कोरोना के खिलाफ 'जंग' में यूं भागीदारी निभा रही मुलायम की बहू -अभिलाषा यादव


       कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘जंग’ में  मुलायम सिंह यादव की बहू डिम्पल,अभिलाषा बच्चो के साथ जी-जान से जुटी हुए हैं।वैश्विक महामारी कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘जंग’ में सेवा जिनके ख़ून में समाजवाद है वो समाजवादी आखरी सांस तक समाज के दुखी हर व्यक्ति के साथ हैं। सेवा परमो धर्मः। लॉकडाउन के पहले दिन से निरंतर जारी है - मानव सेवा। इस महामारी के संकट में अभिलाषा अपने बच्चो ओर पति के साथ मानव सेवा के साथ-साथ सर्वधर्मसमभाव व मानवता को महत्व देते हुए जाति,पंथ,धर्म की सोच को दरकिनार कर सामाजिक समरसता की भावना का ध्यान रखते हुए गरीब,मजदूर व असहाय समुदाय के जरुरतमंद परिवारों को राशन सामग्री का लगातार वितरण किया। इसी के साथ लोगो में जीवन की नई अभिलाषा जाग्रत कर प्रोत्साहन भी दे रही हैं।



       कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘जंग’ में अभिलाषा यादव लगातार अपने परिवार एवं सहयोगियोंके साथ लगातार प्रभावित लोगों की मदद कर रही है। इसके तहत पहले उन्होंने गरीब,मजदूर व असहाय समुदाय के जरुरतमंद परिवारों को राशन सामग्रीवितरित करायी फिर भूखे-प्यासे प्रवासी श्रमिकों के लिए भोजन का इंतजाम भी कराया है।अनुराग यादव ओर अभिलाषा यादव के सहयोग से कार्यकर्ताओं द्वारा लगभग 800 से 1000 लोगों को भोजन के पैकेट वितरण किए जा रहे हैं।



        मुलायम सिंह यादव की बहू अभिलाषा यादव रोड पर चल रहे प्रवासी मजदूरों मजदूरों के लिए अपने आवास से  खाना लेकर प्रतिदिन वह अपने पति के साथ आम प्रवासी मजदूर को रास्ते में भोजन पानी वितरित करती चली आ रही है। इसी कड़ी में अनुराग यादव ओर अभिलाषा यादव द्वारा अलग-अलग जगह राह गुजरते प्रवासी मजदूर श्रमिकों को पानी की बोतल, बिस्किट के पैकेट  फल वितरित किए गए।



मानवता की शानदार मिशाल पेश करतीं पूर्व सांसद  डिम्पल यादव ने अन्य राज्यो से अपने घर वापस जा रहे प्रवासी श्रमिकों को आज लखनऊ स्थित फैज़ाबाद रोड पर तपती धूप में अपने हाथ से वितरित किया भोजन। पिछले कई हफ़्तों से पूर्व सांसद डिम्पल यादव जी ऐसे ही प्रवासी मजदूरों की कर रहीं हैं मदद।



      अनुराग यादव ओर अभिलाषा यादव का कहना है, कि ‘हम यथासंभव जरूरतमंदों की सेवा करते रहेंगे। इस कार्य मे राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव का भी पूरा सहयोग आवर निर्देश मिल रहा है। मानव सेवा से बढ़ कर कोई सेवा नहीं है। हम हर व्यक्ति तक संदेश पहुंचाना चाहते है कि इस संकट की घड़ी में आगे आएं और जरूरतमंदों की मदद करें।



    वो पेट की खातिर अपना ईमान बेच रहे हैं। जिनकी वजह से वे अपना ईमान बेच रहे हैं।


      मुलायम सिंह यादव के भतीजे अनुराग यादव पत्नी अभिलाषा और बच्चों के साथ प्रतिदिन अपनी दिनचर्या में प्रवासी मजदूरों का सहारा बनने का प्रयास उन्होंने उठा लिया है। प्रतिदिन अपने आवास पर प्रवासी निस्सहाय मजदूरों के लिए खाना तैयार कर शहर के किसी छोटे से बड़े मार्ग पर निकल जाते हैं और प्रयास करते हैं कि रोड पर जा रहे किसी गरीब निस्सहाय मजदूर को भूखा प्यासा ना रहना पड़े। प्रतिदिन वह लगभग 800 से 1000 पैकेट भोजन तथा पानी फल आदि की व्यवस्था कर वितरित करने का प्रयास करते हैं। अनुराग यादव ने तो फोटो खींचने से मना किया कि किसी भी प्रकार की इस वितरण संबंधी न्यूज़ ना बनाई जाए लेकिन विशेष आग्रह पर उन्होंने परमिशन दिया की चलिए ठीक है अगर आप लोग नहीं मानते तो फोटो ले लीजिए अनुराग यादव के जीवन में हमेशा यही प्रयास रहा है कि किसी भी प्रकार का समाज में दिखावा नहीं होना चाहिए।