निगरानी समिति के सदस्यों को इसके कार्यो व दायित्वों की जानकारी ही नही

     अब्दुल जब्बार व अनिल कुमार मिश्रा 


        भेलसर(अयोध्या)तहसील रूदौली क्षेत्र के गाव और मोहल्ला वार्डो में शासन के निर्देश पर गठित निगरानी समिति के अध्यक्षो को निगरानी समिति के दायित्वों की जानकारी तक नही है।मालूम हो कि शासन ने प्रवासी मजदूरों और गाव मोहल्लों की जानकारी निगरानी समिति का गठन किया है।जिसमे गाव का ग्राम प्रधान और शहरी क्षेत्र में वार्ड सभासद को अध्यक्ष नामित किया गया है।विकास खण्ड रुदौली के ग्राम मुजफ्फरपुर के प्रधान अंजनी पांडेय,कैथी के राजेन्द्र चौरसिया,विकास खण्ड मवई प्रधान राजेश यादव,नगर पालिका रुदौली के वार्ड पूरे रसूल बख़्स के सभासद कुलदीप सोनकर, वार्ड कजियाना के आशीष वैश्य,ख़्वाजहाल के इरफान खान,न्याग़ज़ के उमाशंकर ने बतया की निगरानी समिति के अध्यक्ष बनाये जाने की जानकारी नही है। निगरानी समिति में और कौन कौन दूसरे सदस्यों शामिल है समित का क्या कार्य है इसकी भी कोई जानकारी नही है।


        जन प्रतिनिधियों ने बतया की सरकार की गाइड लाइन विकास खण्ड अथवा पालिका से शासन से आये निर्देशो की गाइड लाइन नही उपलब्ध कराई गई।गाव अथवा वार्डो में बस निगरानी समिति के गठन की सूचना अखबारो और सूचना तंत्र से मिल रही है।इसके लिए खण्ड विकास अधिकारी अथवा नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी के फोन तक नही आये।पालिका के सदस्य कुलदीप सोनकर ने बताया कि एक दिन कोतवाली के सिपाही आये और मोहल्ले के कुछ लोगो के साथ फोटो ले लिया।पूछने पर बतया कि ये निगरानी समिति है।जबकि किसी को इसके गठन और उद्देश्य की जानकारी तक नही है। खण्ड विकास अधिकारी रुदौली नागेंद्र मोहन त्रिपाठी के बात करने का प्रयास किया फोन पहुच के बाहर बतता रहा।ईओ रण विजय सिंह ने बताया कि वार्ड में निगरानी समिति गठित की गई है।पालिका के कर्मी लगाए गए है।सभासदों को शासन के निर्देश की प्रतिलिपि की छाया प्रति भेजी जाएगी।सभासदों से बात न हो पाने की बात स्वीकार किया।एसडीएम विपिन सिंह ने शासन से नामित अध्यक्ष ग्राम प्रधान और सभासदो को गठन की जानकारी न होने पर नाराजगी जताई।कहा कि शीघ्र सारी सूचनाएं जनप्रतिनिधियों को पहचाने के निर्देश दिए जा रहे है।