल शर्मा द्वारा बताया गया कि 57000 श्रमिकों को मनरेगा योजनान्तर्गत हॉट-स्पाट एरिया को छोड़कर ग्राम पंचायतों में रोजगार दिया जा रहा है।



         जिलाधिकारी ने गर्मी को देखते हुये सभी खराब हैण्डपम्पों को ठीक कराने का निर्देश सम्बन्धित अधिकारियों को दिया जिससे गर्मी के मौसम में पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित हो सके। उन्होने बाहर से आने वाले प्रवासियों को होम क्वारेन्टाइन की अवधि में घर से बाहर निकलने की शिकायत का संज्ञान लेते हुये निर्देशित किया कि कोरोना संक्रमण का खतरा अभी टला नही है इसलिये होम क्वारेन्टाइन किये गये व्यक्तियों को यदि बाहर घूमते हुये पाया जाये तो उनके विरूद्ध एपिडमिक डिजीज एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज कराने की कार्यवाही की जाये। इस सम्बन्ध में सम्बन्धित गांव के ग्राम प्रधान की अध्यक्षता में गठित निगरानी समिति का दायित्व भी निर्धारित किया जाये, यदि निगरानी समिति द्वारा होम क्वारेन्टाइन किये गये लोगों के पर्यवेक्षण में शिथिलता बरती जायेगी तो उनके विरूद्ध भी कार्यवाही की जायेगी। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 अमित पाल शर्मा, मुख्य राजस्व अधिकारी श्रीराम यादव, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अरविन्द कुमार श्रीवास्तव, जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।



        जिलाधिकारी ने ईद के पर्व को देखते हुये शहर के विभिन्न चौराहों चिलबिला, सदर मोड़, चौक, भंगवा चुंगी सहित अन्य चौराहों पर शान्ति व्यवस्था बनाये रखने हेतु निरीक्षण किया। निरीक्षण के समय जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि बाजार में अनावश्यक भीड़ न लगने दें और सोशल डिस्टेसिंग का शत प्रतिशत अनुपालन कराया जाये तथा दुकानदार एवं ग्राहक मास्क या गमछा या रूमाल का प्रयोग मुॅह एवं नाक ढकने के लिये अवश्य करें, यदि इसका उल्लंघन किया जाता है तो सम्बन्धित के विरूद्ध कार्यवाही की जाये। इसके अलावा जिलाधिकारी ने फैसेल्टी क्वारेन्टाइन सेन्टर डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक प्रशिक्षण संस्थान का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने कम्युनिटी किचेन में बन रहे भोजन की गुणवत्ता एवं साफ-सफाई को देखा तथा निरीक्षण के समय उपस्थित उपजिलाधिकारी सदर को भोजन की गुणवत्ता परखने हेतु उनको खाने का पैकेट देकर खिलवाया एवं निर्देशित किया कि प्रवासी श्रमिकों को भोजन देते समय सोशल डिस्टेसिंग का अनुपालन किया जाये व कम्युनिटी किचेन में साफ-सफाई की व्यवस्था बेहतर बनी रहे।


      जिलाधिकारी ने फैसेल्टी सेन्टर में वितरित की जा रही खाद्यान्न किट का निरीक्षण किया तथा अधिकारियों को निर्देशित किया कि प्रवासी श्रमिकों को होम क्वारेन्टाइन भेजते समय उनको खाद्यान्न किट अनिवार्य रूप से उपलब्ध करायी जाये इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। जिलाधिकारी ने चिकित्सा टीम को निर्देशित किया कि स्क्रीनिंग करते समय प्रवासी मजदूरों की काउन्सलिंग की जाये तथा उन्हें होम क्वारेन्टाइन की अवधि में घर पर रहने एवं साफ-सफाई तथा मुॅह ढककर रहने की सलाह भी दी जाये ताकि संक्रमण से उनका परिवार भी बचा रहे और अन्य लोग भी बचे रहे। निरीक्षण के समय उपजिलाधिकारी सदर मोहन लाल गुप्ता, जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार भी उपस्थित रहे।