प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मशाल जुलूस निकालकर कांग्रेसजनों ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की रिहाई की मांग


     प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू  की तत्काल रिहाई किये जाने की मांग को लेकर प्रवासी मजूदरों द्वारा जनपद बस्ती में पंकज द्विवेदी के नेतृत्व में जल सत्यागह शुरू। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सहित पूरे प्रदेश में कांग्रेस नेताओं पर दर्ज फर्जी मुकदमें तुरन्त वापस लिये जाएं।प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मशाल जुलूस निकालकर कांग्रेसजनों ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की रिहाई की मांग की।

       लखनऊ 29 मई, उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू जी की प्रदेश सरकार के इशारे पर की गयी अलोकतांत्रिक गिरफ्तारी के खिलाफ अन्य प्रदेशों से लौटे प्रवासी मजदूरों ने जनपद बस्ती में श्री पंकज द्विवेदी के नेतृत्व में कुंआनों नदी में जल सत्याग्रह शुरू कर दिया है। इस सत्याग्रहण के तहत सभी प्रवासी मजदूरध्श्रमिक भाई कुंआनों नदी में खड़े होकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी की रिहाई की मांग हेतु आन्देालन कर रहे हैं।  



      कोरोना महामारी से पूरा देश प्रभावित है इसके चलते लगाये गये लाॅकडाउन से लाखों प्रवासी मजदूर, किसान, असंगठित क्षेत्र में काम करने सभी प्रकार के दिहाड़ी मजदूर अत्यन्त पीड़ित हैं। दो माह से अधिक समय से खाने-पीने, अपने रोजगार तथा अन्य जीवनोपयोगी जरूरी सामनों के अभाव में संघर्ष करने के लिए विवश हैं। केन्द्र एवं प्रदेश की भाजपा सरकार की मजदूरध्श्रमिक विरोधी रवैये के चलते ये राष्ट्र निर्माण श्रमिक हजारों किलोमीटर पैदल चलकर, ट्रकों में भरकर किसी तरह अपने गंतव्य तक पहुंचने का प्रयास कर रहे हैं और अपने गंतव्य तक पहुंचने में किसी तरह सफल होने पर उन्हें दो सप्ताह तक बड़ी ही अमानवीय पीड़ा झेलना पड़ रहा है, क्योंकि कोरान्टाइन सेंटरों की हालात बहुत खराब है न उन्हें ठहरने की उचित व्यवस्था ही है और न ही खाने-पीने की समुचित व्यवस्था ही है।  


      इन सभी पीड़ादायक परिस्थितियों को देखते हुए दूसरे राज्यों में काम करने के लिए गये हुए मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए कांग्रेस पार्टी द्वारा एक हजार बसें चलाने का निर्णय लिया गया था जिसे प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार की दलगत विद्वेषपूर्ण राजनीति के चलते मंजूरी तक नहीं दी गयी और यूपी के बार्डर पर तीन-तीन दिनों तक बसें खड़ी रहने के बाद वापस हुईं और श्रमिक, कामगार भाई-बहन अभी भी अपने घरांे तक आने के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं, इसका विरोध करने पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी को प्रदेश सरकार के इशारे पर पहले आगरा में गिरफ्तार किया गया और बाद में फर्जी मुकदमें लगाकर लखनऊ की जेल में भेज दिया गया जो दिनांक 21 मई से लखनऊ जेल में निरूद्ध हैं। इतना ही नहीं प्रदेश सरकार ने तानाशाही और विद्वेषपूर्ण कार्यवाही करते हुए पूरे प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के जिलाध्शहर अध्यक्षों और नेताओं पर भी फर्जी मुकदमें दर्ज किये गये।  


      प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अशोक सिंह ने बताया कि जल सत्याग्रह कर रहे पंकज द्विवेदी एवं प्रवासी श्रमिक भाईयों ने मांग की है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू  को तत्काल रिहा किया जाये और प्रदेश भर के जिलोें-जिलों में कांग्रेस नेताओं के खिलाफ दर्ज किये गये फर्जी मुकदमें अविलम्ब वापस लिये जायें।


        प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेसजनों द्वारा मशाल जुलूस निकालकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू  को तत्काल रिहा किये जाने की मांग की गयी। इस मौके पर कांग्रेसजनों द्वारा शपथ ली गयी कि ‘‘इस महामारी में अपनी पूरी शक्ति के साथ, पूरे तन-मन-धन से मानवता की सेवा करेंगे। इस महामारी में जनसेवा ही हमारा सबसे बड़ा धर्म है। हमारे प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को उत्तर प्रदेश की मजदूर विरेाधी सरकार ने जेल में डाल दिया, लेकनि सरकार का यह दमन हमारे सेवा कार्य को रोक नहीं पायेगा।
मशाल जुलूस में प्रमुख रूप से उपाध्यक्ष  वीरेन्द्र चैधरी, महामंत्री  विश्वविजयसिंह,  शालिनी सिंह, अनस रहमान, मो0 तारिक, रथिन चक्रवर्ती सहित सैंकड़ों कांग्रेसजन शामिल रहे।प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में चल रहे क्रमिक अनशन के तहत महिला कांग्रेस की अध्यक्ष ममता चैधरी के नेतृत्व में सुशीला शर्मा, गजाला सिद्दीकी आदि महिलाओं द्वारा अनशन करके प्रदेश कंाग्रेस अध्यक्ष की रिहाई की मांग की गयी।