कोविड-19, सतर्क प्रसासन चप्पे चप्पे पर नज़र


        अयोध्या 27 मई,  संकट की घड़ी में व्यक्ति अपने वतन, अपने शहर, अपने गांव, लौटना चाहता है गाॅव लौटने पर ही वह अपने आपको को सुरक्षित मानता है। इस जनपद के निवासी जो अपने व परिवार के जीवकोपर्जन के लिए अन्य प्रांतों में मेहनत मजदूरी के लिए बड़ी संख्या में गए थे, कोरोना वायरस के इस संकटकाल में वापस आ रहे हैं। इससे किसी को भी परेशान एवं घबराना नहीं चाहिए यह सत्य है कि विगत दो-तीन दिनों में जनपद में कोविड-19 के संक्रमित व्यक्तियों की संख्या में वृद्धि हुई है इसे लेकर जन सामान्य परेशान न हो, जिला प्रशासन ने सभी के उपचार के लिए दवा से लेकर हर तरह की व्यवस्था पहले से कर रखी है। उक्त बातें जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने कलेक्ट्रेट में देर रात तक चली बैठक में अधिकारियों के मध्य साझा करते हुए लोगों तक जिला प्रशासन द्वारा की गई तैयारी व व्यवस्था के बारे में विस्तार से बताने को कहा।


       बैठक के दौरान जनपद में दिनांक 26 मई को आए 35 संक्रमित व्यक्ति के बारे में जानकारी प्राप्त करने के साथ अधिकारियों से पूछ रहे थे कहां से आए, कब आए, इनके साथ इनके परिवार के और कौन-कौन से लोग जनपद में आने के बाद से ये कहां-कहां गए, किस-किस से मिले। बैठक में जैसे-जैसे जानकारी प्राप्त हो रही थी क्षेत्रीय अधिकारियों को सर्विलांस टीम एक्टिव करने के साथ संपर्क में आए सभी व्यक्तियों को होम कोरंटाइन करने या कोरंटाइन सेन्टर भेजने के निर्देश देते रहे।  बैठक में उपस्थित मुख्य विकास अधिकारी प्रथमेश कुमार सभी जानकारियां जिलाधिकारी को स्टेप बाई स्टेप उपलब्ध करा रहे थे। दूसरी तरफ मुख्य चिकित्सा अधिकारी कोरोना से संक्रमित मिले व्यक्तियों के उपचार शुरू करने के बाबत जानकारी दे रहे थे। बैठक के दौरान सभी अधिकारी शांत भाव से सभी व्यवस्था में लगे थे।


      देर रात्रि 8ः00 बजे तक सभी के उपचार शुरू हो जाने के बाद बैठक में अगले दिन की रणनीति की तैयारी के साथ समाप्त हुई। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रथमेश कुमार, नगर आयुक्त नीरज शुक्ला, अपर जिलाधिकारी नगर डा0 वैभव शर्मा, वित्त एवं राजस्व  गोरेलाल शुक्ला, प्रशासन संतोष कुमार सिंह, सीआरओ पीडी गुप्ता, सीएमओ घनश्याम सिंह, डीएसओ सोमनाथ यादव व उपायुक्त आशुतोष सिंह सहित कई अधिकारी उपस्थित होकर जानकारियाॅ दे रहे थे।


       बैठक में जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने मनरेगा के तहत कराए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी मांगी। मनरेगा की जानकारी देते हुए डीसी मनरेगा श्री नागेंद्र मोहन त्रिपाठी ने जिला मजिस्ट्रेट को बताया कि जनपद में 796 ग्राम पंचायतों में 1626 स्थलों पर मनरेगा के कार्य चल रहे हैं ,जिस में प्रतिदिन 75200 श्रमिक कार्य कर रहे हैं, इसमें प्रवासी श्रमिक कि संख्या 16598 सम्मिलित है ।अब तक 523998 मानव दिवसों का सृजन किया जा चुका है। सम्प्रति 9326 नए जॉब कार्ड प्रवासी श्रमिकों के बनाए गए हैं । अन्य प्रांतों से आ रहे प्रवासी श्रमिकों के भी जॉब कार्ड  निरन्तर बनाए जा रहे हैं और उनके  स्किल के हिसाब से मनरेगा के तहत उन्हें कार दिया जा रहा है।