लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर 237 लोगों पर मुकदमें पंजीकृत- जिलाधिकारी

             


               जिले में 1 कोरोना  पॉजिटिव केस और पाया गया , अब संख्या हुई 24


        महराजगंज, जिलाधिकारी डा0 उज्ज्वल कुमार ने बताया कि दिनांक 18 मई को प्रेषित किए गए कोरोना जांच नमूनों की शेष  रिपोर्ट भी आज प्राप्त हो गई है, जिसके अनुसार 1 नमूना पॉजिटिव पाया गया  है । पॉजिटिव पाए गए  प्रवासी कामगार ग्राम राजापुर  लक्ष्मीपुर का रहने वाला है, जो मुंबई से आया,।जिसे इलाज हेतु मेडिकल कॉलेज गोरखपुर भेजा जा रहा है । इस प्रकार अब एक्टिव केसेस की संख्या 24 हो गई है। ज्ञात हो कि गत दिवस भी 18 मई की जांच रिपोर्ट के अनुसार भी 8 पॉजिटिव के  केसेस पाए गए थे।


कोरोना जांच हेतु अब तक प्रेषित किए गए कुल  नमूने- 1305
जिले में कुल कोरोना मामले- 32
 जिले में कुल कोरोना एक्टिव मामले- 24
जिले में कुल उपचारित होकर डिस्चार्ज हुए मामले -07
मृतक-01
 जिले में कुल मेडिकल Quarantine-मामले -335 
होम Quarantine-मामले-78230
जिले में कुल मेडिकल स्क्रीनिंग मामले-78665
आज आए प्रवासी कामगार-3800
कुल आये प्रवासी कामगार-78665
जिले में कुल कोविड केयर बेड उपलब्धता-620
जिले में कुल निगरानी समितियां 983
 कुल राशन किट्स  का वितरण-15700
आज राशन किट्स  का वितरण-6200
22 मई को (आज) प्रेषित किए गए जांच हेतु नमूने-63
 हॉटस्पॉट गांव-09-
-रतन पुरवा, सदर
 मोहनापुर, सदर 
महुआ महुई, सदर
 चेहरी, सदर
 कांध, सदर 
सरोजनी नगर, नौतनवा
 महुआ महुई  उर्फ टोला सपाही, फरेंदा
सोन चिरैया, फरेंदा
खेसरारी भरपटिया, निचलौल
जिला सूचना कार्यालय महराजगंज द्वारा  प्रसारित।


         जिलाधिकारी डॉक्टर उज्ज्वल कुमार ने बताया कि कोरोना वैश्विक महामारी के दृष्टिगत लागू किए गए लॉकडाउन  के दौरान लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर पुलिस द्वारा अब तक निम्नानुसार कार्रवाई की गई l
          धारा 188 के अंतर्गत 237 लोगों पर  मुकदमे  पंजीकृत किए गए हैं तथा 988 गिरफ्तारियां हूई  । इसी प्रकार  ईसी एक्ट के अंतर्गत 06 मुकदमे, ब्लैक मार्केटिंग के अंतर्गत 4 मुकदमे, 10485 वाहनों का चालान किया गया, 491 वाहन सीज किए गए तथा रु0 1302900 का जुर्माना वसूल किया गया l जिलाधिकारी ने जनसामान्य से अपील की है कि वह अनावश्यक घर से बाहर ना निकले । यदि बहुत आवश्यक हो तो मास्क/ गमछा/ दुपट्टा से नाक मुंह ढक कर ही निकले व सामाजिक दूरी को बनाए रखें। इसके साथ ही उन्होंने होम क्वॉरेंटाइन हुए  लोगों के परिजनों व निगरानी समितियों से अपील की है कि उन पर कड़ी नजर रखें और वह घर से बाहर किसी भी दशा में ना निकल पाए। वह स्वयं सुरक्षित रहें और दूसरों को भी सुरक्षित रखें।