कांग्रेस पार्टी की बसें यूपी बार्डर पहुंची, गरीब विरोधी भाजपा का चरित्र उजागर: प्रमोद तिवारी

               महासचिव प्रियंका गांधी ने चिठ्ठी लिखकर मांगा था 1000 बसें चलाने की अनुमति, किन्तु इस आपदा में भाजपा कर रही है कुटिल राजनीति,कांग्रेस पार्टी प्रवासी गरीब मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए मदद के लिए तत्पर है।एक हजार से अधिक बसें बार्डर पर लगायी गयी हैं, प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू और राष्ट्रीय सचिव श्री रोहित चैधरी बार्डर पर हैं मौजूद।

         लखनऊ 19 मई, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद श्री प्रमोद तिवारी ने प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में योगी आदित्यनाथ सरकार पर प्रवासी गरीब मजदूरों को तकनीकी आधार पर प्रताड़ित करने और इस महामारी के दौरान घृणित राजनीति करने का आरोप लगाया है। उन्होने कहा कि प्रदेश की योगी सरकार पूरी तरह गरीब मजदूर विरोधी है।


     कांग्रेस पार्टी की मंशा मजदूरों को लेकर पूरी तरह साफ है। कई राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों को ट्रेनों से उनके घरों तक पहुंचाने के लिए श्रमिकों के टिकट की व्यवस्था कांग्रेस पार्टी ने कराई है और करा रही है। उ0प्र0 के बार्डर पर लाखों की संख्या में श्रमिक अपने घरों को आना चाहते हैं जिसके लिए कांग्रेस पार्टी ने 1000 बसों की व्यवस्था कराई है जिसे प्रदेश की योगी सरकार तकनीकी तौर पर उलझाकर चलाने की अनुमति नहीं दे रही है।



      उन्होने कहा कि पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी ने 16 मई को पत्र लिखकर 1000 बसें चलाने की अनुमति मांगीं थीं। उस पत्र को प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू एवं नेता विधानमंडल दल श्रीमती आराधना मिश्रा‘मोना’ के नेतृत्व में पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री कार्यालय को पत्र ले जाकर दिया गया जिस पर दो दिन बाद सरकार के अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश अवस्थी ने श्रीमती प्रियंका गांधी जी के निजी सचिव श्री संदीप सिंह को पत्र भेजकर बसों का विवरण, फिटनेस, चालक एवं परिचालक के नामों की सूची मांगी। जिसे कांग्रेस पार्टी ने तत्काल 1000 से अधिक बसों की सूची सरकार को उपलब्ध करा दिया।


    इस आपदा में सबसे अधिक शर्मनाक यह है कि अपर मुख्य सचिव गृह श्री अवनीश अवस्थी की तरफ से आज रात्रि में तकनीकी शर्तों के साथ पत्र लिखकर कहा गया कि आज सुबह 10 बजे तक वृन्दावन योजना लखनऊ के सेक्टर 15 एवं 16 में बसों को जिलाधिकारी लखनऊ को सौंपें। रात्रि में 2बजकर 10 मिनट पर श्रीमती प्रियंका गांधी जी के निजी सचिव श्री संदीप सिंह ने श्री अवनीश अवस्थी को पत्र लिखा कि यह एक तरीके से बहुत ही अमानवीय तरीका है। कांग्रेस लाॅक डाउन के बाद पहले दिन से ही मजदूरों को सुरक्षित घर पहुंचाने के लिए चिंतित रही है। 


     आज प्रातः अपनी कुटिल राजनीति मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खेली है और कहा है कि दोपहर 12 बजे तक बसों को नोएडा, गाजियाबाद में सौंपे। 


     अब जब बसें बार्डर पर पहुंच रही हैं तो स्थानीय प्रशासन कह रहा है कि उन्हें ऊपर से कोई सूचना नहीं है। एक तरफ मुख्य सचिव यह फरमान देते हैं कि बसांे को नोएडा, गाजियाबाद ले आओ दूसरी तरफ हमारी बसों को उ0प्र0 में घुसने से मना किया जा रहा है। यह उ0प्र0 सरकार की तानाशाही का चरम नमूना है। 


     कांग्रेस पार्टी अपनी बात पर अडिग है। संकट में फंसे प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारी बसें गाजियाबाद और नोएडा बार्डर पर लगी हुई हैं। हम प्रदेश सरकार से मांग करते हैं कि सभी राजनीतिक परहेजों को दूर करते हुए एक दूसरे के साथ सकारात्मक, सेवा भाव से जनता की सहायता करने का मौका दें।


      सोशल मीडिया और अन्य संचार माध्यमों से पता चला है कि भाजपा के लोग कह रहे हैं कि कुछ बसों के नम्बर मैच नहीं कर रहे हैं। हमने  बसें बॉर्डर पर लगा दिया। भाजपा के लोगों द्वारा कांग्रेस को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है ऐसे में कांग्रेस पार्टी उन पर मानहानि का मुकदमा दर्ज करायेगी।