फार्मा तथा मेडिकल डिवाइस पार्क की स्थापना के लिए लैण्ड बैंक चिन्हित किए जाने के निर्देश


    मुख्यमंत्री के समक्ष फार्मा पार्क एवं मेडिकल डिवाइस पार्क के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण। 


 

     प्रदेश में फार्मा व मेडिकल डिवाइस पार्क तथा औषधीय पौधों के सम्बन्ध में नीतिगत प्रस्ताव शीघ्र प्रस्तुत किए जाने के निर्देश। पार्कों की स्थापना से राज्य में दवाइयों और चिकित्सकीय उपकरणों के उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा। राज्य में पार्कों की स्थापना के लिए पर्याप्त मानव संसाधन, अवस्थापना सुविधाओं के साथ-साथ भूमि उपलब्ध। 

 

       लखनऊ, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में फार्मा पार्क, मेडिकल डिवाइस पार्क तथा औषधीय पौधों के सम्बन्ध में नीतिगत प्रस्ताव शीघ्र प्रस्तुत किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी से उत्पन्न वर्तमान परिदृश्य के दृष्टिगत प्रदेश में इन पार्कों की स्थापना की व्यापक सम्भावनाएं हैं। इनकी स्थापना से दवाइयों और चिकित्सकीय उपकरणों के उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि पूंजी निवेशकों और उद्यमियों को आकर्षित करने के लिए आवश्यकतानुसार पूर्व की नीतियों में संशोधन किए जाएं। उन्होंने इस सम्बन्ध में विशेषज्ञों के भी सुझाव प्राप्त करने के निर्देश दिए। 

 

      मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां अपने सरकारी आवास पर फार्मा पार्क, मेडिकल डिवाइस पार्क तथा औषधीय पौधों के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण के अवसर पर अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य में पर्याप्त मानव संसाधन व अवस्थापना सुविधाओं के साथ-साथ भूमि भी उपलब्ध है। उन्होंने अधिकारियों को फार्मा तथा मेडिकल डिवाइस पार्क की स्थापना के लिए लैण्ड बैंक चिन्हित किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा घोषित किए गए विशेष आर्थिक पैकेज एवं सम्बन्धित नीतियों के दृष्टिगत प्रस्ताव दिए जाएं। उन्होंने बुन्देलखण्ड क्षेत्र में भी फार्मा पार्क की स्थापना के बारे में विचार किए जाने की बात कही। 

 

    मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 तथा अन्य रोगों के दृष्टिगत दवाइयों एवं मेडिकल उपकरणों की मांग तेजी से बढ़ी है। ऐसे में राज्य को फार्मा एवं मेडिकल डिवाइस पार्कों की स्थापना के लिए तेजी से तैयारी करनी होगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों की इकाइयां बड़ी संख्या में स्थापित हैं। इनके अलावा, सी0डी0आर0आई0, एन0बी0आर0आई0, सी0मैप, आई0टी0आर0सी0, आई0आई0टी0 कानपुर एवं वाराणसी, एम्स, के0जी0एम0यू0, आई0एम0एस0-बी0एच0यू0 जैसे उत्कृष्ट संस्थान हैं। उन्होंने कहा कि फार्मा आदि पार्कों की स्थापना से रोजगार उपलब्ध होगा। साथ ही, प्रदेश व देश की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी। 

 

      इस अवसर पर मुख्यमंत्री  के समक्ष फार्मा, मेडिकल डिवाइस पार्क की स्थापना के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण किया गया। प्रस्तुतीकरण के बाद अधिकारियों ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के निर्देशों के क्रम में कार्यवाही करते हुए संशोधित प्रस्ताव शीघ्र ही प्रस्तुत किए जाएंगे। प्रस्तुतीकरण के दौरान औद्योगिक विकास मंत्री  सतीश महाना, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री  सिद्धार्थनाथ सिंह, मुख्य सचिव  आर0के0 तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त  आलोक टण्डन, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव मित्तल, प्रमुख सचिव औद्योगिक विकास आलोक कुमार, प्रमुख सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम  नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री  एस0पी0 गोयल एवं सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।