मुख्यमंत्री योगी का श्रमिकों और कामगारों को उपहार

 


    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का श्रमिकों और कामगारों को उपहार,एक साथ 30 लाख श्रमिकों को 300 करोड़ के भरण पोषण भत्ते का उपहार,मई दिवस पर श्रमिकों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग से संवाद भी करेंगे सीएम योगी


    सीएम की तरफ से हर श्रमिक के खाते में एक एक हजार रूपये का भरण पोषण भत्ता,यूपी सरकार कामगारों और श्रमिकों के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध,मई दिवस पर श्रमेव जैसे का उद्घोष हुआ.


    कोरोना के कारण रुकी गतिविधियों से प्रभावित श्रमिकों के लिए सरकार लगातार काम कर रही.24 मार्च 2020 को 5.97 लाख  निर्माण श्रमिकों के भरण-पोषण के लिए उनके खाते में ₹1000 भेजे गए.30 अप्रैल 2020 को इस योजना के तहत 16.08 लाख निर्माण श्रमिकों के खाते में एक-एक हजार की राशि का भुगतान हुआ.160 करोड़ 82 लाख रुपए यूपी सरकार अब तक श्रमिकों के खाते में भेज चुकी.30 अप्रैल को 7.67 लाख दिहाड़ी मजदूरों के खाते में 1000 प्रति श्रमिक भेजा गया.ग्रामीण इलाकों में 30 अप्रैल तक 5 लाख 55 हजार निराश्रित व्यक्तियों को 55.5 करोड़ का भुगतान किया गया.30 मार्च 2020 को 27 लाख 15 हजार मनरेगा मजदूरों के खाते में डीबीटी के माध्यम से 611 करोड़ भेजा गया.30 अप्रैल तक प्रदेश की 44806 इकाइयों से श्रमिकों को 602.77 करोड़ के वेतन का भुगतान कराया.


    अंत्योदय मनरेगा श्रमिकों श्रम विभाग में पंजीकृत श्रमिकों दिहाड़ी मजदूरों को निशुल्क राशन दिया गया.आज 1 मई से पुनः खाद्यान्न वितरण प्रारंभ किया जा रहा.दिल्ली से करीब चार लाख हरियाणा से 12 हजार प्रवासी श्रमिकों और कामगारों को वापस लाया गया.मध्य प्रदेश राजस्थान उत्तराखंड गुजरात से श्रमिकों को वापस लाने की व्यवस्था की जा रही.श्रमिकों और जरूरतमंदों के लिए 18 करोड़ को राशन उपलब्ध कराया गया.मई दिवस से दुबारा राशन देने का अभियान शुरू.सबको राशन पहुंचाने के लिए वन नेशन-वन कार्ड योजना यूपी में लागू.योजना के तहत यूपी के प्रवासी श्रमिक, कामगारों को देश के किसी भी हिस्से में मिलेगा राशन.सिर्फ राशन कार्ड नंबर बताकर दूसरे प्रदेश के लोगों को यूपी में भी मिलेगा राशन.