फैसेलिटी सेन्टर एवं हॉट-स्पाट क्षेत्र का जिलाधिकारी ने किया निरीक्षण


     जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक ने फैसेलिटी सेन्टर डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक शिक्षण संस्थान, देल्हूपुर बार्डर तथा हॉट-स्पाट क्षेत्र कसेरूवा का किया निरीक्षण,पृथ्वीगंज बाजार में जिलाधिकारी ने गाड़ी रूकवाकर दो पैदल जा रहे मजदूरों से की पूछताछ तथा घर भेजवाने के दिये निर्देश।

     प्रतापगढ़, जिलाधिकारी डा0 रूपेश एवं पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने आज संयुक्त रूप से फैसेलिटी क्वारेन्टाइन सेन्टर डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक शिक्षण संस्थान, देल्हूपुर बार्डर तथा हॉट स्पाट क्षेत्र कसेरूवा का निरीक्षण किया। फैसेलिटी सेन्टर में जिलाधिकारी ने कम्युनिटी किचेन का निरीक्षण किया, जहां पर खाना बन रहा था तथा क्वारेन्टाइन सेन्टर पर रह रहे प्रवासी श्रमिकों को भोजन वितरित किया जा रहा था।



     जिलाधिकारी ने क्वारेन्टाइन सेन्टर के नोडल अधिकारी को क्वारेन्टाइन सेन्टर पर सफाई कराने तथा सेनेटाइज कराने का निर्देश दिया तथा यह भी निर्देशित किया कि क्वारेन्टाइन सेन्टर लगे हुये सभी कार्मिक प्रवासी श्रमिकों के साथ विनम्रता पूर्ण व्यवहार करें, उनके स्वास्थ्य परीक्षण के बाद उन्हें होम क्वारेन्टाइन हेतु किसी बस अथवा मैजिक से ही घर भेजा जाये। प्रवासी श्रमिकों को खाद्यान्न किट उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में भी जिलाधिकारी ने जानकारी प्राप्त की। उन्होने स्वास्थ्य विभाग की टीम से भी पूछा कि परीक्षण के समय कोई भी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति पाया गया है या नही इस पर डाक्टर द्वारा अवगत कराया गया कि अभी तक के परीक्षण में किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस से संक्रमण का लक्षण नही पाया गया।


        जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि लक्षण पाये जाने पर उस प्रवासी श्रमिक को क्वारेन्टाइन सेन्टर पर ही रखा जायेगा और उनका सैम्पल प्राप्त कर जांच हेतु मेडिकल कालेज भेजवाया जाये। पुलिस अधीक्षक ने सेन्टर पर आने वाले श्रमिक कामगारों के अधिक संख्या को देखते हुये अतिरिक्त पुलिस बल लगाने हेतु अपर पुलिस अधीक्षक को निर्देशित किया। 


        देल्हूपुर बार्डर के निरीक्षण में जिलाधिकारी ने बार्डर पर लगाये गये पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिया कि बार्डर से कोई भी श्रमिक पैदल या साइकिल से यदि यात्रा करते हुये पाया जाये तो उसे रोककर बस पर बैठाकर डा0 जयमंगल सिंह प्राथमिक शिक्षण संस्थान फैसेलिटी सेन्टर पर भेजवाया जाये। निरीक्षण के समय दो ट्रकों पर अत्यधिक संख्या में बैठे श्रमिक कामगारों को उतरवाकर रोडवेज बस पर बैठाकर फैसेलिटी सेन्टर भेजवाया गया। उपजिलाधिकारी सदर को निर्देशित किया गया कि फैसेलिटी सेन्टर पर जनपद प्रतापगढ़ के आने वाले श्रमिकों का अनिवार्य रूप से स्वास्थ्य परीक्षण, भोजन एवं उन्हें खाद्यान्न किट उपलब्ध करायी जाये। पुलिस अधीक्षक द्वारा निर्देशित किया गया कि आने वाले श्रमिक कामगारों को एक साथ गाड़ियों का कानवाय बनाकर सुरक्षा स्कार्ट कराकर उन्हें यथा स्थान भेजवाया जाये ताकि किसी भी प्रकार की दुर्घटना की सम्भावना न रहे। 



        हॉट-स्पाट क्षेत्र कसेरूवा के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने भ्रमण कर पूरे राजस्व गांव का जायजा लिया तथा स्वास्थ्य विभाग एवं पंचायत विभाग को निर्देश दिया कि पूरी राजस्व गांव को सेनेटाइज कराया जाये तथा सर्वे टीम लगाकर सभी व्यक्तियों की थर्मल स्क्रीनिंग करायी जाये एवं उनके स्वास्थ्य विवरण दर्ज किये जाये तथा कान्टैक्ट में आने वाले व्यक्तियों की पहचान कर उन्हें क्वारेन्टाइन किया जाये। हॉट स्पाट क्षेत्र में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई होम डिलीवरी के माध्यम से की जायेगी। हॉट स्पॉट क्षेत्र के निरीक्षण से लौटते समय पृथ्वीगंज बाजार में दो प्रवासी श्रमिक दयाशंकर एवं कमलेश सड़क पर बैग लिये हुये पैदल जाते हुये दिखाई पड़े, जिस पर जिलाधिकारी ने गाड़ी रूकवाकर उनके बारे पूछताछ की तो बताया गया कि वह वापी (गुजरात) से आ रहे है, आगरा तक ट्रेन के द्वारा तदोपरान्त वह बस से प्रतापगढ़ आये है और वह उगईपुर गांव जायेगें। जिलाधिकारी ने इनके स्वास्थ्य के सम्बन्ध में जानकारी ली तो दयाशंकर द्वारा बताया गया कि वह स्वस्थ्य है तथा उसने जिला अस्पताल जाकर जांच करा ली है किन्तु उसके परचे पर किसी डाक्टर की मुहर या हस्ताक्षर नही थी उस पर होम क्वारेन्टाइन की ही मुहर लगी थी, जिसे देखकर जिलाधिकारी नाराज हुये तथा मुख्य चिकित्साधिकारी से इस सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करने के निर्देश दिये। उन्होने दोनो श्रमिकों को उगईपुर गांव भेजने हेतु निर्देशित किया। निरीक्षण के दौरान मुख्य राजस्व अधिकारी श्रीराम यादव, अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेन्द्र प्रसाद द्विवेदी, जिला सूचना अधिकारी विजय कुमार, सी0ओ0 रानीगंज डा0 अतुल अन्जान त्रिपाठी भी उपस्थित रहे।